Wo Jo Chaahen Chaand Ko Tod Den Unhen Ikhtiyaar Diya Gaya Naat Lyrics

Wo Jo Chaahen Chaand Ko Tod Den Unhen Ikhtiyaar Diya Gaya Naat Lyrics

 

 

वो जो चाहें चाँद को तोड़ दें, उन्हें इख़्तियार दिया गया
वो फिर उस के टुकड़ों को जोड़ दें, उन्हें इख़्तियार दिया गया

जो ‘अली की ‘अस्र क़ज़ा हुई, तो वो वक़्त पर ही अदा हुई
छुपे आफ़ताब को मोड़ दें, उन्हें इख़्तियार दिया गया

किसी उम्मती को सक़र के रुख़ लिए जा रहे हों मलाइका
वो पकड़ के ख़ुल्द को मोड़ दें, उन्हें इख़्तियार दिया गया

वो नबी की मुट्ठी का मो’जिज़ा कि ‘वमा रमैत’ कहे ख़ुदा
वो निगाह कुफ़्र की फोड़ दें, उन्हें इख़्तियार दिया गया

लिखो, नाज़िश ! उन का ये मो’जिज़ा कि किसी की आँख निकल गई
तो लु’आब-ए-पाक से जोड़ दें, उन्हें इख़्तियार दिया गया

शायर:
हनीफ़ नाज़िश

ना’त-ख़्वाँ:
सरवर हुसैन नक़्शबंदी
अज़ीम अत्तारी मदनी

 

wo jo chaahe.n chaand ko to.D de.n
unhe.n iKHtiyaar diya gaya
wo phir us ke Tuk.Do.n ko jo.D de.n
unhe.n iKHtiyaar diya gaya

jo ‘ali ki ‘asr qaza hui
to wo waqt par hi ada hui
chhupe aaftaab ko mo.D de.n
unhe.n iKHtiyaar diya gaya

kisi ummati ko saqar ke ruKH
liye jaa rahe ho.n malaaika
wo paka.D ke KHuld ko mo.D de.n
unhe.n iKHtiyaar diya gaya

wo nabi ki muTThi ka mo’jiza
ki ‘wamaa ramait’ kahe KHuda
wo nigaah kufr ki pho.D de.n
unhe.n iKHtiyaar diya gaya

likho, Naazish ! un ka ye mo’jiza
ki kisi ki aankh nikal gai
to lu’aab-e-paak se jo.D de.n
unhe.n iKHtiyaar diya gaya

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *