Aao Ki Karein Un Lab-o-Rukhsaar Ki Baatein Sarkaar Ki Baatein Naat Lyrics

Aao Ki Karein Un Lab-o-Rukhsaar Ki Baatein Sarkaar Ki Baatein Naat Lyrics

 

 

आओ कि करें उन लब-ओ-रुख़्सार की बातें, सरकार की बातें
महबूब-ए-ख़ुदा, पैकर-ए-अनवार की बातें, सरकार की बातें

जब कोई नहीं, कोई नहीं, कोई सहारा, ग़म-ख़्वार हमारा
हम क्यूँ न करें अपने ख़रीदार की बातें, सरकार की बातें

हसनैन की हों, अकबर-ओ-असग़र की हों बातें, ज़हरा-ओ-‘अली की
हर रंग में हो सीरत-ओ-किरदार की बातें, सरकार की बातें

ए काश कि महफ़िल हो अबू-बक्र-ओ-‘उमर की, ‘उस्मान-ओ-‘अली की
यारों से सुनें हम भी कभी यार की बातें, सरकार की बातें

सूरज करे शबनम से कि जुगनू से सितारा या फूल से तितली
उस ज़ुल्फ़-ए-मु’अंबर के हैं असरार की बातें, सरकार की बातें

देता था अबू-जहल भी बढ़ चढ़ के गवाही इख़्लास-ए-नबी की
होती थी अगर लहजा-ओ-गुफ़्तार की बातें, सरकार की बातें

हर ज़र्रा-ए-ना’लैन-ए-मुहम्मद की गदाई, ‘आफ़ी की है शाही
करता है सदा बारिश-ए-अनवार की बातें, सरकार की बातें

शायर:
अय्यूब ‘आफ़ी

ना’त-ख़्वाँ:
उस्ताद नदीम सलामत
ख़ालिद हसनैन ख़ालिद
अनस असलम क़ादरी

 

aao ki kare.n un lab-o-ruKHsaar ki baate.n
sarkaar ki baate.n
mahboob-e-KHuda, paikar-e-anwaar ki baate.n
sarkaar ki baate.n

jab koi nahi.n, koi nahi.n, koi sahaara
Gam-KHwaar hamaara
ham kyu.n na kare.n apne KHareedaar ki baate.n
sarkaar ki baate.n

hasnain ki ho.n, akbar-o-asGar ki ho.n baate.n
zahra-o-‘ali ki
har rang me.n ho seerat-o-kirdaar ki baate.n
sarkaar ki baate.n

ai kaash ki mahfil ho abu-bakr-o-‘umar ki
‘usmaan-o-‘ali ki
yaaro.n se sune.n ham bhi kabhi yaar ki baate.n
sarkaar ki baate.n

sooraj kare shabnam se ki jugnoo se sitaara
ya phool se titli
un zulf-e-mu’ambar ke hai.n asraar ki baate.n
sarkaar ki baate.n

deta tha abu-jahal bhi ba.Dh ch.Dh ke gawaahi
iKHlaas-e-nabi ki
hoti thi agar lahja-o-guftaar ki baate.n
sarkaar ki baate.n

har zarra-e-naa’lain-e-muhammad ki gadaai
‘Aafi ki hai shaahi
karta hai sadaa baarish-e-anwaar ki baate.n
sarkaar ki baate.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *