Marhaba Madani Channel Ki Kya Shaan Hai Naat Lyrics

Marhaba Madani Channel Ki Kya Shaan Hai Naat Lyrics

 

 

Marhaba Madani Channel Ki Kya Shaan Hai | Dekhte Rahiye Madani Channel

 

मदनी चैनल ! मदनी चैनल !
देखते रहिये, मदनी चैनल !

मरहबा ! मदनी चैनल की क्या शान है
सारे जग में रवाँ इस का फ़ैज़ान है

मरहबा ! मदनी चैनल की क्या शान है

मदनी चैनल ! मदनी चैनल !
देखते रहिये, मदनी चैनल !

उल्फ़त-ए-मुस्तफ़ा और ख़ौफ़-ए-ख़ुदा
मदनी चैनल पे बटता ये फ़ैज़ान है

क्यूँ न फूले-फले, क्यूँ न आगे बढ़े
रहमत-ए-मुस्तफ़ा इस पे हर आन है

मरहबा ! मदनी चैनल की क्या शान है

मदनी चैनल ! मदनी चैनल !
देखते रहिये, मदनी चैनल !

मस्लक-ए-आ’ला-हज़रत पे क़ाइम है ये
सुन्नियत की ये मौजूदा पहचान है

क्यूँ न धूमें ज़माने में इस की मचें
ये तो फ़ैज़ान-ए-अहमद-रज़ा-ख़ान है

मरहबा ! मदनी चैनल की क्या शान है

मदनी चैनल ! मदनी चैनल !
देखते रहिये, मदनी चैनल !

बच्चों, बूढ़ों, बड़ों, औरतों के लिए
फ़ैज़-ए-आक़ा है ये फ़ज़्ल-ए-रहमान है

किस बुलंदी पे है इस का मीनार-ए-‘अज़्म
सोच कर ‘अक़्ल बातिल की हैरान है

मरहबा ! मदनी चैनल की क्या शान है

मदनी चैनल ! मदनी चैनल !
देखते रहिये, मदनी चैनल !

शादमाँ सुन्नियत है मगर देखिए
मदनी चैनल से शैताँ परेशान है

दूध का दूध, पानी का पानी करे
मदनी चैनल सदाक़त का मीज़ान है

मरहबा ! मदनी चैनल की क्या शान है

मदनी चैनल ! मदनी चैनल !
देखते रहिये, मदनी चैनल !

रात-दिन ज़िक्र-ए-मौला से मा’मूर है
कभी ना’तें, कभी नूर-ए-क़ुरआन है

वक़्त की ये ज़रुरत है, अर्फ़क़ मियाँ !
जो मुख़ालिफ़ है इस का वो नादान है

मरहबा ! मदनी चैनल की क्या शान है

मदनी चैनल ! मदनी चैनल !
देखते रहिये, मदनी चैनल !

ना’त-ख़्वाँ:
अश्फ़ाक़ अत्तारी

 

madani channel ! madani channel !
dekhte rahiye madani channel !

marhaba ! madani channel ki kya shaan hai
saare jag me.n rawaa.n is ka faizaan hai

marhaba ! madani channel ki kya shaan hai

madani channel ! madani channel !
dekhte rahiye madani channel !

ulfat-e-mustafa aur KHauf-e-KHuda
madani channel pe baT.ta ye faizaan hai

kyu.n na phoole-phale, kyu.n na aage ba.Dhe
rahmat-e-mustafa is pe har aan hai

marhaba ! madani channel ki kya shaan hai

madani channel ! madani channel !
dekhte rahiye madani channel !

maslak-e-aa’la-hazrat pe qaaim hai ye
sunniyat ki ye maujooda pehchaan hai

kyu.n na dhoome.n zamaane me.n is ki mache.n
ye to faizaan-e-ahmad-raza-KHaan hai

marhaba ! madani channel ki kya shaan hai

madani channel ! madani channel !
dekhte rahiye madani channel !

bachcho.n, boo.Dho.n, ba.Do.n, aurato.n ke liye
faiz-e-aaqa hai ye fazl-e-rahmaan hai

kis bulandi pe hai is ka meenaar-e-‘azm
soch kar ‘aql baatil ki hairaan hai

marhaba ! madani channel ki kya shaan hai

madani channel ! madani channel !
dekhte rahiye madani channel !

shaadmaa.n sunniyat hai magar dekhiye
madani channel se shaitaa.n pareshaan hai

doodh ka doodh, paani ka paani kare
madani channel sadaaqat ka meezaan hai

marhaba ! madani channel ki kya shaan hai

madani channel ! madani channel !
dekhte rahiye madani channel !

raat-din zikr-e-maula se maa’moor hai
kabhi naa’te.n, kabhi noor-e-qur.aan hai

waqt ki ye zaroorat hai, Arfaq Miyaa.n !
jo muKHaalif hai is ka wo naadaan hai

marhaba ! madani channel ki kya shaan hai

madani channel ! madani channel !
dekhte rahiye madani channel !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *