Paikar-e-Sabr-o-Raza Baadshaah-e-Karbala Wo Husain Ibn-e-Ali Naat Lyrics

Paikar-e-Sabr-o-Raza Baadshaah-e-Karbala Wo Husain Ibn-e-Ali Naat Lyrics

 

 

फ़ातिमा का लाडला, जो ‘अली के घर पला
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली
पैकर-ए-सब्र-ओ-रज़ा, बादशाह-ए-कर्बला
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

कौन है सरदार-ए-जन्नत ? किस के नाना हैं नबी ?
किस की माँ है फ़ातिमा, भाई हसन, बाबा ‘अली ?
लाए थे किस के लिए जिब्रील कपड़े जन्नती
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

पैकर-ए-सब्र-ओ-रज़ा, बादशाह-ए-कर्बला
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

है मेरी आँखों की ठंडक, है मेरे इस दिल का चैन
मैं हुसैन इब्न-ए-‘अली से हूँ तो मुझ से है हुसैन
ज़ालिमों क्या भूल बैठे ये हदीस-ए-पाक भी !
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

पैकर-ए-सब्र-ओ-रज़ा, बादशाह-ए-कर्बला
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

सज्दे को लम्बा करें सरकार जिन के वास्ते
जिन को काँधों पर बिठा कर तय कराएँ रास्ते
चूमते रहते हों जिन को हर घड़ी प्यारे नबी
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

पैकर-ए-सब्र-ओ-रज़ा, बादशाह-ए-कर्बला
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

अपने नाना का मदीना, माँ की तुर्बत छोड़ दी
एक वा’दे के लिए जीने की चाहत छोड़ दी
आज तक उन की तरह, आया न आएगा कोई
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

पैकर-ए-सब्र-ओ-रज़ा, बादशाह-ए-कर्बला
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

जिन के बाज़ूओं की ताक़त हो ‘अली शेर-ए-ख़ुदा
कर गई हो परवरिश जिन की जनाब-ए-फ़ातिमा
कौन उन से छीन पाए ज़ुल्फ़िक़ार-ए-हैदरी
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

पैकर-ए-सब्र-ओ-रज़ा, बादशाह-ए-कर्बला
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

हँस के अकबर की जवानी को लुटा कर दीन पर
कर के क़ुर्बां गोद में छेह माह का नन्हा जिगर
दीन-ए-पाक-ए-मुस्तफ़ा को दे रहे हैं ज़िंदगी
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

पैकर-ए-सब्र-ओ-रज़ा, बादशाह-ए-कर्बला
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

जिन के बाज़ूओं की ताक़त हो ‘अली शेर-ए-ख़ुदा
कर गई हो परवरिश जिन की जनाब-ए-फ़ातिमा
ताहिर ! उन के हौसलों पर है फ़िदा ख़ुद मौत भी
वो हुसैन इब्न-ए-‘अली

शायर:
ताहिर रज़ा रामपुरी

नात-ख़्वाँ:
ताहिर रज़ा रामपुरी

 

faatima ka laadla, jo ‘ali ke ghar pala
wo husain ibn-e-‘ali
paikar-e-sabr-o-raza, baadshaah-e-karbala
wo husain ibn-e-‘ali

kaun hai sardaar-e-jannat ? kis ke nana hai.n nabi ?
kis ki maa.n hai faatima, bhaai hasan, baba ‘ali ?
laae the kis ke liye jibreel kap.De jannati
wo husain ibn-e-‘ali

paikar-e-sabr-o-raza, baadshaah-e-karbala
wo husain ibn-e-‘ali

hai meri aankho.n ki Thandak, hai mere is dil ka chain
mai.n husain ibn-e-‘ali se hu.n to mujh se hai husain
zaalimo.n kya bhool baiThe ye hadees-e-paak bhi !
wo husain ibn-e-‘ali

paikar-e-sabr-o-raza, baadshaah-e-karbala
wo husain ibn-e-‘ali

sajde ko lamba kare.n sarkaar jin ke waaste
jin ko kaandho.n par biTha kar tay karaae.n raaste
choomte rahte ho.n jin ko har gha.Di pyaare nabi
wo husain ibn-e-‘ali

paikar-e-sabr-o-raza, baadshaah-e-karbala
wo husain ibn-e-‘ali

apne naana ka madina, maa.n ki turbat chho.D di
ek waa’de ke liye jeene ki chaahat chho.D di
aaj tak un ki tarah, aaya na aaega koi
wo husain ibn-e-‘ali

paikar-e-sabr-o-raza, baadshaah-e-karbala
wo husain ibn-e-‘ali

jin ke baazoo.o.n ki taaqat ho ‘ali sher-e-KHuda
kar gai ho parwarish jin ki janaab-e-faatima
kaun un se chheen paae zulfiqaar-e-haidari
wo husain ibn-e-‘ali

paikar-e-sabr-o-raza, baadshaah-e-karbala
wo husain ibn-e-‘ali

hans ke akbar ki jawaani ko luta kar deen par
kar ke qurbaa.n god me.n chheh maah ka nanha jigar
deen-e-paak-e-mustafa ko de rahe hai.n zindagi
wo husain ibn-e-‘ali

paikar-e-sabr-o-raza, baadshaah-e-karbala
wo husain ibn-e-‘ali

jin ke baazoo.o.n ki taaqat ho ‘ali sher-e-KHuda
kar gai ho parwarish jin ki janaab-e-faatima
Taahir ! un ke hauslo.n par hai fida KHud maut bhi
wo husain ibn-e-‘ali

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *