Ushshaaq Ka Naa’ra Hai Attar Hamaara Hai Naat Lyrics

Ushshaaq Ka Naa’ra Hai Attar Hamaara Hai Naat Lyrics

 

 

मैं दीवाना, मुर्शिद ! तेरा
मुर्शिद है ‘अत्तार मेरा

मेरे ‘अत्तार ! प्यारे ‘अत्तार !
मेरे ‘अत्तार ! प्यारे ‘अत्तार !

‘उश्शाक़ का ना’रा है, ‘अत्तार हमारा है
‘अत्तार हमें अपने दिल-जान से प्यारा है

मुर्शिदी ‘अत्तार पर नूर की बरसात हो
मुर्शिदी ‘अत्तार पर नूर की बरसात हो

हक़ वालों की है हामी, ये दावत-ए-इस्लामी
अल्लाह की रहमत का बहता हुआ धारा है

‘उश्शाक़ का ना’रा है, ‘अत्तार हमारा है
‘अत्तार हमें अपने दिल-जान से प्यारा है

मुर्शिदी ‘अत्तार पर नूर की बरसात हो
मुर्शिदी ‘अत्तार पर नूर की बरसात हो

दीवाने बने गुलशन, जब चल पड़े मस्ताने
‘अत्तार की मेहनत से ये बाग़-ए-दिल-आरा है

‘उश्शाक़ का ना’रा है, ‘अत्तार हमारा है
‘अत्तार हमें अपने दिल-जान से प्यारा है

मुर्शिदी ‘अत्तार पर नूर की बरसात हो
मुर्शिदी ‘अत्तार पर नूर की बरसात हो

ये सारी ज़ियाएँ हैं, बग़दाद के मुर्शिद की
‘अत्तार के जल्वों का पुर-कैफ़ नज़ारा है

‘उश्शाक़ का ना’रा है, ‘अत्तार हमारा है
‘अत्तार हमें अपने दिल-जान से प्यारा है

मुर्शिदी ‘अत्तार पर नूर की बरसात हो
मुर्शिदी ‘अत्तार पर नूर की बरसात हो

अल्लाह के वलियों तक मुर्शिद ने ही पहुँचाया
ख़्वाजा भी हमारा है, दाता भी हमारा है

‘उश्शाक़ का ना’रा है, ‘अत्तार हमारा है
‘अत्तार हमें अपने दिल-जान से प्यारा है

मुर्शिदी ‘अत्तार पर नूर की बरसात हो
मुर्शिदी ‘अत्तार पर नूर की बरसात हो

नात-ख़्वाँ:
हसनैन रज़ा अत्तारी

 

main deewaana, murshid tera
murshid hai ‘attar mera

mere ‘attar ! pyaare ‘attar !
mere ‘attar ! pyaare ‘attar !

‘ushshaaq ka naa’ra hai, ‘attar hamaara hai
‘attar hame.n apne dil-jaan se pyaara hai

murshidi ‘attar par noor ki barsaat ho
murshidi ‘attar par noor ki barsaat ho

haq waalo.n ki hai haami, ye daawat-e-islami
allah ki rahmat ka bahta huaa dhaara hai

‘ushshaaq ka naa’ra hai, ‘attar hamaara hai
‘attar hame.n apne dil-jaan se pyaara hai

murshidi ‘attar par noor ki barsaat ho
murshidi ‘attar par noor ki barsaat ho

deewaane bane gulshan, jab chal pa.De mastaane
‘attar ki mehnat se ye baaG-e-dil-aara hai

‘ushshaaq ka naa’ra hai, ‘attar hamaara hai
‘attar hame.n apne dil-jaan se pyaara hai

murshidi ‘attar par noor ki barsaat ho
murshidi ‘attar par noor ki barsaat ho

ye saari ziyaae.n hai.n, baGdaad ke murshid ki
‘attar ke jalwo.n ka pur-kaif nazaara hai

‘ushshaaq ka naa’ra hai, ‘attar hamaara hai
‘attar hame.n apne dil-jaan se pyaara hai

murshidi ‘attar par noor ki barsaat ho
murshidi ‘attar par noor ki barsaat ho

allah ke waliyo.n tak murshid ne hi pahunchaya
KHwaja bhi hamaara hai, daata bhi hamaara hai

‘ushshaaq ka naa’ra hai, ‘attar hamaara hai
‘attar hame.n apne dil-jaan se pyaara hai

murshidi ‘attar par noor ki barsaat ho
murshidi ‘attar par noor ki barsaat ho

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *