Tere Dar Ki Ho Khair Shah-e-Ajmer Kar Do Karam More Khwaja Naat Lyrics

Tere Dar Ki Ho Khair Shah-e-Ajmer Kar Do Karam More Khwaja Naat Lyrics

 

 

Tere Dar Ki Ho Khair, Shah-e-Ajmer | Kar Do Karam, More Khwaja

 

 

कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !
कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !

तेरे दर की हो ख़ैर, शह-ए-अजमेर !
मिटे ग़म की अँधेर, शह-ए-अजमेर !

कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !
कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !

फ़रियाद सुनो मोरे नैनन की
कहती है लड़ी ये अँसुवन की
चलती है कटारी दुश्मन की
कर दो उन्हें ज़ेर, शह-ए-अजमेर !

कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !
कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !

ए रब के वली प्यारे ख़्वाजा !
भारत की ज़मीं के महाराजा !
मुश्किल में हैं अब तेरे शैदा
है ज़ुल्म घनेर, शह-ए-अजमेर !

कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !
कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !

नफ़रत की नज़र, उल्टी बोली
इस बाग़ में ज़ाग़ की है टोली
बुनियाद मोहब्बत की डोली
आपस में है बैर, शह-ए-अजमेर !

कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !
कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !

गिरती हुई आस सँभल जाए
मज़लूम का हाल बदल जाए
तुम चाहो तो आज ही टल जाए
दुख-दर्द का फेर, शह-ए-अजमेर !

कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !
कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !

सख़ियों के सख़ी ! ए ग़रीब-नवाज़ !
ए चर्ख़-ए-विलायत के शहबाज़ !
सुन लीजे फ़रीदी की आवाज़
हम सब हों ब-ख़ैर, शह-ए-अजमेर !

कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !
कर दो करम, मोरे ख़्वाजा !

शायर:
अल्लामा सलमान फ़रीदी मिस्बाही

नात-ख़्वाँ:
मसूद मेहदी क़ादरी मिस्बाही

 

kar do karam, more KHwaja !
kar do karam, more KHwaja !

tere dar kee ho KHair, shah-e-ajmer !
mite Gam kee andher, shah-e-ajmer !

kar do karam, more KHwaja !
kar do karam, more KHwaja !

fariyaad suno more nainan kee
kahti hai la.Di ye ansuwan kee
chalti hai kaTaari dushman kee
kar do unhe.n zer, shah-e-ajmer !

kar do karam, more KHwaja !
kar do karam, more KHwaja !

ai rab ke wali pyaare KHwaja !
bhaarat kee zamee.n ke mahaaraaja !
mushkil me.n hai.n ab tere shaida
hai zulm ghaner, shah-e-ajmer !

kar do karam, more KHwaja !
kar do karam, more KHwaja !

nafrat kee nazar, ulTi boli
is baaG me.n zaaG kee hai Toli
buniyaad mohabbat kee Doli
aapas me.n hai bair, shah-e-ajmer !

kar do karam, more KHwaja !
kar do karam, more KHwaja !

girtee hui aas sambhal jaae
mazloom ka haal badal jaae
tum chaaho to aaj hee Tal jaae
dukh-dard ka pher, shah-e-ajmer !

kar do karam, more KHwaja !
kar do karam, more KHwaja !

saKHiyo.n ke saKHee ! ai Gareeb-nawaaz !
ai charKH-e-wilaayat ke shahbaaz !
sun leeje Fareedi kee aawaaz
ham sab ho.n ba-KHair, shah-e-ajmer !

kar do karam, more KHwaja !
kar do karam, more KHwaja !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *