Marhaba Sad Marhaba Phir Aamad-e-Ramzaan Hai Naat Lyrics

Marhaba Sad Marhaba Phir Aamad-e-Ramzaan Hai Naat Lyrics

 

 

 

 

 

 

Marhaba Sad Marhaba ! Phir Aamad-e-Ramzaan Hai | Marhaba Sad Marhaba ! Phir Aa Gaya Ramzaan Hai

 

मरहबा सद मरहबा ! फिर आमद-ए-रमज़ान है
खिल उठे मुरझाए दिल, ताज़ा हुआ ईमान है

या ख़ुदा ! हम ‘आसियों पर ये बड़ा एहसान है
ज़िंदगी में फिर ‘अता हम को किया रमज़ान है

तुझ पे सदक़े जाऊँ, रमज़ाँ ! तू ‘अज़ीमुश्शान है
तुझ में नाज़िल हक़ त’आला ने किया क़ुरआन है

अब्र-ए-रहमत छा गया है और समाँ है नूर नूर
फ़ज़्ल-ए-रब से मग़्फ़िरत का हो गया सामान है

हर घड़ी रहमत भरी है, हर तरफ़ हैं बरकतें
माह-ए-रमज़ाँ रहमतों और बरकतों की कान है

आ गया रमज़ाँ, ‘इबादत पर कमर अब बाँध लो
फ़ैज़ ले लो जल्द, ये दिन तीस का मेहमान है

‘आसियों की मग़्फ़िरत का ले कर आया है पयाम
झूम जाओ, मुजरिमो ! रमज़ाँ मह-ए-ग़ुफ़रान है

भाइयो बहनो ! गुनाहों से सभी तौबा करो
ख़ुल्द के दर खुल गए हैं, दाख़िला आसान है

कम हुआ ज़ोर-ए-गुनह और मस्जिदें आबाद हैं
माह-ए-रमज़ान-उल-मुबारक का ये सब फ़ैज़ान है

रोज़ादारो ! झूम जाओ, क्यूँ-कि दीदार-ए-ख़ुदा
ख़ुल्द में होगा तुम्हें, ये वा’द-ए-रहमान है

दो जहाँ की ने’मतें मिलती हैं रोज़ादार को
जो नहीं रखता है रोज़ा वो बड़ा नादान है

या इलाही ! तू मदीने में कभी रमज़ाँ दिखा
मुद्दतों से दिल में ये ‘अत्तार के अरमान है

शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
मौलाना बिलाल रज़ा अत्तारी
अश्फ़ाक़ अत्तारी
असद रज़ा अत्तारी

 

marhaba sad marhaba ! phir aamad-e-ramzaan hai
khil uThe murjhaae dil, taaza huaa imaan hai

ya KHuda ! ham ‘aasiyo.n par ye ba.Da ehsaan hai
zindagi me.n phir ‘ata ham ko kiya ramzaan hai

tujh pe sadqe jaau.n, ramzaa.n ! tu ‘azeemushshaan hai
tujh me.n naazil haq ta’aala ne kiya qur.aan hai

abr-e-rahmat chha gaya hai aur samaa.n hai noor noor
fazl-e-rab se maGfirat ka ho gaya saamaan hai

har gha.Di rahmat bhari hai, har taraf hai.n barkate.n
maah-e-ramzaa.n rahmato.n aur barkato.n ki kaan hai

aa gaya ramzaa.n, ‘ibaadat par kamar ab baandh lo
faiz le lo jald, ye din tees ka mehmaan hai

‘aasiyo.n ki maGfirat ka le kar aaya hai payaam
jhoom jaao, mujrimo ! ramzaa.n mah-e-Gufraan hai

bhaaiyo bahno ! gunaaho.n se sabhi tauba karo
KHuld ke dar khul gae hai.n, daaKHila aasaan hai

kam huaa zor-e-gunah aur masjide.n aabaad hai.n
maah-e-ramzaan-ul-mubaarak ka ye sab faizaan hai

rozaadaaro ! jhoom jaao, kyu.n-ki deedaar-e-KHuda
KHuld me.n hoga tumhe.n, ye waa’d-e-rahmaan hai

do jahaa.n ki ne’mate.n milti hai.n rozaadaaro.n ko
jo nahi.n rakhta hai roza wo ba.Da naadaan hai

ya ilahi ! tu madine me.n kabhi ramzaa.n dikha
muddato.n se dil me.n ye ‘Attar ke armaan hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *