Madine Se Bulaawa Aa Raha Hai Naat Lyrics

Madine Se Bulaawa Aa Raha Hai Naat Lyrics

 

 

मदीने से बुलावा आ रहा है
मेरा दिल मुझ से पहले जा रहा है

शब-ए-फ़ुर्क़त से दिल घबरा रहा है
मदीना आप का याद आ रहा है

यहाँ मर्ज़ी नहीं चलती किसी की
मदीने वाला ही बुलवा रहा है

‘अजब हैं सब्ज़-गुंबद के नज़ारे
निगाहों को ख़ुदा याद आ रहा है

नवासों का वो सदक़ा बाँटते हैं
ज़माना उन का सदक़ा खा रहा है

मेरा दिल भी तू अपने साथ ले जा
अकेला क्यूँ मदीने जा रहा है

बुलाएँगे तुझे भी सरवर-ए-दीं
दिल-ए-महमूद क्यूँ घबरा रहा है

ये चक्की सय्यिदा की चल रही है
ज़माना जितना लंगर खा रहा है

सवारी हश्र में गुज़री है किस की
सर-ए-इंसां झुकाया जा रहा है

कहेंगे मुस्तफ़ा, क़दमों से लग जा
दर-ए-ज़हरा से हो कर आ रहा है

ज़बीब-ए-बे-नवा, ज़हरा के सदक़े
ज़माने भर में ‘इज़्ज़त पा रहा है

शायर:
सय्यिद महमूद शाह – मुहद्दिस-ए-हज़ारवी
सय्यिद हसनैन-उल-सक़लैन – हसनी सय्यिद

ना’त-ख़्वाँ:
यूसुफ़ मेमन
ज़ोहैब अशरफ़ी
सय्यिद ज़बीब मसूद

 

madine se bulaawa aa raha hai
mera dil mujh se pahle jaa raha hai

shab-e-furqat se dil ghabra raha hai
madina aap ka yaad aa raha hai

yahaa.n marzi nahi.n chalti kisi ki
madine waala hi bulwa raha hai

‘ajab hai.n sabz-gumbad ke nazaare
nigaaho.n ko KHuda yaad aa raha hai

nawaaso.n ka wo sadqa baanT.te hai.n
zamaana un ka sadqa kha raha hai

mera dil bhi tu apne saath le jaa
akela kyu.n madine jaa raha hai

bulaaenge tujhe bhi sarwar-e-dee.n
dil-e-Mahmood kyu.n ghabra raha hai

ye chakki sayyida ki chal rahi hai
zamaana jitna langar kha raha hai

sawaari hashr me.n guzri hai kis ki
sar-e-insaa.n jhukaaya jaa raha hai

kahenge mustafa, qadmo.n se lag ja
dar-e-zahra se ho kar aa raha hai

Zabeeb-e-be-nawa, zahra ke sadqe
zamaane bhar me.n ‘izzat paa raha hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *