Noor Ne Noor Ke Saanche Me Jo Dhaali Tasveer Naat Lyrics

 

 

Shayar: Ajmal Sultanpuri | Naat e Paak

 

नूर ने नूर के सांचे में जो ढाली तस्वीर

सारी शक्लों से हसीं सब से निराली तस्वीर

शक्ले इसान में हक़ बोलने वाली तस्वीर

जब मुसब्बिर ने मुकम्मल वो बना ली तस्वीर

 

नाज़ से ख़ालिक़े अकबर ने कहा वाह रे मैं

और तस्वीर यह बोल उठ्ठी कि अल्लाह रे मैं

 

Noor Ne Noor Ke Saanche Me Jo Dhaali Tasveer

Saari Shaklon Se Hasi Sub Se Nirali Tasveer

 

Shakle Insaan Me Haq Bolne Waali Tasveer

Jab Musabbir Ne Mukammal Wo Bana Li Tasveer

Naaz Se Khaliq E Akbar Ne Kaha Wah Re Mein

Aur Tasveer Yeh Bol Uththi Ki Allah Re Mein

 

 

जिसकी तशवीह भी दी जा न सके वो तस्वीर

जिसकी तशरीह भी की जा न सके वो तस्वीर

जिसकी तस्वीर भी ली जा न सके वो तस्वीर

वह जो तस्वीर कही जा न सके वो तस्वीर

खुद बना कर यदे कुदरत ने कहा वाह रे मैं

और तस्वीर यह बोल उठ्ठी कि अल्लाह रे मैं

Jiski Tashweeh Bhi Di Jaa Na Sakey Wo Tasveer

Jiski Tashreeh Bhi Ki Ja Na Sakey Wo Tasveer

Jiski Tasveer Bhi Lee Ja Na Sakey Wo Tasveer

Wah Jo Tasveer Kahi Ja Na Sakey Wo Tasveer

Khud Bana Kar Yade Qudrat Ne Kaha Waah Re Mein

Aur Tasveer Yeh Bol Uththi Ki Allah Re Mein

 

 

ऐसी तस्वीर जो सूरत गरे आईना बनी

ऐसी तस्वीर कि जो नक़्शे दिलो सीना बनी

ऐसी तस्वीर कि जो हुस्न का गन्जीना बनी

ऐसी तस्वीर किसी ने न बनाई न बनी

मूजिदे सूरतो सीरत ने कहा वाह रे मैं

और तस्वीर यह बोल उठ्ठी कि अल्लाह रे मैं

Aisi Tasveer Jo Soorat Garey Aaina Bani

Aisi Tasveer Ki Jo Naqshe Dilo Seena Bani

Aisi Tasveer Ki Jo Husn Ka Ganjeena Bani

Aisi Tasveer Kisi Ne Na Banaai Na Bani

Moojide Soorat Seerat Ne Kaha Waah Re Mein

Aur Tasveer Yeh Bol Bol Uththi Ki Allah Re Mein

 

 

जिसके नज़्ज़ारे को आईना फिसल जाता है

नक़्शे पा लेने को पत्थर भी पिघल जाता है

दीद का रंग तहय्युर में बदल जाता है

देखता है जो वो तस्वीर मचल जाता है

नाज़ से साहेबे अज़मत ने कहा वाह रे मैं

और तस्वीर यह बोल उठ्ठी कि अल्लाह रे मैं

Jiske Nazzare Ko Aaina Fiasal Jata Hai

Naqshe Paa Lene Ko Patthar Bhi Pighal Jata Hai

Deed Ka Rang Tahyyur Me Badal Jata Hai

Dekhta Hai Jo Wo Tasveer Machal Jata Hai

Naaz Se Saahebe Azmat Ne Kaha Wah Re Mein

Aur Tasveer Yeh Bol Bol Uththi Ki Allah Re Mein

 

 

इन्स वो जिन्नों बशर कर्रो बयां से पहले

कुर्सियों लौहो क़लम अर्शो जहां से पहले

ईं वा आं चूं व चुनाँ लफ़्ज़ो बयाँ से पहले

वो जो तश्कील हुई फ़हमों गुमां से पहले

उसकी तारीफ़ में क़ुदरत ने कहा वाह रे मैं

और तस्वीर यह बोल उठ्ठी कि अल्लाह रे मैं

Ins Wo Jinno(n) Bashar Karro Baya(n) Se Pahle

Kursiyaa(n) Louho Qalam Arsho Jahan Se Pahle

Ee(n) Wa Aa(n) Choo(n) Chuna(n) Byan(n) Se Pahle

Wo Jo Tashkeel Hui Fahmo(n) Guma(n) Se Pahle

Uski Taareef Me Qudrat Ne Kaha Wah Re Mein

Aur Tasveer Yeh Bol Bol Uththi Ki Allah Re Mein

 

 

जब हुआ कलबदे आदमे ख़ाकी तैयार

ख़द्दो ख़ालो रुख़ो गेसू के खिंचे नक़्शो निगार

नूरे अह़मद से जो पेशानी हुई पुर अनवार

तब कहीं रुह को आया तने आदम में क़रार

तो बसद नाज़ ये रह़मत ने कहा वाह रे मैं

और तस्वीर यह बोल उठ्ठी कि अल्लाह रे मैं

Jab Hua Kalbade Aadme Khaaqi Tayyaar

Khaddo Khaalo Rukho Gesoo Ke Khiche Naqsho Nigaar

Noore Ahmad Se Jo Peshani Hui Pur Anwaar

Tub Kahi Rooh Ko Aaya Tane Aadam Me Qaraar

To Basad Naaz Ye Rahmat Ne Kaha Wah Re Mein

Aur Tasveer Yeh Bol Bol Uththi Ki Allah Re Mein

 

 

जिससे हर शक्ल नमूदार हुई वह तस्वीर

हुस्ने इन्सान का जो मेअ़यार हुई वह तस्वीर

हर तरह से जो तरहदार हुई वह तस्वीर

ख़ल्क़ से पहले जो तैयार हुई वह तस्वीर

ख़ल्क़ फ़रमा के मशीयत ने कहा वाह रे मैं

और तस्वीर यह बोल उठ्ठी कि अल्लाह रे मैं

Jisse Har Shakl Namoodar Hui Wah Tasveer

Husne Insaan Ka Jo Mea’yaar Hui Wah Tasveer

Har Tarha Se Jo Tahardaar Hui Wah Tasveer

Khalq Se Pahle Jo Tayyar Hui Wah Tasveer

Khalq Farma Ke Mashiyat Ne Kaha Waah Re Mein

Aur Tasveer Yeh Bol Bol Uththi Ki Allah Re Mein

 

 

बेहतरो बरतरो आला तरो अफ़ज़ल तस्वीर

हर तरह कामिलो अकमल व मुकम्मल तस्वीर

आख़िरी नक़्श जिसे कहिये वो अव्वल तस्वीर

जब बना ली यदे क़ुदरत ने वो अजमल तस्वीर

नाज़ से सानेअ़ए सनअ़त ने कहा वाह रे मैं

और तस्वीर यह बोल उठ्ठी कि अल्लाह रे मैं

Behtaro Bartaro Aala Taro Afzal Tasveer

Har Tarha Kaamilo Akmal Wa Mukammal Tasveer

Aakhiri Naqsh Jise Kahiye Wo Awwal Tasveer

Jab Bana Li Yade Qudrat Ne Wo Ajmal Tasveer

Naaz Se Saanea’e San’at Ne Kaha Waah Re Mein

Aur Tasveer Yeh Bol Bol Uththi Ki Allah Re Mein

 

By sulta