Takbeer Ka Ham Naa’ra Har Baar Lagaaenge Parde Mein Badan Apna Taa-Maut Chhupaaenge Naat Lyrics

Takbeer Ka Ham Naa’ra Har Baar Lagaaenge Parde Mein Badan Apna Taa-Maut Chhupaaenge Naat Lyrics

 

तकबीर का हम ना’रा हर बार लगाएँगे
पर्दे में बदन अपना ता-मौत छुपाएँगे

तकबीर के ना’रों से दुनिया को हिला देंगे
अपने पे जो आ जाएँ, कोहराम मचा देंगे
पर्दे के लिए अपनी हम जान लुटा देंगे
जितने भी सितम ढा दो, पर्दा न हटाएँगे

तकबीर का हम ना’रा हर बार लगाएँगे
पर्दे में बदन अपना ता-मौत छुपाएँगे

तूफ़ान-ए-समंदर हैं, साहिल न हमें समझो
हम आहनी दीवारें, तुम गिल न हमें समझो
लड़की हैं समझ कर तुम बुज़दिल न हमें समझो
फ़िर’औन के लश्कर से हम ख़ौफ़ न खाएँगे

तकबीर का हम ना’रा हर बार लगाएँगे
पर्दे में बदन अपना ता-मौत छुपाएँगे

फ़िर’औन अगर तुम हो, मूसा का ‘असा हम हैं
आँधी न बुझा पाए, रौशन वो दिया हम हैं
बू-जहल अगर तुम हो, तो हक़ की सदा हम हैं
हम ख़ौफ़ से सर अपना हरगिज़ न झुकाएँगे

तकबीर का हम ना’रा हर बार लगाएँगे
पर्दे में बदन अपना ता-मौत छुपाएँगे

डर जाएँ जो दुश्मन से, वो क़ौम नहीं हैं हम
लौट आएँ जो आँगन से वो क़ौम नहीं हैं हम
घबराएँ जो रह-ज़न से वो क़ौम नहीं हैं हम
हर हाल में हक़ अपना ले कर के ही जाएँगे

तकबीर का हम ना’रा हर बार लगाएँगे
पर्दे में बदन अपना ता-मौत छुपाएँगे

ख़ौला का जिगर हम हैं, ज़हरा की हया हम हैं
हम बिन्त-ए-सुमय्या हैं, हफ़्सा की अदा हम हैं
मरयम की कनीज़ाएँ, सौदा की वफ़ा हम हैं
इस्लाम को हम अपने रुस्वा न कराएँगे

तकबीर का हम ना’रा हर बार लगाएँगे
पर्दे में बदन अपना ता-मौत छुपाएँगे

जो ज़ैब नहीं देती, जा’फ़र ! वो शरारत क्यूँ
पर्दे से भला तुम को है इतनी शिकायत क्यूँ
इस्लाम से नफ़रत क्यूँ, पर्दे से ‘अदावत क्यूँ
बे-पर्दा कभी घर से बाहर नहीं आएँगे

तकबीर का हम ना’रा हर बार लगाएँगे
पर्दे में बदन अपना ता-मौत छुपाएँगे

ना’त-ख़्वाँ:
सुमैया ग़ज़ाला

 

takbeer ka ham naa’ra har baar lagaaenge
parde me.n badan apna taa-maut chhupaaenge

takbeer ke naa’ro.n se duniya ko hila denge
apne pe jo aa jaae.n, kohraam macha denge
parde ke liye apni ham jaan luTa denge
jitne bhi sitam Dhaa do, parda na haTaaenge

takbeer ka ham naa’ra har baar lagaaenge
parde me.n badan apna taa-maut chhupaaenge

toofaan-e-samandar hai.n, saahil na hame.n samjho
ham aahni deewaare.n, tum gil na hame.n samjho
la.Dki hai.n samajh kar tum buzdil na hame.n samjho
fir’aun ke lashkar se ham KHauf na khaaenge

takbeer ka ham naa’ra har baar lagaaenge
parde me.n badan apna taa-maut chhupaaenge

fir’aun agar tum ho, moosa ka ‘asaa ham hai.n
aandhi na bujha paae, raushan wo diya ham hai.n
bu-jahal agar tum ho, to haq ki sada ham hai.n
ham KHauf se sar apna hargiz na jhukaaenge

takbeer ka ham naa’ra har baar lagaaenge
parde me.n badan apna taa-maut chhupaaenge

Dar jaae.n jo dushman se, wo qaum nahi.n hai.n ham
lauT aae.n jo aa.ngan se wo qaum nahi.n hai.n ham
ghabraae.n jo rah-zan se wo qaum nahi.n hai.n ham
har haal me.n haq apna le kar ke hi jaaenge

takbeer ka ham naa’ra har baar lagaaenge
parde me.n badan apna taa-maut chhupaaenge

KHaula ka jigar ham hai.n, zahra ki hayaa ham hai.n
ham bint-e-sumaiya hai.n, hafsa ki adaa ham hai.n
maryam ki kaneezaae.n, sauda ki wafaa ham hai.n
islam ko ham apne ruswa na karaaenge

takbeer ka ham naa’ra har baar lagaaenge
parde me.n badan apna taa-maut chhupaaenge

jo zaib nahi.n deti, Jaa’far ! wo sharaarat kyu.n
parde se bhala tum ko hai itni shikaayat kyu.n
islam se nafrat kyu.n, parde se ‘adaawat kyu.n
be-parda kabhi ghar se baahar nahi.n aaenge

takbeer ka ham naa’ra har baar lagaaenge
parde me.n badan apna taa-maut chhupaaenge

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *