Paate Hain Sukoon Dil Ka Insaane Madine Me Lyrics

 

मदीना मदीना मदीना

मदीना मदीना मदीना

 

पाते हैं सुकूं दिल का इंसान मदीने में

आते हैं गदा बनकर सुल्तान मदीने में

 

सरकार के क़दमों में मिट जाते हैं दुख सारे

हो जाती है हर मुश्किल आसान मदीने में

 

भर जाते हैं रह़मत से कशकोल फक़ीरों के

हो जाते हैं सब पूरे अरमान मदीने में

 

मुझको है यकीं इक दिन उमरे पे मैं जाऊंगा

गुज़रेगा मेरा माह-ए-रमज़ान मदीने में

 

दरबार सख़ी का है जो मांगना है मांगो

करते हैं फ़रिश्ते ये ऐलान मदीने में

 

देखोगे उजाले तुम रातों को भी दिन जैसे

हो जाओगे तुम जाकर हैरान मदीने में

 

वापस न कभी आऊं सरकार की बस्ती से

फ़ारूक़ निकल जाए मेरी जान मदीने में

 

Naat Khwan: Umair Zubair

Shayar: Sohail Kalim Farooqi

 

Madina Madina Madina

Madina Madina Madina

 

Paate Hain Sukoon Dil Ka Insaane Madine Me

Aate Hain Gada Banker Sultan Madine Me

 

Sarkar Ke Qadmon Me Mit Jate Hain Dukh Sare

Ho Jaati Hai Har Mushkil Aasaan Madine Me

 

Bhar Jaate Hain Rahmat Se Kashkol Faqiron Ke

Ho Jate Hain Sab Poore Arman Madine Me

 

Mujhko Hai Yaqi.N Ik Din Umre Pe Main Jaunga

Guzrega Mera Mahe Ramzan Madine Me

 

Darbar Sakhi Ka Hai Jo Maangna Hai Maango

Karte Hain Farishte Ye Ailan Madine Me

 

Dekhoge Ujale Tum Raaton Ko Bhi Din Jaise

Ho Jaoge Tum Ja Kar Hairan Madine Me

 

Bapas Na Kabhi Aaun Sarkar Ki Wasti Se

Farooq Nikal Jaye Meri Jaan Madine Me

By sulta