Dilon Se Gham Mitaata hai Muhammad Naam Aisa Hai Naat Lyrics

Dilon Se Gham Mitaata hai Muhammad Naam Aisa Hai Naat Lyrics

 

दिलों से ग़म मिटाता है, मुहम्मद नाम ऐसा है
नगर उजड़े बसाता है, मुहम्मद नाम ऐसा है

उन्हीं के नाम से पाई फ़क़ीरों ने शहंशाही
ख़ुदा से भी मिलाता है, मुहम्मद नाम ऐसा है

उन्हीं के ज़िक्र से रौशन रुतें फिर लौट आती हैं
नसीबों को जगाता है, मुहम्मद नाम ऐसा है

दुरूदों की महक से महफ़िलें आबाद रहती हैं
मेरी ना’तें सजाता है, मुहम्मद नाम ऐसा है

मोहब्बत के कँवल खिलते हैं उन को याद करने से
बड़ी ख़ुशबूएँ लाता है, मुहम्मद नाम ऐसा है

मदद हासिल है मुझ को हर घड़ी शाह-ए-मदीना की
मेरी बिगड़ी बनाता है, मुहम्मद नाम ऐसा है

मैं, फ़ख़री ! फ़िक्र-ए-दुनिया-ओ-आख़िरत सब भूल जाता हूँ
मुझे जब याद आता है, मुहम्मद नाम ऐसा है

शायर:
ज़ाहिद फ़ख़री

नात-ख़्वाँ:
सय्यिद अहमद सोहरवर्दी

 

dilo.n se Gam miTaata hai, muhammad naam aisa hai
nagar uj.De basaata hai, muhammad naam aisa hai

unhi.n ke naam se paai faqeero.n ne shahanshaahi
KHuda se bhi milaata hai, muhammad naam aisa hai

unhi.n ke zikr se raushan rute.n phir laut aati hai.n
naseebo.n ko jagaata hai, muhammad naam aisa hai

duroodo.n ki mahak se mahfile.n aabaad rahti hai.n
meri naa’te.n sajaata hai, muhammad naam aisa hai

mohabbat ke kanwal khilte hai.n un ko yaad karne se
ba.Di KHushbooe.n laata hai, muhammad naam aisa hai

madad hasil hai mujh ko har gha.Di shaah-e-madina ki
meri big.Di banaata hai, muhammad naam aisa hai

mai.n FaKHri ! fikr-e-duniya-o-aaKHirat sab bhool jaata hu.n
mujhe jab yaad aata hai, muhammad naam aisa hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *