Mubarak Mubarak Huzoor Aa Rahe Hain Naat Lyrics

Mubarak Mubarak Huzoor Aa Rahe Hain Naat Lyrics

हुज़ूर आ रहे हैं, हुज़ूर आ रहे हैं

मरहबा ! मरहबा ! मरहबा ! मरहबा !

मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं
मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं

न क्यूँ आज झूमें कि सरकार आए
ख़ुदा की ख़ुदाई के मुख़्तार आए

न क्यूँ बारह्वीं पे हमें प्यार आए
कि आए इसी रोज़ सरकार आए

मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं
मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं

हुज़ूर की आमद ! मरहबा !
पुर-नूर की आमद ! मरहबा !
सादिक़ की आमद ! मरहबा !
अमीन की आमद ! मरहबा !

मुसर्रत से हम क्यूँ न धूमें मचाएँ
हमारे शहंशाह-ओ-सरदार आए

मुसलमानो ! सुब्ह-ए-बहाराँ मुबारक
वो बरसाते अनवार सरकार आए

मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं
मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं

मुबारक तुझे, आमिना ! हो मुबारक
तेरे घर शहंशाह-ए-अबरार आए

मुबारक, हलीमा ! तुझे भी मुबारक
तेरे घर में नबियों के सरदार आए

मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं
मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं

‘अदद हम को बारह का क्यूँ हो न प्यारा
कि बारह को दुनिया में सरकार आए

दुरूदों के गजरे लिये अब बढ़ो तुम
वो आए रसूलों के सालार आए

मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं
मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं

अव्वल की आमद ! मरहबा !
आख़िर की आमद ! मरहबा !
यासीन की आमद ! मरहबा !
ताहा की आमद ! मरहबा !

सुवाल अपनी उम्मत की बख़्शिश का करते
वो हम ‘आसियों के तरफ़-दार आए

न क्यूँ आज जश्न-ए-विलादत मनाएँ
नज़र रब की रहमत के आसार आए

मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं
मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं

‘नहीं’ जिन की प्यारी ज़ुबाँ पर नहीं है
वो मक्के में सख़ियों के सरदार आए

विलादत का सदक़ा, हमें अपना ग़म दो
शहा ! चश्म-ए-नम के तलबगार आए

मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं
मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं

यतीमों के वाली, ग़रीबों के हामी
वो आफ़त-ज़दों के मददगार आए

सियाही हमारे गुनाहों की धोने
बहाते हुए अश्क सरकार आए

मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं
मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं

विलादत का सदक़ा, बक़ी’-ए-मुबारक
की दो गज़ ज़मीं के तलबगार आए

विलादत का सदक़ा, मदीने में, आक़ा !
मुझे मौत, ए मेरे सरकार ! आए

मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं
मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं

विलादत का सदक़ा, निक़ाब अब उठा दो
लिये हम सब उम्मीद-ए-दीदार आए

विलादत का सदक़ा, पड़ोसी बनाना
शहा ! ख़ुल्द में जब ये बद-कार आए

विलादत का सदक़ा, शहा ! ज़िंदगी में
मदीने में हर साल ‘अत्तार आए

मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं
मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं

सरकार की आमद ! मरहबा !
दिलदार की आमद ! मरहबा !
सालार की आमद ! मरहबा !
सरदार की आमद ! मरहबा !

मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं
मुबारक ! मुबारक ! हुज़ूर आ रहे हैं

शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
अब्दुल हबीब अत्तारी, आसिफ़ अत्तारी और
आरिफ़ अत्तारी


huzoor aa rahe hai.n, huzoor aa rahe hai.n

marhaba ! marhaba ! marhaba ! marhaba !

mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n
mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n

na kyu.n aaj jhoome.n ki sarkaar aae
KHuda ki KHudaai ke muKHtaar aae

na kyu.n baarahwee.n pe hame.n pyaar aae
ki aae isi roz sarkaar aae

mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n
mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n

huzoor ki aamad ! marhaba !
pur-noor ki aamad ! marhaba !
saadiq ki aamad ! marhaba !
ameen ki aamad ! marhaba !

musarrat se ham kyu.n na dhoome.n machaae.n
hamaare shahanshaah-o-sardaar aae

musalmaano ! sub.h-e-bahaaraa.n mubaarak
wo barsaate anwaar sarkaar aae

mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n
mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n

mubaarak tujhe, aamina ! ho mubaarak
tere ghar shahanshaah-e-abraar aae

mubaarak, haleema ! tujhe bhi mubaarak
tere ghar me.n nabiyo.n ke sardaar aae

mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n
mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n

‘adad ham ko baarah ka kyu.n ho na pyaara
ki baarah ko duniya me.n sarkaar aae

duroodo.n ke gajre liye ab ba.Dho tum
wo aae rasoolo.n ke saalaar aae

mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n
mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n

awwal ki aamad ! marhaba !
aaKHir ki aamad ! marhaba !
yaaseen ki aamad ! marhaba !
taaha ki aamad ! marhaba !

suwaal apni ummat ki baKHshish ka karte
wo ham ‘aasiyo.n ke taraf-daar aae

na kyu.n aaj jashn-e-wilaadat manaae.n
nazar rab ki rahmat ke aasaar aae

mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n
mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n

‘nahi.n’ jin ki pyaari zubaa.n par nahi.n hai
wo makke me.n saKHiyo.n ke sardaar aae

wilaadat ka sadqa, hame.n apna Gam do
shaha ! chashm-e-nam ke talabgaar aae

mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n
mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n

yateemo.n ke waali, Gareebo.n ke haami
wo aafat-zado.n ke madadgaar aae

siyaahi hamaare gunaaho.n ki dhone
bahaate hue ashq sarkaar aae

mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n
mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n

wilaadat ka sadqa, baqee’-e-mubaarak
ki do gaz zamee.n ke talabgaar aae

wilaadat ka sadqa, madine me.n, aaqa !
mujhe maut, ai mere sarkaar ! aae

mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n
mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n

wilaadat ka sadqa, niqaab ab uTha do
liye ham sab ummeed-e-deedaar aae

wilaadat ka sadqa, pa.Dosi banaana
shaha ! KHuld me.n jab ye bad-kaar aae

wilaadat ka sadqa, shaha ! zindagi me.n
madine me.n har saal ‘Attar aae

mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n
mubaarak ! mubaarak ! huzoor aa rahe hai.n

sarkaar ki aamad ! marhaba !
dildaar ki aamad ! marhaba !
saalaar ki aamad ! marhaba !
sardaar ki aamad ! marhaba !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *