Leta Hoon Is Liye To Main Naam-e-Mu’aawiya Naat Lyrics

Leta Hoon Is Liye To Main Naam-e-Mu’aawiya Naat Lyrics

 

 

Leta Hoon Is Liye To Main Naam-e-Mu’aawiya, Main Hoon Ghulaam Ibn-e-Ghulaam-e-Mu’aawiya

 

लेता हूँ इस लिए तो मैं नाम-ए-मु’आविया
मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

हम ने तो देखनी है फ़क़त निस्बत-ए-नबी
है उन के क़ुर्ब वालों में नाम-ए-मु’आविया

मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

लेता हूँ इस लिए तो मैं नाम-ए-मु’आविया
मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

हसन के दस्त-ए-पाक से बने ख़लीफ़ा-ए-रसूल
रिज़ा-ए-आल-ए-मुस्तफ़ा ख़िलाफ़त-ए-मु’आविया

मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

लेता हूँ इस लिए तो मैं नाम-ए-मु’आविया
मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

हाथों में उन के हाथ न देते कभी हसन
एक भी न ठीक होता जो काम-ए-मु’आविया

मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

लेता हूँ इस लिए तो मैं नाम-ए-मु’आविया
मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

निकली है उन की मद्ह ज़बान-ए-हुज़ूर से
है किस क़दर बुलंद मक़ाम-ए-मु’आविया

मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

लेता हूँ इस लिए तो मैं नाम-ए-मु’आविया
मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

बज़्म-ए-सहाबियत के वो दोनों सिराज हैं
उन के निशान-ए-पा सर-ए-मोमिन के ताज हैं
बेशक ‘अली हमारे, हमारे मु’आविया
अल्लाह और रसूल के प्यारे मु’आविया

मौला ‘अली ने माना न उन को कभी बुरा
वो भी अदब से लेते थे नाम-ए-मु’आविया

मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

लेता हूँ इस लिए तो मैं नाम-ए-मु’आविया
मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

ये है रज़ा का फ़ैज़ कि राशिद के हाथ में
हुब्ब-ए-‘अली की मय है और जाम-ए-मु’आविया

मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

लेता हूँ इस लिए तो मैं नाम-ए-मु’आविया
मैं हूँ ग़ुलाम इब्न-ए-ग़ुलाम-ए-मु’आविया

ना’त-ख़्वाँ:
सबतर अख़्तरी

 

leta hu.n is liye to mai.n naam-e-mu’aawiya
mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

ham ne to dekhni hai faqat nisbat-e-nabi
hai un ke qurb waalo.n me.n naam-e-mu’aawiya

mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

leta hu.n is liye to mai.n naam-e-mu’aawiya
mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

hasan ke dast-e-paak se bane KHalifa-e-rasool
riza-e-aal-e-mustafa KHilaafat-e-mu’aawiya

mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

leta hu.n is liye to mai.n naam-e-mu’aawiya
mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

haatho.n me.n un ke haath na dete kabhi hasan
ek bhi na Theek hota jo kaam-e-mu’aawiya

mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

leta hu.n is liye to mai.n naam-e-mu’aawiya
mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

nikli hai un ki mad.h zabaan-e-huzoor se
hai kis qadar buland maqaam-e-mu’aawiya

mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

leta hu.n is liye to mai.n naam-e-mu’aawiya
mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

bazm-e-sahaabiyat ke wo dono.n siraaj hai.n
un ke nishaan-e-paa sar-e-momin ke taaj hai.n
beshak ‘ali hamaare, hamaare mu’aawiya
allah aur rasool ke pyaare mu’aawiya

maula ‘ali ne maana na un ko kabhi bura
wo bhi adab se lete the naam-e-mu’aawiya

mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

leta hu.n is liye to mai.n naam-e-mu’aawiya
mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

ye hai raza ka faiz ki Raashid ke haath me.n
hubb-e-‘ali ki mai hai aur jaam-e-mu’aawiya

mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

leta hu.n is liye to mai.n naam-e-mu’aawiya
mai.n hu.n Gulaam ibn-e-Gulaam-e-mu’aawiya

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *