Har Lab Pe Hai Taraana Ilyas Qadri Ka Dil Ho Gaya Deewaana Ilyas Qadri Ka Naat Lyrics

Har Lab Pe Hai Taraana Ilyas Qadri Ka Dil Ho Gaya Deewaana Ilyas Qadri Ka Naat Lyrics

 

 

हर लब पे है तराना इल्यास क़ादरी का
दिल हो गया दीवाना इल्यास क़ादरी का

जो एक बार देखे, बस देखता ही जाए
इतना हसीन चेहरा दिल में उतरता जाए
किरदार इन का सुथरा, अख़्लाक़ इन का आ’ला
यूँ ही नहीं है शोहरा इल्यास क़ादरी का

हर लब पे है तराना इल्यास क़ादरी का
दिल हो गया दीवाना इल्यास क़ादरी का

जो ना’त पढ़ रहा हूँ, तेरा करम है, मुर्शिद !
सर पर सजा इमाम, तेरी नज़र है, मुर्शिद !
दुनिया सँवर गई है, ‘उक़्बा निखर गई है
दामन मिला है किस का ! इल्यास क़ादरी का

हर लब पे है तराना इल्यास क़ादरी का
दिल हो गया दीवाना इल्यास क़ादरी का

मौला ! मेरी दु’आ है, मुर्शिद रहे सलामत
हो आफ़त-ओ-बला से ‘अत्तार की हिफ़ाज़त
साया रहे सलामत ‘अत्तारियों पे हर दम
फ़ैज़ान हो हमेशा इल्यास क़ादरी का

हर लब पे है तराना इल्यास क़ादरी का
दिल हो गया दीवाना इल्यास क़ादरी का

‘अत्तार से है निस्बत, ‘अत्तार से है उल्फ़त
‘अत्तार का गदा हूँ, ये देखो मेरी क़िस्मत
माँ की दु’आ से दामन ‘अत्तार का मिला है
बन कर रहूँगा मँगता इल्यास क़ादरी का

हर लब पे है तराना इल्यास क़ादरी का
दिल हो गया दीवाना इल्यास क़ादरी का

अब्दुल कमाल ! मुझ को है फ़ख़्र मुर्शिदी पर
इस दौर-ए-पुर-फ़ितन में ऐसा मिला है दिलबर
जो जाम सुन्नतों के सब को पिलाए भर कर
ऐसा है आस्ताना इल्यास क़ादरी का

हर लब पे है तराना इल्यास क़ादरी का
दिल हो गया दीवाना इल्यास क़ादरी का

शायर:
अब्दुल कमाल अत्तारी

ना’त-ख़्वाँ:
फ़राज़ अत्तारी

 

har lab pe hai taraana ilyas qadri ka
dil ho gaya deewaana ilyas qadri ka

jo ek baar dekhe, bas dekhta hi jaae
itna haseen chehra dil me.n utarta jaae
kirdaar in ka suthra, aKHlaaq in ka aa’la
yu.n hi nahi.n hai shohra ilyas qadri ka

har lab pe hai taraana ilyas qadri ka
dil ho gaya deewaana ilyas qadri ka

jo naa’t pa.Dh raha hu.n, tera karam hai, murshid !
sar par saja imaama, teri nazar hai, murshid !
duniya sanwar gai hai, ‘uqba nikhar gai hai
daaman mila hai kis ka ! ilyas qadri ka

har lab pe hai taraana ilyas qadri ka
dil ho gaya deewaana ilyas qadri ka

maula ! meri du’aa hai, murshid rahe salaamat
ho aafat-o-bala se ‘attar ki hifaazat
saaya rahe salaamat ‘attaariyo.n pe har dam
faizaan ho hamesha ilyas qadri ka

har lab pe hai taraana ilyas qadri ka
dil ho gaya deewaana ilyas qadri ka

‘attaar se hai nisbat, ‘attaar se hai ulfat
‘attaar ka gada hu.n, ye dekho meri qismat
maa.n ki du’aa se daaman ‘attaar ka mila hai
ban kar rahunga mangta ilyas qadri ka

har lab pe hai taraana ilyas qadri ka
dil ho gaya deewaana ilyas qadri ka

Abdul Kamaal ! mujh ko hai faKHr murshidi par
is daur-e-pur-fitan me.n aisa mila hai dilbar
jo jaam sunnato.n ke sab ko pilaae bhar kar
aisa hai aastaana ilyas qadri ka

har lab pe hai taraana ilyas qadri ka
dil ho gaya deewaana ilyas qadri ka

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *