Aap Makhdoom Hain Aur Khadim Hain Ham Ye Ghulami Ka Rishta Salamat Rahe Naat Lyrics

Aap Makhdoom Hain Aur Khadim Hain Ham Ye Ghulami Ka Rishta Salamat Rahe Naat Lyrics

 

 

या अशरफ़ सरकार ! या अशरफ़ सरकार !

सरवरा, शाहा, करीमा, दस्तगीरा, अशरफ़ा
हुर्मत-ए-रूह-ए-पयंबर, यक नज़र कुन सू-ए-मा

आप मख़्दूम हैं और ख़ादिम हैं हम
ये ग़ुलामी का रिश्ता सलामत रहे
हम ग़ुलामों के दिल की ये आवाज़ है
आप का प्यारा रोज़ा सलामत रहे

आप सुलतान हैं, शाह-ए-सिमनान हैं
आप ज़हरा के आँगन का फ़ैज़ान हैं
आप आल-ए-नबी और जान-ए-‘अली
ये किछौछा का जल्वा सलामत रहे

आप मख़्दूम हैं और ख़ादिम हैं हम
ये ग़ुलामी का रिश्ता सलामत रहे
हम ग़ुलामों के दिल की ये आवाज़ है
आप का प्यारा रोज़ा सलामत रहे

राहत-ए-दिल है ये राहत-ए-जान है
कपकपाते लबों की ये मुस्कान है
अल-मदद अशरफ़ा ! अल-मदद अशरफ़ा !
ये हमारा वज़ीफ़ा सलामत रहे

आप मख़्दूम हैं और ख़ादिम हैं हम
ये ग़ुलामी का रिश्ता सलामत रहे
हम ग़ुलामों के दिल की ये आवाज़ है
आप का प्यारा रोज़ा सलामत रहे

सारे मंतर, तिलिस्म-ओ-सहर कट गए
जिस को पीते ही सारे मरज़ छट गए
है हमारे लिए तो ये आब-ए-हयात
आप का नीर बहता सलामत रहे

आप मख़्दूम हैं और ख़ादिम हैं हम
ये ग़ुलामी का रिश्ता सलामत रहे
हम ग़ुलामों के दिल की ये आवाज़ है
आप का प्यारा रोज़ा सलामत रहे

फ़िक्र ही अब नहीं ग़म मिले या ख़ुशी
कैसे गुज़रेगी जामी की ये ज़िंदगी
अशरफ़ा तेरे दामन में रहना है बस
तेरे दामन का साया सलामत रहे

आप मख़्दूम हैं और ख़ादिम हैं हम
ये ग़ुलामी का रिश्ता सलामत रहे
हम ग़ुलामों के दिल की ये आवाज़ है
आप का प्यारा रोज़ा सलामत रहे

शायर:
सय्यिद जामी अशरफ़

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी

 

ya ashraf sarkaar ! ya ashraf sarkaar !

sarwara, shaaha, kareema
dast-geera, ashrafa
hurmat-e-rooh-e-payambar
yak nazar kun soo-e-maa

aap maKHdoom hai.n aur KHaadim hai.n ham
ye Gulaami ka rishta salaamat rahe
ham Gulaamo.n ke dil ki ye aawaaz hai
aap ka pyaara roza salaamat rahe

aap sultaan hai.n, shaah-e-simnaan hai.n
aap zahra ke aangan ka faizaan hai.n
aap aal-e-nabi aur jaan-e-‘ali
ye kichhauchha ka jalwa salaamat rahe

aap maKHdoom hai.n aur KHaadim hai.n ham
ye Gulaami ka rishta salaamat rahe
ham Gulaamo.n ke dil ki ye aawaaz hai
aap ka pyaara roza salaamat rahe

raahat-e-dil hai ye raahat-e-jaan hai
kapkapaate labo.n ki ye muskaan hai
al-madad ashrafa ! al-madad ashrafa !
ye hamaara wazeefa salaamat rahe

aap maKHdoom hai.n aur KHaadim hai.n ham
ye Gulaami ka rishta salaamat rahe
ham Gulaamo.n ke dil ki ye aawaaz hai
aap ka pyaara roza salaamat rahe

saare mantar, tilism-o-sahar kaT gae
jis ko peete hi saare maraz chhaT gae
hai hamaare liye to ye aab-e-hayaat
aap ka neer bahta salaamat rahe

aap maKHdoom hai.n aur KHaadim hai.n ham
ye Gulaami ka rishta salaamat rahe
ham Gulaamo.n ke dil ki ye aawaaz hai
aap ka pyaara roza salaamat rahe

fikr hi ab nahi.n Gam mile ya KHushi
kaise guzregi Jaami ki ye zindagi
ashrafa tere daaman me.n rahna hai bas
tere daaman ka saaya salaamat rahe

aap maKHdoom hai.n aur KHaadim hai.n ham
ye Gulaami ka rishta salaamat rahe
ham Gulaamo.n ke dil ki ye aawaaz hai
aap ka pyaara roza salaamat rahe

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *