Rabi’unnoor Hai Jahaan Masroor Hai Naat Lyrics

Rabi’unnoor Hai Jahaan Masroor Hai Naat Lyrics

 

 

 

Rabi’unnoor Hai, Jahaan Masroor Hai, Taraane Ham Khushi Ke Aaj Gaaenge

 

मरहबा ! मरहबा ! मरहबा !

सज गई हर गली, सब मकाँ सज गए
‘आशिक़ों की छतों पर है झंडे लगे
हर तरफ़ धूम है, हर तरफ़ है ख़ुशी
आज है हर तरफ़ नूर ही नूर ही

रबी’उन्नूर है, जहाँ मसरूर है
तराने हम ख़ुशी के आज गाएँगे
नबी जी आ गए, जहाँ में छा गए
कि दिल ईमान से अब जगमगाएँगे

बी हलीमा की गोदी का का पाला, आमिना का दुलारा
रहमत-ए-दो-जहाँ बन के आया, ले के क़ुरआन प्यारा
इमाम-उल-अम्बिया, हबीब-ए-किब्रिया
जो दुश्मन को भी सीने से लगाएँगे

नबी जी आ गए, जहाँ में छा गए
कि दिल ईमान से अब जगमगाएँगे

आए सरकार आए !
मेरे दिलदार आए !
मेरे ग़म-ख़्वार आए !

छट गया कुफ़्र का अब अँधेरा, हर तरफ़ है उजाला
गिर गए मुँह के बल सारे बुत भी, आया जब नूर वाला
बुतों को पूजते, जो उन को चूमते
ख़ुदा के आगे वो सर अब झुकाएँगे

नबी जी आ गए, जहाँ में छा गए
कि दिल ईमान से अब जगमगाएँगे

चाँद भी जिन पे क़ुर्बान होगा, कलमा कंकर पढ़ेंगे
हुक्म मानेगा महताब उन का, पेड़ सज्दा करेंगे
कि चेहरा देख कर, फ़िदा होंगे बशर
वो नाबीनों को भी बीना बनाएँगे

नबी जी आ गए, जहाँ में छा गए
कि दिल ईमान से अब जगमगाएँगे

अंबिया ने भी उन की विलादत के हैं मुज़्दे सुनाए
उन की आमद पे जिब्रील ने भी तीन झंडे लगाए
मुनाफ़िक़ जल उठे, चिढ़ें, चिढ़ते रहें
घरों पर हम मगर झंडे लगाएँगे

नबी जी आ गए, जहाँ में छा गए
कि दिल ईमान से अब जगमगाएँगे

एक इब्लीस को छोड़ कर के दोनों ‘आलम थे शादाँ
मरहबा मरहबा कह रहे थे सब मलक, जिन्न-ओ-इंसां
ज़माना झूम उठा, मिले जब मुस्तफ़ा
ख़ुशी में आज हम लंगर लुटाएँगे

नबी जी आ गए, जहाँ में छा गए
कि दिल ईमान से अब जगमगाएँगे

उन की आमद पे रब्ब-उल-‘उला ने दोनों ‘आलम सजाए
उन की आमद के नग़्मे, ए ‘आसिम ! हूर-ओ-ग़िल्माँ ने गाए
हुआ मौसम हसीं, महक उठी ज़मीं
कि फ़ज़्ल-ए-रब के अब अनवार छाएँगे

नबी जी आ गए, जहाँ में छा गए
कि दिल ईमान से अब जगमगाएँगे

शायर:
‘आसिम-उल-क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
सय्यिद अर्सलान शाह क़ादरी

 

marhaba ! marhaba ! marhaba !

saj gai har gali, sab makaa.n saj gae
‘aashiqo.n ki chhato.n par hai jhande lage
har taraf dhoom hai, har taraf hai KHushi
aaj hai har taraf noor hi noor hi

rabi’unnoor hai, jahaa.n masroor hai
taraane ham KHushi ke aaj gaaenge
nabi ji aa gae, jahaa.n me.n chha gae
ki dil imaan se ab jagmagaaenge

bi haleema ki godi ka paala
aamina ka dulaara
rahmat-e-do-jahaa.n ban ke aaya
le ke qur.aan pyaara
imaam-ul-ambiya, habeeb-e-kibriya
jo dushman ko bhi seene se lagaaenge

nabi ji aa gae, jahaa.n me.n chha gae
ki dil imaan se ab jagmagaaenge

aae sarkaar aae !
mere dildaar aae !
mere Gam-KHwaar aae !

chhaT gaya kufr ka ab andhera
har taraf hai ujaala
gir gae munh ke bal sare but bhi
aaya jab noor waala
buto.n ko poojte, jo un ko choomte
KHuda ke aage wo sar ab jhukaaenge

nabi ji aa gae, jahaa.n me.n chha gae
ki dil imaan se ab jagmagaaenge

chaand bhi jin pe qurbaan hoga
kalma kankar pa.Dhenge
hukm maanega mahtaab un ka
pe.D sajda karenge
ki chehra dekh kar, fida honge bashar
wo naabeeno.n ko bhi beena banaaenge

nabi ji aa gae, jahaa.n me.n chha gae
ki dil imaan se ab jagmagaaenge

ambiya ne bhi un ki wilaadat –
ke hai.n muzhde sunaae
un ki aamad pe jibreel ne bhi
teen jhande lagaae
munaafiq jal uThe, chi.Dhe.n, chi.Dhte rahe.n
gharo.n par ham magar jhande lagaaenge

nabi ji aa gae, jahaa.n me.n chha gae
ki dil imaan se ab jagmagaaenge

ek iblees ko chho.D kar ke
dono.n ‘aalam the shaadaa.n
marhaba marhaba kah rahe the
sab malak, jinn-o-insaa.n
zamaana jhoom uTha, mile jab mustafa
KHushi me.n aaj ham langar luTaaenge

nabi ji aa gae, jahaa.n me.n chha gae
ki dil imaan se ab jagmagaaenge

un ki aamad pe rabb-e-‘ula ne
dono.n ‘aalam sajaae
un ki aamad ke naGme, ai Aasim !
hoor-o-Gilmaa.n ne gaae
huaa mausam hasee.n, mahak uThi zamee.n
ki fazl-e-rab ke ab anwaar chhaaenge

nabi ji aa gae, jahaa.n me.n chha gae
ki dil imaan se ab jagmagaaenge

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *