Allah Aur Rasool Ke Pyaare Mu’aawiya Naat Lyrics

Allah Aur Rasool Ke Pyaare Mu’aawiya Naat Lyrics

 

 

हैं आसमान-ए-रुश्द के तारे मु’आविया
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

ताज-ए-सहाबियत ने बढ़ाई है उन की शान
सौंपी हसन ने उन को ख़िलाफ़त की आन-बान
होगा न कम किसी से वक़ार-ए-मु’आविया
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

हैं आसमान-ए-रुश्द के तारे मु’आविया
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

असहाबी कन-नुजूम है ए’लान-ए-मुस्तफ़ा
सब से वफ़ा करो ये है फ़रमान-ए-मुस्तफ़ा
हैं इस लिए हमारे तुम्हारे मु’आविया
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

हैं आसमान-ए-रुश्द के तारे मु’आविया
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

बज़्म-ए-सहाबियत के वो दोनों सिराज हैं
उन के निशान-ए-पा सर-ए-मोमिन के ताज हैं
बेशक ‘अली हमारे, हमारे मु’आविया
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

हैं आसमान-ए-रुश्द के तारे मु’आविया
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

आक़ा ने उन को महदी-ओ-हादी की दी दु’आ
ता-हश्र जगमगाएगा वो जल्वा-ए-हुदा
है रहबरी पे अब भी मिनार-ए-मु’आविया
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

हैं आसमान-ए-रुश्द के तारे मु’आविया
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

मिल्लत को ‘अज़मतों की सहर बख़्श दीजिए
ए शाह ! अपना फ़ैज़-ए-नज़र बख़्श दीजिए
दामन फ़रीदी भी है पसारे, मु’आविया !
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

हैं आसमान-ए-रुश्द के तारे मु’आविया
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

शायर:
अल्लामा सलमान रज़ा फ़रीदी मिस्बाही

ना’त-ख़्वाँ:
सबतर अख़्तरी

 

hai.n aasmaan-e-rushd ke taare mu’aawiya
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

taaj-e-sahaabiyat ne ba.Dhaai hai un ki shaan
saunpi hasan ne un ko KHilaafat ki aan-baan
hoga na kam kisi se waqaar-e-mu’aawiya
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

hai.n aasmaan-e-rushd ke taare mu’aawiya
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

ashaabi kan-nujoom hai e’laan-e-mustafa
sab se wafa karo ye hai farmaan-e-mustafa
hai.n is liye hamaare tumhaare mu’aawiya
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

hai.n aasmaan-e-rushd ke taare mu’aawiya
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

bazm-e-sahaabiyat ke wo dono.n siraaj hai.n
un ke nishaan-e-paa sar-e-momin ke taaj hai.n
beshak ‘ali hamaare, hamaare mu’aawiya
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

hai.n aasmaan-e-rushd ke taare mu’aawiya
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

aaqa ne un ko mahdi-o-haadi ki di du’aa
taa-hashr jagmagaaega wo jalwa-e-huda
hai rahbari pe ab bhi minaar-e-mu’aawiya
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

hai.n aasmaan-e-rushd ke taare mu’aawiya
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

millat ko ‘azmato.n ki sahar baKHsh dijiye
ai shaah ! apna faiz-e-nazar baKHsh dijiye
daaman Fareedi bhi hai pasaare, mu’aawiya !
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

hai.n aasmaan-e-rushd ke taare mu’aawiya
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *