Har Sunni Ke Pyare Hain Sultan Bareilly Ke Naat Lyrics

Har Sunni Ke Pyare Hain Sultan Bareilly Ke Naat Lyrics

 

 

रज़ा रज़ा ! मेरे रज़ा ! रज़ा रज़ा ! मेरे रज़ा !
रज़ा रज़ा ! मेरे रज़ा ! रज़ा रज़ा ! मेरे रज़ा !

हर सुन्नी के प्यारे हैं सुल्तान बरेली के
हर आँख के तारे हैं सुल्तान बरेली के

गुस्ताख़ ! ज़रा सुन ले, तुझ को ही मिटाने को
इक बर्क़ से धारे हैं सुल्तान बरेली के

सुन्नियों का पेशवा ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !
‘आशिक़ों का रहनुमा ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !
ख़ाइफ़-ए-किब्रिया ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !
बा-कमाल-ओ-बा-हया ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !

चालों में कभी भी न आ पाएँगे हम क्यूँ कि
सुन्नी के सहारे हैं सुल्तान बरेली के

हर सुन्नी के प्यारे हैं सुल्तान बरेली के
हर आँख के तारे हैं सुल्तान बरेली के

पढ़ पढ़ के दुरूदों को, पढ़ पढ़ के सलामों को
हर लम्हा गुज़ारे हैं सुल्तान बरेली के

सुन्नियों का पेशवा ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !
‘आशिक़ों का रहनुमा ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !
ख़ाइफ़-ए-किब्रिया ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !
बा-कमाल-ओ-बा-हया ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !

अब तक न समझ आया, इन ‘अक़्ल के अंधों को
रहमत के फवारे हैं सुल्तान बरेली के

हर सुन्नी के प्यारे हैं सुल्तान बरेली के
हर आँख के तारे हैं सुल्तान बरेली के

यूँ ही लक़ब न आ’ला हज़रत हुआ है इन का
‘उल्मा के दुलारे हैं सुल्तान बरेली के

सुन्नियों का पेशवा ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !
‘आशिक़ों का रहनुमा ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !
ख़ाइफ़-ए-किब्रिया ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !
बा-कमाल-ओ-बा-हया ! रज़ा रज़ा, रज़ा रज़ा !

बेख़ुद ने कहा सब से, किस किस के रज़ा ख़ाँ हैं?
सब बोले हमारे हैं सुल्तान बरेली के

हर सुन्नी के प्यारे हैं सुल्तान बरेली के
हर आँख के तारे हैं सुल्तान बरेली के

सुल्तान बरेली के, सुल्तान बरेली के
सुल्तान बरेली के, सुल्तान बरेली के

शायर:
वसीम बेख़ुद माण्डलवी

ना’त-ख्वाँ:
ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी

 

raza raza ! mere raza !
raza raza ! mere raza !

har sunni ke pyaare hai.n sultaan bareli ke
har aankh ke taare hai.n sultaan bareli ke

gustaaKH ! zara sun le tujh ko hi miTaane ko
ik barq se dhaare hai.n sultaan bareli ke

sunniyo.n ka peshwa ! raza raza, raza raza !
‘aashiqo.n ka rahnuma ! raza raza, raza raza !
KHaaif-e-qibriya ! raza raza, raza raza !
ba-kamaal-o-ba-haya ! raza raza, raza raza !

chaalo.n me.n kabhi na aa paaenge ham kyu.n ki
sunni ke sahaare hai.n sultaan bareli ke

har sunni ke pyaare hai.n sultaan bareli ke
har aankh ke taare hai.n sultaan bareli ke

pa.Dh pa.Dh ke duroodo.n ko pa.Dh pa.Dh ke salaamo.n ko
har lamha guzaare hai.n sultaan bareli ke

sunniyo.n ka peshwa ! raza raza, raza raza !
‘aashiqo.n ka rahnuma ! raza raza, raza raza !
KHaaif-e-qibriya ! raza raza, raza raza !
ba-kamaal-o-ba-haya ! raza raza, raza raza !

ab tak na samajh aaya in ‘aql ke andho.n ko
rahmat ke phawaare hai.n sultaan bareli ke

har sunni ke pyaare hai.n sultaan bareli ke
har aankh ke taare hai.n sultaan bareli ke

yu.n hi laqab na aa’la hazrat huaa hai in ka
‘ulma ke dulaare hai.n sultaan bareli ke

sunniyo.n ka peshwa ! raza raza, raza raza !
‘aashiqo.n ka rahnuma ! raza raza, raza raza !
KHaaif-e-qibriya ! raza raza, raza raza !
ba-kamaal-o-ba-haya ! raza raza, raza raza !

BeKHud ne kaha sab se kis kis ke raza KHaa.n hai.n?
sab bole hamaare hai.n sultaan bareli ke

har sunni ke pyaare hai.n sultaan bareli ke
har aankh ke taare hai.n sultaan bareli ke

sultaan bareli ke, sultaan bareli ke
sultaan bareli ke, sultaan bareli ke

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *