Zulfe Sarkar Se Jab Chehra Nikalta Hoga Lyrics

 

Zulf E Sarkar Se Jab Chehre Nikalta Hoga
Phir Bala Kaise Koi Chand Ko Takta Hoga

ज़ुल्फ़ ए सरकार से जब चेहरा निकलता होगा
फिर भला कैसे कोई चांद को तकता होगा

 

Ae Halima Ye Bata Tune to Dekha Hoga
Kaise Tujhse mera Mahboob lipatta hoga

ऐ हलीमा ये बता! तूने तो देखा होगा
कैसे तुझसे मेरा महबूब लिपटता होगा

 

Jab Kabhi Aap Andhere Mein Nikalte Honge
Shab-e-tariqi Me Khusheed Chamakta Hoga

जब कभी आप अंधेरे में निकलते होंगे
शब ए तारीक़ी में खुर्शीद चमकता होगा

 

Mujhko Maloom Hai Taiba Se Judaai Ka Asar
Ke Shaam Ko Shams Bhi Rota Hua Dhaltha Hoga

मुझको मालूम है तैबा से जुदाई का असर
के शाम को शम्स भी रोता हुआ ढलता होगा

 

Kaabil E Rashk Hai Siddique Wo Aansu Tera
Ghaar Me Aap Ke Rukh Pe Jo Tapakta Hoga

काबिल ए रश्क है सिद्दीक़ वो आंसू तेरा
ग़ार में आपके रुख़ पे जो टपकता होगा

 

Haakim Us Dil Ko Zara Thes Na Pahunchegi Kabhi
Yaad E Sarkar Me Har Pal Jo Dhadakta Hoga

हाकिम उस दिल को ज़रा ठेस ना पहुंचेगी कभी
यादे सरकार में हर पल जो धड़कता होगा

 

Raaz Chanda Ke Haseen Hone Ka Ab Main Samjha
Ke Khaak E Nalain Ko Chehre Pe Wo Malta Hoga

राज़ चन्दा के हसीं होने का अब समझा हूँ
के खाक ए नालैन को चेहरे पे वो मलता होगा

 

naat zulfe sarkar se jab chehra nikalta hoga lyrics
Zulfe Sarkar Se Jab Lyrics

By sulta