Hamaare ‘Ishq Ka Jazba Agar Bedaar Ho Jaae Naat Lyrics

Hamaare ‘Ishq Ka Jazba Agar Bedaar Ho Jaae Naat Lyrics

 

 

हमारे ‘इश्क़ का जज़्बा अगर बेदार हो जाए
नबी के दीन का दुश्मन ज़लील-ओ-ख़्वार हो जाए
क़मर क्या है ! इशारे से फ़लक दो-चार हो जाए
अगर लकड़ी को छू दे मुस्तफ़ा, तलवार हो जाए

अगर दिल से फ़िदा-ए-हज़रत-ए-‘उस्मान हो जाते
गदा बन के भी अपने वक़्त के सुल्तान हो जाते
मेरा दिल हज़रत-ए-‘अय्यूब-अंसारी का घर होता
मुहम्मद मुस्तफ़ा स़ल्ले ‘अला मेहमान हो जाते

मदीने की हवा मुज़्दा मदीने का सुना जाए
मैं तयबा जाऊँ या तयबा मेरे दिल में समा जाए
इसी उम्मीद पे हर सुब्ह को सूरज निकलता है
‘अली की गोद में फिर मुस्तफ़ा को नींद आ जाए

ज़माने में कहाँ कोई भी बहलाने के क़ाबिल है
कहाँ कोई दिल-ए-मुज़्तर को समझाने के क़ाबिल है
जनाज़ा देख के मैंने कहा, मत क़ब्र ले जाओ
ये मेरी माँ है, मेरे दिल में दफ़नाने के क़ाबिल है

शायर:
मुबारक हुसैन मुबारक

नात-ख़्वाँ:
मुबारक हुसैन मुबारक

 

hamaare ‘ishq ka jazba agar bedaar ho jaae
nabi ke deen ka dushman zaleel-o-KHwaar ho jaae
qamar kya hai ! ishaare se falak do-chaar ho jaae
agar lak.Di ko chhu de mustafa, talwaar ho jaae

agar dil se fida-e-hazrat-e-‘usmaan ho jaate
gada ban ke bhi apne waqt ke sultaan ho jaate
mera dil hazrat-e-‘ayyub-ansaari ka ghar hota
muhammad mustafa salle ‘ala mehmaan ho jaate

madine ki hawa muzda madine ka suna jaae
mai.n tayba jaau.n ya tayba mere dil me.n sama jaae
isi ummeed pe har sub.h ko sooraj nikalta hai
‘ali ki god me.n phir mustafa ko neend aa jaae

zamaane me kahaa.n koi bhi bahlaane ke qaabil hai
kahaa.n koi dil-e-muztar ko samjhaane ke qaabil hai
janaaza dekh ke mai.n ne kaha, mat qabr le jaao
ye meri maa.n hai, mere dil me.n dafnaane ke qaabil hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *