Is Sadi Mein Peer Aisa Dhoondte Rah Jaaoge Naat Lyrics

Is Sadi Mein Peer Aisa Dhoondte Rah Jaaoge Naat Lyrics

 

 

इस सदी में पीर ऐसा ढूँडते रह जाओगे
सानी-ए-ताजु-श्शरी’आ ढूँडते रह जाओगे

सारी दुनिया में है शोहरत उस रज़ा के लाल की
हर तरफ़ वो ताज वाला ढूँडते रह जाओगे

छोड़ कर अख़्तर रज़ा को इस जहाँ की भीड़ में
रह-नुमाई करने वाला ढूँडते रह जाओगे

वारिस-ए-‘इल्म-ए-रज़ा हैं, नाइब-ए-आल-ए-नबी
‘इल्म-ओ-हिकमत का ख़ज़ाना ढूँडते रह जाओगे

इन के दामन को पकड़ लो आज, सुल्ह-ए-कुल्लियो !
हश्र में इन का सहारा ढूँडते रह जाओगे

आज, बेख़ुद ! थाम लो तुम दामन-ए-अख़्तर-रज़ा
वर्ना महशर में वसीला ढूँडते रह जाओगे

शायर:
वसीम बेख़ुद

नात-ख़्वाँ:
अब्दुल हफ़ीज़ क़ादरी उदयपुरी

 

is sadi me.n peer aisa DhoonDte rah jaaoge
saani-e-taaju-shsharee’aa DhoonDte rah jaaoge

saari duniya me.n hai shohrat us raza ke laal ki
har taraf wo taaj waala DhoonDte rah jaaoge

chho.D kar aKHtar raza ko is jahaa.n ki bhee.D me.n
rah-numaai karne waala DhoonDte rah jaaoge

waaris-e-‘ilm-e-raza hai.n, naaib-e-aal-e-nabi
‘ilm-o-hikmat ka KHazaana DhoonDte rah jaaoge

in ke daaman ko paka.D lo aaj, sulh-e-kulliyo !
hashr me.n in ka sahaara DhoonDte rah jaaoge

aaj, BeKHud ! thaam lo tum daaman-e-aKHtar-raza
warna mahshar me.n waseela DhoonDte rah jaaoge

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *