Hai Fazl Khuda Ka Shaam-o-Sahar Attar Hamaara Murshid Hai Naat Lyrics

Hai Fazl Khuda Ka Shaam-o-Sahar Attar Hamaara Murshid Hai Naat Lyrics

 

 

मेरा पीर बड़ा लज-पाल
मेरा पीर है ‘अत्तार

निस्बत ने दिया है रंग-ए-रज़ा
‘अत्तार पिया ! ‘अत्तार पिया !
‘उलमा के दिलों में पाई जगह
‘अत्तार पिया ! ‘अत्तार पिया !
और ‘इश्क़ सहाबा का भी दिया
‘अत्तार पिया ! ‘अत्तार पिया !
क्या शान तुम्हारी है ,वल्लाह !
‘अत्तार पिया ! ‘अत्तार पिया !

है फ़ज़्ल ख़ुदा का शाम-ओ-सहर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है
है नाज़ हमें भी क़िस्मत पर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

क्या निस्बत ऐसी दी प्यारी
हर बच्चा हमारा ‘अत्तारी
बस एक सदा है ये घर घर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

है फ़ज़्ल ख़ुदा का शाम-ओ-सहर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है
है नाज़ हमें भी क़िस्मत पर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

दीदार तुम्हारा जब पाएँ
अल्लाह हमें याद आ जाए
है रब का वली, नूरी पैकर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

है फ़ज़्ल ख़ुदा का शाम-ओ-सहर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है
है नाज़ हमें भी क़िस्मत पर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

यूँ फ़ैज़-ए-मदीना आम किया
हर चीज़ को मदनी नाम दिया
क्या ख़ूब मिला निस्बत का असर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

है फ़ज़्ल ख़ुदा का शाम-ओ-सहर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है
है नाज़ हमें भी क़िस्मत पर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

निस्बत ने दिया है रंग-ए-रज़ा
‘अत्तार पिया ! ‘अत्तार पिया !
‘उलमा के दिलों में पाई जगह
‘अत्तार पिया ! ‘अत्तार पिया !
और ‘इश्क़ सहाबा का भी दिया
‘अत्तार पिया ! ‘अत्तार पिया !
क्या शान तुम्हारी है ,वल्लाह !
‘अत्तार पिया ! ‘अत्तार पिया !

मुस्कान भी तेरी प्यारी है
हर एक अदा भी न्यारी है
जो देखे, यही बोले अक्सर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

है फ़ज़्ल ख़ुदा का शाम-ओ-सहर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है
है नाज़ हमें भी क़िस्मत पर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

हर एक सहाबी जन्नत के
हक़दार, ये ना’रा हम को दिया
फिर क्यूँ न कहें हम बढ़ चढ़ कर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

है फ़ज़्ल ख़ुदा का शाम-ओ-सहर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है
है नाज़ हमें भी क़िस्मत पर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

बेख़ुद ! है ये फ़ज़्ल-ए-रहमानी
मुर्शिद भी मिला है ला-सानी
कहते हैं करोड़ों दिल मिल कर
‘अत्तार हमारा मुर्शिद है

शायर:
वसीम बेख़ुद

ना’त-ख़्वाँ:
हसनैन अत्तारी

 

mera peer ba.Da laj-paal
mera peer hai ‘attar

nisbat ne diya hai rang-e-raza
‘attar piya ! ‘attar piya !
‘ulma ke dilo.n me.n paai jagah
‘attar piya ! ‘attar piya !
aur ‘ishq sahaaba ka bhi diya
‘attar piya ! ‘attar piya !
kya shaan tumhaari hai, wallah !
‘attar piya ! ‘attar piya !

hai fazl KHuda ka shaam-o-sahar
‘attar hamaara murshid hai
hai naaz hame.n bhi qismat par
‘attar hamaara murshid hai

kya nisbat aisi di pyaari
har bachcha hamaara ‘attari
bas ek sada hai ye ghar ghar
‘attar hamaara murshid hai

hai fazl KHuda ka shaam-o-sahar
‘attar hamaara murshid hai
hai naaz hame.n bhi qismat par
‘attar hamaara murshid hai

deedaar tumhaara jab paae.n
allah hame.n yaad aa jaae
hai rab ka wali, noori paikar
‘attar hamaara murshid hai

hai fazl KHuda ka shaam-o-sahar
‘attar hamaara murshid hai
hai naaz hame.n bhi qismat par
‘attar hamaara murshid hai

yu.n faiz-e-madina aam kiya
har cheez ko madani naam diya
kya KHoob mila nisbat ka asar
‘attar hamaara murshid hai

hai fazl KHuda ka shaam-o-sahar
‘attar hamaara murshid hai
hai naaz hame.n bhi qismat par
‘attar hamaara murshid hai

nisbat ne diya hai rang-e-raza
‘attar piya ! ‘attar piya !
‘ulma ke dilo.n me.n paai jagah
‘attar piya ! ‘attar piya !
aur ‘ishq sahaaba ka bhi diya
‘attar piya ! ‘attar piya !
kya shaan tumhaari hai, wallah !
‘attar piya ! ‘attar piya !

muskaan bhi teri pyaari hai
har ek ada bhi nyaari hai
jo dekhe, yahi bole aksar
‘attar hamaara murshid hai

hai fazl KHuda ka shaam-o-sahar
‘attar hamaara murshid hai
hai naaz hame.n bhi qismat par
‘attar hamaara murshid hai

har ek sahaabi jannat ke
haqdaar, ye naa’ra ham ko diya
phir kyu.n na kahe.n ham ba.Dh cha.Dh kar
‘attar hamaara murshid hai

hai fazl KHuda ka shaam-o-sahar
‘attar hamaara murshid hai
hai naaz hame.n bhi qismat par
‘attar hamaara murshid hai

BeKHud ! hai ye fazl-e-rahmaani
murshid bhi mila hai laa-saani
kehte hai.n karo.Do.n dil mil kar
‘attar hamaara murshid hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *