Tamanna Muddaton Se Hai Jamaal-e-Mustafa Dekhun Naat Lyrics

Tamanna Muddaton Se Hai Jamaal-e-Mustafa Dekhun Naat Lyrics

 

 

तमन्ना मुद्दतों से है, जमाल-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
इमामुल-अम्बिया देखूँ, हबीब-ए-किब्रिया देखूँ

वो जिन के दम-क़दम से सुब्ह ने भी रौशनी पाई
मुनव्वर कर दिया जिस ने फ़ज़ा, वो रहनुमा देखूँ

तमन्ना मुद्दतों से है, जमाल-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
इमामुल-अम्बिया देखूँ, हबीब-ए-किब्रिया देखूँ

वो जिन की बरकतों से अब्र-ए-बाराँ बरसे आ’लम में
तमन्ना क़ल्ब-ए-मुज़्तर की, वो दुर्र-ए-बे-बहा देखूँ

तमन्ना मुद्दतों से है, जमाल-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
इमामुल-अम्बिया देखूँ, हबीब-ए-किब्रिया देखूँ

क़दम बाहर मदीने से, तसव्वुर में मदीना है
इलाही ! या इलाही ! अज़्मतों की इंतिहा देखूँ

तमन्ना मुद्दतों से है, जमाल-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
इमामुल-अम्बिया देखूँ, हबीब-ए-किब्रिया देखूँ

ये दुनिया बे-सबात-ओ-बे-वफ़ा-ओ-ग़म का गहवारा
ये है मतलूब, दारे-बे-वफ़ाई में वफ़ा देखूँ

तमन्ना मुद्दतों से है, जमाल-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
इमामुल-अम्बिया देखूँ, हबीब-ए-किब्रिया देखूँ

वो मब्दा ख़ल्क़-ए-आ’लम का, दुरूद उन पर, सलाम उन पर
मेरे मौला ! ये मौक़ा दे कि ख़तमुल-अम्बिया देखूँ

तमन्ना मुद्दतों से है, जमाल-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
इमामुल-अम्बिया देखूँ, हबीब-ए-किब्रिया देखूँ

कभी हो हुस्न की महफ़िल, कभी हो शौक़ का मंज़र
कभी आँसू की ज़ंजीरों में आशिक़ की सदा देखूँ

तमन्ना मुद्दतों से है, जमाल-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
इमामुल-अम्बिया देखूँ, हबीब-ए-किब्रिया देखूँ

रसूलुन-क़ासिमुल-ख़ैराति फ़ी-द्दुनिया व फ़ील-उ़क़्बा
शफ़ीअ’ कज-नफ़्स-ए-मा दर मा, नबी-ए-मुज़्तबा देखूँ

तमन्ना मुद्दतों से है, जमाल-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
इमामुल-अम्बिया देखूँ, हबीब-ए-किब्रिया देखूँ

दर-ए-जन्नत पे हाज़िर हों रसूल-ए-पाक के हम-राह
शफ़ाअ’त का ये मंज़र, या ख़ुदा ! या मैं रज़ा देखूँ

तमन्ना मुद्दतों से है, जमाल-ए-मुस्तफ़ा देखूँ
इमामुल-अम्बिया देखूँ, हबीब-ए-किब्रिया देखूँ

Leave a Comment