Roo-siyaahon Par Karam Ai Do Jahaan Ke Taajdaar Naat Lyrics

Roo-siyaahon Par Karam Ai Do Jahaan Ke Taajdaar Naat Lyrics

 

 

रू-सियाहों पर करम, ए दो जहाँ के ताजदार !
अपने ग़म में, अपनी उल्फ़त में रुलाओ ज़ार-ज़ार

हुस्न-ए-गुलशन में सरासर है फ़रेब, ए दोस्तो !
देखना है हुस्न तो देखो ‘अरब के रेग-ज़ार

हम ग़रीबों को मदीने में बुला लो, या नबी !
वासिता अहमद रज़ा का, दो जहाँ के ताजदार !

गर मुक़द्दर में मेरे दूरी लिखी है, या नबी !
काश ! फ़ुर्क़त में तेरी रोता रहूँ मैं ज़ार ज़ार

काश ! ख़िदमत सुन्नतों की मैं सदा करता रहूँ
अहल-ए-सुन्नत का सदा बन के रहूँ ख़िदमत-गुज़ार

हैं ‘अली मुश्किल-कुशा साया-कुनाँ सर पर मेरे
ला फ़ता इल्ला ‘अली, ला सैफ़ इल्ला ज़ुल्फ़िक़ार

मुस्तफ़ा वाली तेरे, ‘अत्तार ! डर किस बात का
कार-गर होगा न तुझ पर दुश्मनों का कोई वार

शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
मदनी रज़ा अत्तारी

 

roo-siyaaho.n par karam, ai do-jahaa.n ke taajdaar !
apne Gam me.n, apni ulfat me.n rulaao zaar-zaar

husn-e-gulshan me.n saraasar hai fareb, ai dosto !
dekhna hai husn to dekho ‘arab ke reg-zaar

ham Gareebo.n ko madine me.n bula lo, ya nabi !
waasita ahmad raza ka, do jahaa.n ke taajdaar !

gar muqaddar me.n mere doori likhi hai, ya nabi !
kaash ! furqat me.n teri rota rahu.n mai.n zaar-zaar

kaash ! KHidmat sunnato.n ki mai.n sada karta rahu.n
ahl-e-sunnat ka sada ban ke rahu.n KHidmat-guzaar

hai.n ‘ali mushkil-kusha saayaa-kunaa.n sar par mere
laa fataa illa ‘ali, laa saif illa zulfiqaar

mustafa waali tere, ‘Attar ! Dar kis baat ka
kaar-gar hoga na tujh par dushmano.n ka koi waar

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *