Khel Cricket Na Sharaarat Ke Liye Aaya Hai Maah-e-Ramzaan Ibaadat Ke Liye Aaya Hai Naat Lyrics

Khel Cricket Na Sharaarat Ke Liye Aaya Hai Maah-e-Ramzaan Ibaadat Ke Liye Aaya Hai Naat Lyrics

 

 

माह-ए-रमज़ान ! माह-ए-रमज़ान !
माह-ए-रमज़ान ! माह-ए-रमज़ान !

रमज़ान आ गया ! मह-ए-गुफ़रान आ गया !
रमज़ान आ गया ! मह-ए-गुफ़रान आ गया !

खेल किरकेट न शरारत के लिए आया है
माह-ए-रमज़ान ‘इबादत के लिए आया है

ये शरी’अत की इता’अत के लिए आया है
माह-ए-रमज़ान ‘इबादत के लिए आया है

खेल किरकेट न शरारत के लिए आया है
माह-ए-रमज़ान ‘इबादत के लिए आया है

दूर इस मह में करो आप दिलों से नफ़रत
एक दूजे से सदा करते रहो तुम उल्फ़त
हाथ को हाथ में लो और गले मिलते रहो
दुश्मनों से भी, मेरे दोस्तो ! तुम हँस के मिलो
बुग़्ज़-ओ-कीना न ‘अदावत के लिए आया है

खेल किरकेट न शरारत के लिए आया है
माह-ए-रमज़ान ‘इबादत के लिए आया है

नफ़्ल का फ़र्ज़ की मिक़्दार में पाओगे सवाब
इस महीने का नहीं, मोमिनो ! कोई भी जवाब
वाह ! क्या बात है, फ़रमाते हैं ये प्यारे नबी
क़ैद हो जाते हैं इस माह में शैतान सभी
नफ़्स-ए-शैताँ की मज़म्मत के लिए आया है

खेल किरकेट न शरारत के लिए आया है
माह-ए-रमज़ान ‘इबादत के लिए आया है

इस महीने के सभी रोज़े तुम्हें रखने हैं
और नमाज़ों की भी पाबंदी तुम्हें करनी है
हक़ ग़रीबों का अदा, मोमिनो ! करना है तुम्हें
पेट भूकों का, यतीमों का भी भरना है तुम्हें
सदक़ा ख़ैरात की कसरत के लिए आया है

खेल किरकेट न शरारत के लिए आया है
माह-ए-रमज़ान ‘इबादत के लिए आया है

वक़्त-ए-सहरी में भी तुम खेल में लग जाते हो
फ़ज्र से पहले ही क्यूँ, दोस्तो ! सो जाते हो
सुब्ह से शाम तलक नेट चलाते तुम हो
वक़्त अपना क्यूँ गुनाहों में बिताते तुम हो
दोस्तो ! ये नहीं ग़फ़लत के लिए आया है

खेल किरकेट न शरारत के लिए आया है
माह-ए-रमज़ान ‘इबादत के लिए आया है

मग़्फ़िरत होती है इस मह में गुनाहगारों की
शर्मसारों की, बद-कारों, सियह-कारों की
वो है महरूम जो इस मह में भी महरूम रहा
कीजिए तौबा गुनाहों से, है रहमान ख़ुदा
नार-ए-दोज़ख़ से हिफ़ाज़त के लिए आया है

खेल किरकेट न शरारत के लिए आया है
माह-ए-रमज़ान ‘इबादत के लिए आया है

रहमतों, बरकतों वाला है महीना ये ही
पार बंदों का लगाता है सफ़ीना ये ही
इस की हर रात अनोखी है, निराला दिन है
भर गया ख़ुशियों से ‘आसिम का भी अब दामन है
मोमिनों की ये मसर्रत के लिए आया है

खेल किरकेट न शरारत के लिए आया है
माह-ए-रमज़ान ‘इबादत के लिए आया है

शायर:
मुहम्मद आसिम-उल-क़ादरी मुरादाबादी

ना’त-ख़्वाँ:
ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी

 

maah-e-ramzaan ! maah-e-ramzaan !
maah-e-ramzaan ! maah-e-ramzaan !

ramzaan aa gaya ! mah-e-gufraan aa gaya !
ramzaan aa gaya ! mah-e-gufraan aa gaya !

khel cricket na sharaarat ke liye aaya hai
maah-e-ramzaan ‘ibaadat ke liye aaya hai

ye shari’at ki itaa’at ke liye aaya hai
maah-e-ramzaan ‘ibaadat ke liye aaya hai

khel cricket na sharaarat ke liye aaya hai
maah-e-ramzaan ‘ibaadat ke liye aaya hai

door is mah me.n karo aap dilo.n se nafrat
ek dooje se sada karte raho tum ulfat
haath ko haath me.n lo aur gale milte raho
dushmano.n se bhi, mere dosto ! tum hans ke milo
buGz-o-keena na ‘adaawat ke liye aaya hai

khel cricket na sharaarat ke liye aaya hai
maah-e-ramzaan ‘ibaadat ke liye aaya hai

nafl ka farz ki miqdaar me.n paaoge sawaab
is mahine ka nahi.n, momino ! koi bhi jawaab
waah ! kya baat hai, farmaate hai.n ye pyaare nabi
qaid ho jaate hai.n is maah me.n shaitaan sabhi
nafs-e-shaitaa.n ki mazammat ke liye aaya hai

khel cricket na sharaarat ke liye aaya hai
maah-e-ramzaan ‘ibaadat ke liye aaya hai

is mahine ke sabhi roze tumhe.n rakhne hai.n
aur namaazo.n ki bhi paabandi tumhe.n karni hai
haq Gareebo.n ka ada, momino ! karna hai tumhe.n
peT bhooko.n ka, yateemo.n ka bhi bharna hai tumhe.n
sadqa KHairaat ki kasrat ke liye aaya hai

khel cricket na sharaarat ke liye aaya hai
maah-e-ramzaan ‘ibaadat ke liye aaya hai

waqt-e-sahri me.n bhi tum khel me.n lag jaate ho
fajr se pehle hi kyu.n, dosto ! so jaate ho
sub.h se shaam talak neT chalaate tum ho
waqt apna kyu.n gunaaho.n me.n bitaate tum ho
dosto ! ye nahi.n gaflat ke liye aaya hai

khel cricket na sharaarat ke liye aaya hai
maah-e-ramzaan ‘ibaadat ke liye aaya hai

maGfirat hoti hai is mah me.n gunaahgaaro.n ki
sharmsaaro.n ki, bad-kaaro.n, siyah-kaaro.n ki
wo hai mahroom jo is mah me.n bhi mahroom raha
kijiye tauba gunaaho.n se, hai rahmaan KHuda
naar-e-dozaKH se hifaazat ke liye aaya hai

khel cricket na sharaarat ke liye aaya hai
maah-e-ramzaan ‘ibaadat ke liye aaya hai

rahmato.n, barkato.n waala hai mahina ye hi
paar bando.n ka lagaata hai safeena ye hi
is ki har raat anokhi hai, niraala din hai
bhar gaya KHushiyo.n se ‘Aasim ka bhi ab daaman hai
momino.n ki ye masarrat ke liye aaya hai

khel cricket na sharaarat ke liye aaya hai
maah-e-ramzaan ‘ibaadat ke liye aaya hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *