Habeeb-e-Khuda ‘Arsh Par Jaane Waale Naat Lyrics

Habeeb-e-Khuda ‘Arsh Par Jaane Waale Naat Lyrics

 

 

हबीब-ए-ख़ुदा, ‘अर्श पर जाने वाले
वो इक आन में जा के फिर आने वाले

ख़ुदा को इन आँखों से देख आने वाले
वो तफ़्सील से सैर फ़रमाने वाले

वो इक आन में जा के फिर आने वाले

हबीब-ए-ख़ुदा, ‘अर्श पर जाने वाले

वो अक़्सा में मे’राज की शब पहुँच कर
इमामत नबियों की फ़रमाने वाले

वो इक आन में जा के फिर आने वाले

हबीब-ए-ख़ुदा, ‘अर्श पर जाने वाले

इशारे से उन के क़मर के हुए दो
ये हैं दम में सूरज को लौटाने वाले

वो इक आन में जा के फिर आने वाले

हबीब-ए-ख़ुदा, ‘अर्श पर जाने वाले

रहा उन के माथे शफ़ा’अत का सेहरा
यही हैं गुनाहों के बख़्शाने वाले

वो इक आन में जा के फिर आने वाले

हबीब-ए-ख़ुदा, ‘अर्श पर जाने वाले

दुआ है कि अहबाब में हो ये चर्चा
जमील अब मदीने को हैं आने वाले

वो इक आन में जा के फिर आने वाले

हबीब-ए-ख़ुदा, ‘अर्श पर जाने वाले

शायर:
मौलाना मुहम्मद जमीलुर्रहमान रज़वी

नात-ख़्वाँ:
मुहम्मद वक़ार अत्तारी

 

habeeb-e-KHuda, ‘arsh par jaane waale
wo ik aan me.n jaa ke phir aane waale

KHuda ko in aankho.n se dekh aane waale
wo tafseel se sair farmaane waale

wo ik aan me.n jaa ke phir aane waale

habeeb-e-KHuda, ‘arsh par jaane waale

wo aqsa me.n me’raaj ki shab pahunch kar
imaamat nabiyo.n ki farmaane waale

wo ik aan me.n jaa ke phir aane waale

habeeb-e-KHuda, ‘arsh par jaane waale

ishaare se un ke qamar ke hue do
ye hai.n dam me.n sooraj ko lautaane waale

wo ik aan me.n jaa ke phir aane waale

habeeb-e-KHuda, ‘arsh par jaane waale

raha un ke maathe shafaa’at ka sehra
yahi hai.n gunaaho.n ke baKHshaane waale

wo ik aan me.n jaa ke phir aane waale

habeeb-e-KHuda, ‘arsh par jaane waale

duaa hai ki ahbaab me.n ho ye charcha
Jameel ab madeene ko hai.n aane waale

wo ik aan me.n jaa ke phir aane waale

habeeb-e-KHuda, ‘arsh par jaane waale

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *