Har Desh Mein Gunjega Ab Ya Rasoolallah Naat Lyrics

Har Desh Mein Gunjega Ab Ya Rasoolallah Naat Lyrics

 

 

फ़िदाका, या रसूलल्लाह ! फ़िदाका, या रसूलल्लाह !
फ़िदाका, या रसूलल्लाह ! फ़िदाका, या रसूलल्लाह !

लब्बैक ! लब्बैक ! लब्बैक लब्बैक लब्बैक !
लब्बैक ! लब्बैक ! लब्बैक लब्बैक लब्बैक !

हम सर पे कफ़न बाँधे मैदान में निकले हैं
बातिल के महलों को हम ढाने निकले हैं

हिम्मत है हमें टोको, दम है तो हमें रोको
हम ना’रा-ए-रिसालत को फैलाने निकले हैं

ना’रा-ए-रिसालत ! या रसूलल्लाह !
ना’रा-ए-रिसालत ! या रसूलल्लाह !

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर शख़्स पुकारेगा अब या रसूलल्लाह

हम सारी दुनिया में हलचल सी मचा देंगे
सरकार के ‘आशिक़ हैं, रंग अपना जमा देंगें

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह

मीलाद-ए-नबी करना ये ख़ून में शामिल है
इस मिशन की ख़ातिर हम दिन-रात लगा देंगे

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह

सरकार की ना’तों से पुर-जोश हैं दीवानें
मीलाद की महफ़िल में माहौल बना देंगे

सारा जहाँ फ़िदा है, मीलाद-ए-मुस्तफ़ा है
हर कोई कह रहा है, मीलाद-ए-मुस्तफ़ा है

सरकार की आमद ! मरहबा !
दिलदार की आमद ! मरहबा !
आक़ा की आमद ! मरहबा !
दाता की आमद ! मरहबा !
सब झूम के बोलो ! मरहबा !
लब चूम के बोलो ! मरहबा !
ललकार के बोलो ! मरहबा !

नूर वाले मुस्तफ़ा आ गए, छा गए
नूर वाले मुस्तफ़ा आ गए, छा गए

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह

क्यूँ-कर न मनाएँ हम ! ये सुन्नी सक़ाफ़त है
मीलाद मनाने पर सरकार जज़ा देंगे

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह

सौदा न करेंगे हम, ईमान न बेचेंगे
नामूस-ए-रिसालत पर दुनिया को हिला देंगे

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह

हर नस्ल का ना’रा है, हर क़ौम का ना’रा है
इस ना’रे से लोगों को आपस में मिला देंगे

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह

इस्लाम जो मज़हब है, पैग़ाम-ए-मोहब्बत है
इस अमन के परचम को हर घर में लगा देंगे

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह

सरकार की ‘इज़्ज़त पर मरना है हमें, लोगो !
ये वा’दा हमारा है, सब कुछ ही लुटा देंगे

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह

हमने यही ठानी है, मन्नत यही मानी है
इस देश की मिट्टी पर ख़ून अपना बहा देंगे

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह

हैं आल-ए-नबी प्यारे, असहाब सितारे हैं
दोनों की मोहब्बत को हर दिल में बसा देंगे

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह

आए हैं उजागर के संग अमजद-ओ-ताहिर भी
पैग़ाम-ए-नबी देंगे, अहकाम-ए-ख़ुदा देंगे

हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह
हर देश में गूँजेगा अब या रसूलल्लाह

बेशक ! वो इंसान नहीं है जो नफ़रत फैलाए
वहशी है, वो क़ातिल है जो ख़ून इंसां का बहाए

अमन की आशा, अमन का परचम मुस्लिम का पैग़ाम है
अमन-ए-‘आलम, दर्स-ए-मोहब्बत, ये मेरा इस्लाम है

हर-सू फ़िर्क़ा-वारियत की हर दीवार गिराएँगे
थाम के अल्लाह की रस्सी को सारे एक हो जाएँगे

अहल-ए-जन्नत का है ‘अक़ीदा, बोलो या रसूलल्लाह
अहल-ए-मोहब्बत का है ना’रा, बोलो या रसूलल्लाह

जोश-ए-ईमाँ की गर्मी से हर मुस्लिम जागेगा
पाक-पतन से देखना, यारो ! हर दुश्मन भागेगा

लिखेंगे तारीख़-ए-वफ़ा हम ख़ून से अपने, लोगो !
दोहराएँगे कर्ब-ओ-बला हम ख़ून से अपने लोगो

नस-नस में बिजली जागी है, वक़्त-ए-शहादत आया
दीन पे हमने कमर बाँधी है, वक़्त-ए-शहादत आया

उन के ग़ुलामों से न उलझो, ये दुनिया में फैल गए
गुस्ताख़ों को ख़त्म किया और अपनी जाँ पर खेल गए

जानों का नज़राना ले कर मक़्तल मक़्तल जाएँगे
हुरमत-ए-आक़ा पर, ऐ उजागर ! सूली पर चढ़ जाएँगे

लब्बैक ! लब्बैक ! लब्बैक या रसूलल्लाह !
लब्बैक ! लब्बैक ! लब्बैक या रसूलल्लाह !

शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी
अमजद साबरी

 

fidaaka, ya rasoolallah ! fidaaka, ya rasoolallah !
fidaaka, ya rasoolallah ! fidaaka, ya rasoolallah !

labbaik ! labbaik ! labbaik labbaik labbaik !
labbaik ! labbaik ! labbaik labbaik labbaik !

ham sar pe kafan baandhe maidaan me.n nikle hai.n
baatil ke mahalo.n ko ham Dhaane nikle hai.n

himmat hai hame.n roko, dam hai to hame.n roko
ham naa’ra-e-risaalat ko phailaane nikle hai.n

naa’ra-e-risaalat ! ya rasoolallah !
naa’ra-e-risaalat ! ya rasoolallah !

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har shaKHs pukaarega ab ya rasoolallah

ham saari duniya me.n halchal si macha denge
sarkaar ke ‘aashiq hai.n, rang apna jama denge

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah

meelaad-e-nabi karna ye KHoon me.n shaamil hai
is mishan ki KHaatir ham din-raat laga denge

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah

sarkaar ki naa’to.n se pur-josh hai.n deewaane.n
meelaad ki mehfil me.n maahaul bana denge

saara jahaa.n fida hai, meelaad-e-mustafa hai
har koi keh raha hai, meelaad-e-mustafa hai

sarkaar ki aamad ! marhaba !
dildaar ki aamad ! marhaba !
aaqa ki aamad ! marhaba !
data ki aamad ! marhaba !
sab jhoom ke bolo ! marhaba !
lab choom ke bolo ! marhaba !
lalkaar ke bolo ! marhaba !

noor waale mustafa aa gae, chhaa gae
noor waale mustafa aa gae, chhaa gae

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah

kyu.n-kar na manaae.n ham ! ye sunni saqaafat hai
meelaad manaane par sarkaar jaza denge

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah

sauda na karenge ham, imaan na bechenge
naamoos-e-risaalat par duniya ko hila denge

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah

har nasl ka naa’ra hai, har qaum ka naa’ra hai
is naa’re se logo.n ko aapas me.n mila denge

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah

islaam jo maz.hab hai, paiGaam-e-mohabbat hai
is aman ke parcham ko har ghar me.n laga denge

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah

sarkaar ki ‘izzat par marna hai hame.n, logo !
ye waa’da hamaara hai, sab kuchh hi luTa denge

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah

hamne yahi Thaani hai, mannat yahi maani hai
is desh ki miTTi par KHoon apna baha denge

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah

hai.n aal-e-nabi pyaare, as.haab sitaare hai.n
dono.n ki mohabbat ko har dil me.n basa denge

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah

aae hai.n Ujaagar ke sang Amjad-o-Taahir bhi
paiGaam-e-nabi denge, ahkaam-e-KHuda denge

har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah
har desh me.n goonjega ab ya rasoolallah

beshak ! wo insaan nahi.n hai jo nafrat phailaae
wahshi hai, wo qaatil hai jo KHoon insaa.n ka bahaae

aman ki aasha, aman ka parcham muslim ka paiGaam hai
aman-e-‘aalam, dars-e-mohabbat, ye mera islaam hai

har-soo firqa-waariyat ki har deewaar giraaenge
thaam ke allah ki rassi ko saare ek ho jaaenge

ahl-e-jannat ka hai ‘aqeeda, bolo ya rasoolallah
ahl-e-mohabbat ka hai naa’ra, bolo ya rasoolallah

josh-e-imaa.n ki garmi se har muslim jaagega
paak-patan se dekhna, yaaro ! har dushman bhaagega

likhenge taareeKH-e-wafa ham KHoon se apne, logo !
dohraaenge karb-o-bala ham KHoon se apne, logo !

nas-nas me.n bijli jaagi hai, waqt-e-shahaadat aaya
deen pe hamne kamar baandhi hai, waqt-e-shahaadat aaya

un ke Gulaamo.n se na uljho, ye duniya me.n phail gae
gustaaKHo.n ko KHatm kiya aur apni jaa.n par khel gae

jaano.n ka nazraana le kar maqtal maqtal jaaenge
hurmat-e-aaqa par, ai Ujaagar ! sooli par cha.Dh jaaenge

labbaik ! labbaik ! labbaik ya rasoolallah !
labbaik ! labbaik ! labbaik ya rasoolallah !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *