Gham Sabhi Raahat-o-Taskeen Mein Dhal Jaate Hain Naat Lyrics

Gham Sabhi Raahat-o-Taskeen Mein Dhal Jaate Hain Naat Lyrics

 

 

ग़म सभी राहत-ओ-तस्कीन में ढल जाते हैं
जब करम होता है, हालात बदल जाते हैं

उन की रहमत है ख़ता-पोश गुनहगारों की
खोटे सिक्के सर-ए-बाज़ार भी चल जाते हैं

इस्म-ए-अहमद का वज़ीफ़ा है हर इक ग़म का ‘इलाज
लाख ख़तरे हों, इसी नाम से टल जाते हैं

आप के ज़िक्र से इक कैफ़ मिला करता है
और जितने भी हैं असरार वो खुल जाते हैं

अपनी आग़ोश में ले लेता है जब उन का करम
ज़िंदगी के सभी अंदाज़ बदल जाते हैं

रख ही लेते हैं भरम, उन के करम के सदक़े
जब किसी बात पे दीवाने मचल जाते हैं

दम निकल जाए तेरी याद में, फिर हम भी कहें
लिल्लाहिल-हम्द ! लिए हुस्न-ए-‘अमल जाते हैं

आ पड़े हैं तेरे क़दमों में ये सुन कर हम भी
जो तेरे क़दमों पे गिरते हैं, सँभल जाते हैं

कोई देखे तो ज़रा, उन की दुहाई दे कर
‘इश्क़ सादिक़ हो तो पत्थर भी पिगल जाते हैं

आप को का’बा-ए-मक़्सूद ही मानो, ख़ालिद !
आप के दर पे सब अरमान निकल जाते हैं

शायर:
ख़ालिद महमूद ख़ालिद नक़्शबंदी

नात-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी – असद रज़ा अत्तारी

 

Gam sabhi raahat-o-taskeen me.n Dhal jaate hai.n
jab karam hota hai, haalaat badal jaate hai.n

un ki rahmat hai KHata-posh gunahgaaro.n ki
khoTe sikke sar-e-bazaar bhi chal jaate hai.n

ism-e-ahmad ka wazeefa hai har ik Gam ka ‘ilaaj
laakh KHatre ho.n, isi naam se Tal jaate hai.n

aap ke zikr se ik kaif mila karta hai
aur jitne bhi hai.n asraar wo khul jaate hai.n

apni aaGosh me.n le leta hai jab un ka karam
zindagi ke sabhi andaaz badal jaate hai.n

rakh hi lete hai.n bharam, un ke karam ke sadqe
jab kisi baat pe deewaane machal jaate hai.n

dam nikal jaae teri yaad me.n, phir ham bhi kahe.n
lillahil-hamd ! liye husn-e-‘amal jaate hai.n

aa pa.De hai.n tere qadmo.n me.n ye sun kar ham bhi
jo tere qadmo.n pe girte hai.n, sambhal jaate hai.n

koi dekhe to zara, un ki duhaai de kar
‘ishq saadiq ho to patthar bhi pigal jaate hai.n

aap ko kaa’ba-e-maqsood hi maano, KHaalid !
aap ke dar pe sab armaan nikal jaate hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *