Mere Taaju-shsharee’aa Ki Kya Shaan Hai Naat Lyrics

Mere Taaju-shsharee’aa Ki Kya Shaan Hai Naat Lyrics

 

गुलशन-ए-आ’ला-हज़रत की जो जान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है
मस्लक-ए-आ’ला-हज़रत की पहचान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

जिस के वालिद मुफ़स्सिर हैं क़ुरआन के
जिस के दादा मुहाफ़िज़ हैं ईमान के
जिस का नाना बरेली का सुलतान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

गुलशन-ए-आ’ला-हज़रत की जो जान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

जिस के बाबा वली, जिस के ताया वली
जिस के दादा वली, जिस के नाना वली
जिस की अज़मत पे हर एक क़ुर्बान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

गुलशन-ए-आ’ला-हज़रत की जो जान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

‘इल्म-ओ-तक़वा की जो प्यारी तस्वीर है
जिस ने पाई अज़ीमत की तनवीर है
इस्तिक़ामत की मज़बूत चट्टान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

गुलशन-ए-आ’ला-हज़रत की जो जान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

जो ‘उलूम-ए-रज़ा का है वारिस बना
जिस के सर फ़ख़्र-ए-अज़हर का सेहरा सजा
वो बरेली का अख़्तर रज़ा ख़ान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

गुलशन-ए-आ’ला-हज़रत की जो जान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

तेज़ तलवार से जिस की तहरीर है
और बिजली की मानिंद तक़रीर है
दुश्मन-ए-दीन जिस से परेशान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

गुलशन-ए-आ’ला-हज़रत की जो जान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

जिस की नज़्र-ए-विलायत के हैं तज़्किरे
अब भी जारी करामत के हैं सिलसिले
हिन्द में चार-सू जिस का फ़ैज़ान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

गुलशन-ए-आ’ला-हज़रत की जो जान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

इक सरों का समंदर बरेली में था
मेरे मुर्शिद का जिस दम जनाज़ा उठा
आज भी ‘अक़्ल-ए-इंसान हैरान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

गुलशन-ए-आ’ला-हज़रत की जो जान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

हुस्न-ए-अख़्तर को कैसे करूँ मैं बयाँ
जिस के चेहरे को मैं देखता रह गया
देख कर जिस को मुस्काया ईमान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

गुलशन-ए-आ’ला-हज़रत की जो जान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

कर रहा हूँ मैं मुर्शिद की अज़मत बयाँ
मेरे पेश-ए-नज़र इन का है आस्ताँ
मेरे अख़्तर रज़ा का ये फ़ैज़ान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

गुलशन-ए-आ’ला-हज़रत की जो जान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

कुफ़्र की आँधियों से भी टकरा गया
रब ने बख़्शा था ऐसा इसे हौसला
‘आसिमुल-क़ादरी जिस पे क़ुर्बान है
मेरे ताजु-श्शरी’आ की क्या शान है

शायर:
मुहम्मद आसिमुल-क़ादरी

नात-ख़्वाँ:
ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी

 

gulshan-e-aa’la-hazrat ki jo jaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai
maslak-e-aa’la-hazrat ki pahchaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

jis ke waalid mufassir hai.n qur.aan ke
jis ke daada muhafiz hai.n imaan ke
jis ka naana bareli ka sultaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

gulshan-e-aa’la-hazrat ki jo jaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

jis ke baaba wali, jis ke taaya wali
jis ke daada wali, jis ke naana wali
jis ki azmat pe har ek qurbaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

gulshan-e-aa’la-hazrat ki jo jaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

‘ilm-o-taqwa ki jo pyaari tasweer hai
jis ne paai azeemat ki tanweer hai
istiqaamat ki mazboot chaTTaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

gulshan-e-aa’la-hazrat ki jo jaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

jo ‘uloom-e-raza ka hai waaris bana
jis ke sar faKHr-e-azhar ka sehra saja
wo bareli ka aKHtar raza KHaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

gulshan-e-aa’la-hazrat ki jo jaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

tez talwaar se jis ki tahreer hai
aur biljli ki manind taqreer hai
dushman-e-deen jis se pareshaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

gulshan-e-aa’la-hazrat ki jo jaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

jis ki nazr-e-wilaayat ke hai.n tazkire
ab bhi jaari karaamat ke hai.n silsile
hind me.n chaar-soo jis ka faizaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

gulshan-e-aa’la-hazrat ki jo jaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

ik saro.n ka samandar bareli me.n tha
mere murshid ka jis dam janaaza uTha
aaj bhi ‘aql-e-insaan hairaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

gulshan-e-aa’la-hazrat ki jo jaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

husn-e-aKHtar ko kaise karu.n mai.n bayaa.n
jis ke chehre ko mai.n dekhta rah gaya
dekh kar jis ko muskaaya imaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

gulshan-e-aa’la-hazrat ki jo jaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

kar raha hu.n mai.n murshid ki azmat bayaa.n
mere pesh-e-nazar in ka hai aastaa.n
mere aKHtar raza ka ye faizaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

gulshan-e-aa’la-hazrat ki jo jaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

kufr ki aandhiyo.n se bhi Takra gaya
rab ne baKHsha tha aisa ise hausla
‘Aasimul-Qadri jis pe qurbaan hai
mere taaju-shsharee’aa ki kya shaan hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *