Ata-e-Mustafa Mere Khwaja Piya Hasan Husain Se Hai Aap Ko Nisbat Naat Lyrics

Ata-e-Mustafa Mere Khwaja Piya Hasan Husain Se Hai Aap Ko Nisbat Naat Lyrics

 

 

‘अता-ए-मुस्तफ़ा ! मेरे ख़्वाजा पिया !
हसन, हुसैन से है आप को निस्बत
नबी की आल हो, ‘अली के लाल हो
बयाँ हो किस ज़बाँ से आप की अज़मत

मुस्तफ़ा ने तुम्हें हिन्द भेजा, तुम मुरादे नबी हो
हिन्द जिस से मुनव्वर हुआ है, आप वो रौशनी हो
रिज़ा-ए-मुस्तफ़ा ! हबीब-ए-किब्रिया !
ज़मीं क्या, है फ़लक पर आप की शोहरत

‘अता-ए-मुस्तफ़ा ! मेरे ख़्वाजा पिया !
हसन, हुसैन से है आप को निस्बत
नबी की आल हो, ‘अली के लाल हो
बयाँ हो किस ज़बाँ से आप की अज़मत

एक मुद्दत से दिल में है अरमाँ, मैं भी अजमेर जाऊँ
थाम कर तुमरे रौज़े की जाली, हाल दिल का सुनाऊँ
दिल-ए-बेताब की, सदा सुन लो, सख़ी !
दिखा दीजे मुझे भी वो हसीं तुर्बत

‘अता-ए-मुस्तफ़ा ! मेरे ख़्वाजा पिया !
हसन, हुसैन से है आप को निस्बत
नबी की आल हो, ‘अली के लाल हो
बयाँ हो किस ज़बाँ से आप की अज़मत

एक कासे में दरिया डुबोया, डूबतों को तिराया
जोगी जयपाल को तुम ने, ख़्वाजा ! है मुसलमाँ बनाया
ख़ुदा की शान हो, नबी की जान हो
ज़माना जानता है आप की रिफ़’अत

‘अता-ए-मुस्तफ़ा ! मेरे ख़्वाजा पिया !
हसन, हुसैन से है आप को निस्बत
नबी की आल हो, ‘अली के लाल हो
बयाँ हो किस ज़बाँ से आप की अज़मत

आप को अपना सरदार माना हिन्द के औलिया ने
मेरे साबिर ने, वारिस पिया ने और अहमद रज़ा ने
तुम्ही हिन्दल-वली, न तुम सा है कोई
लब-ए-सरकार पर है आप की मिदहत

‘अता-ए-मुस्तफ़ा ! मेरे ख़्वाजा पिया !
हसन, हुसैन से है आप को निस्बत
नबी की आल हो, ‘अली के लाल हो
बयाँ हो किस ज़बाँ से आप की अज़मत

तुम ने ता’लीम तौहीद की दी, शिर्क से है बचाया
बुत-परस्ती में जो मुब्तला थे, उन को कलमा पढ़ाया
सदा इस्लाम की, ए ‘आसिम ! गूँज उठी
हुई काफ़ूर कुफ़्र-ओ-शिर्क की बिद’अत

‘अता-ए-मुस्तफ़ा ! मेरे ख़्वाजा पिया !
हसन, हुसैन से है आप को निस्बत
नबी की आल हो, ‘अली के लाल हो
बयाँ हो किस ज़बाँ से आप की अज़मत

शायर:
मुहम्मद ‘आसिम-उल-क़ादरी मुरादाबादी

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी और हाफ़िज़ अहसन क़ादरी

 

‘ata-e-mustafa ! mere KHwaja piya !
hasan, husain se hai aap ko nisbat
nabi ki aal ho, ‘ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zabaa.n se aap ki azmat

mustafa ne tumhe.n hind bheja
tum muraade nabi ho
hind jis se munawwar huaa hai
aap wo raushni ho
riza-e-mustafa ! habeeb-e-kibriya !
zamee.n kya, hai falak par aap ki shohrat

‘ata-e-mustafa ! mere KHwaja piya !
hasan, husain se hai aap ko nisbat
nabi ki aal ho, ‘ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zabaa.n se aap ki azmat

ek muddat se dil me.n hai armaa.n
mai.n bhi ajmer jaau.n
thaam kar tumre rauze ki jaali
haal dil ka sunaau.n
dil-e-betaab ki, sadaa sun lo, saKHi !
dikha deeje mujhe bhi wo hasee.n turbat

‘ata-e-mustafa ! mere KHwaja piya !
hasan, husain se hai aap ko nisbat
nabi ki aal ho, ‘ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zabaa.n se aap ki azmat

ek kaase me.n dariya Duboya
Doobto.n ko tiraaya
jogi jaypaal ko tum ne, KHwaja !
hai musalmaa.n banaaya
KHuda ki shaan ho, nabi ki jaan ho
zamaana jaanta hai aap ki rif’at

‘ata-e-mustafa ! mere KHwaja piya !
hasan, husain se hai aap ko nisbat
nabi ki aal ho, ‘ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zabaa.n se aap ki azmat

aap ko apna sardaar maana
hind ke auliya ne
mere saabir ne, waaris piya ne
aur ahmad raza ne
tumhi hindal-wali, na tum sa hai koi
lab-e-sarkaar par hai aap ki mid.hat

‘ata-e-mustafa ! mere KHwaja piya !
hasan, husain se hai aap ko nisbat
nabi ki aal ho, ‘ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zabaa.n se aap ki azmat

tum ne taa’lim tauheed ki di
shirk se hai bachaaya
but-parasti me.n jo mubtalaa the
un ko kalma pa.Dhaaya
sadaa islam ki, ai ‘Aasim ! goonj uThi
hui kaafoor kufr-o-shirk ki bid’at

‘ata-e-mustafa ! mere KHwaja piya !
hasan, husain se hai aap ko nisbat
nabi ki aal ho, ‘ali ke laal ho
bayaa.n ho kis zabaa.n se aap ki azmat

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *