Sunte Hain Ki Mahshar Mein Sirf Un Ki Rasaai Hai Naat Lyrics

Sunte Hain Ki Mahshar Mein Sirf Un Ki Rasaai Hai Naat Lyrics

 

सुनते हैं कि महशर में सिर्फ़ उन की रसाई है
गर उन की रसाई है लो जब तो बन आई है

मचला है कि रहमत ने उम्मीद बँधाई है
क्या बात तेरी, मुजरिम ! क्या बात बनाई है

सब ने सफ़-ए-महशर में ललकार दिया हम को
ए बे-कसों के आक़ा ! अब तेरी दुहाई है

यूँ तो सब उन्हीं का है पर दिल की अगर पूछो
ये टूटे हुए दिल ही ख़ास उन की कमाई है

ज़ाइर गए भी कब के, दिन ढलने पे है, प्यारे !
उठ मेरे अकेले चल, क्या देर लगाई है

बाज़ार-ए-‘अमल में तो सौदा न बना अपना
सरकार करम तुझ में ‘ऐबी की समाई है

गिरते हुओं को मुज़्दा सज्दे में गिरे मौला
रो रो के शफ़ा’अत की तम्हीद उठाई है

ए दिल ! ये सुलगना क्या, जलना है तो जल भी उठ
दम घुटने लगा, ज़ालिम ! क्या धूनी रमाई है

मुजरिम को न शर्माओ, अहबाब ! कफ़न ढक दो
मुँह देख के क्या होगा, पर्दे में भलाई है

अब आप ही सँभालें तो काम अपने सँभल जाएँ
हम ने तो कमाई सब खेलों में गँवाई है

ए ‘इश्क़ ! तेरे सदक़े जलने से छुटे सस्ते
जो आग बुझा देगी, वो आग लगाई है

हिर्स-ओ-हवस-ए-बद से, दिल ! तू भी सितम कर ले
तू ही नहीं बेगाना, दुनिया ही पराई है

हम दिल-जले हैं किस के हट फ़ितनों के परकाले
क्यूँ फूँक दूँ इक उफ़ से क्या आग लगाई है

तयबा न सही अफ़ज़ल, मक्का ही बड़ा, ज़ाहिद !
हम ‘इश्क़ के बंदे हैं, क्यूँ बात बढ़ाई है

मतला’ में ये शक क्या था, वल्लाह ! रज़ा ! वल्लाह !
सिर्फ़ उन की रसाई है, सिर्फ़ उन की रसाई है

शायर:
इमाम अहमद रज़ा खान

नात-ख़्वाँ:
मुहम्मद ओवैस रज़ा क़ादरी
असद रज़ा अत्तारी

 

sunte hai.n ki mahshar me.n sirf un ki rasaai hai
gar un ki rasaai hai lo jab to ban aai hai

machla hai ki rahmat ne ummeed bandhaai hai
kya baat teri, mujrim ! kya baat banaai hai

sab ne saf-e-mahshar me.n lalkaar diya ham ko
ai be-kaso.n ke aaqa ! ab teri duhaai hai

yu.n to sab unhi.n ka hai par dil ki agar poochho
ye TooTe hue dil hi KHaas un ki kamaai hai

zaair gae bhi kab ke, din Dhalne pe hai, pyaare !
uTh mere akele chal, kya der lagaai hai

bazaar-e-‘amal me.n to sauda na bana apna
sarkaar karam tujh me.n ‘aibi ki samaai hai

girte huo.n ko muzhda sajde me.n gire maula
ro ro ke shafaa’at ki tamheed uThaai hai

ai dil ! ye sulagna kya, jalna hai to jal bhi uTh
dam ghuTne laga, zaalim ! kya dhooni ramaai hai

mujrim ko na sharmaao, ahbaab ! kafan Dhak do
moonh dekh ke kya hoga, parde me.n bhalaai hai

ab aap hi sambhaale.n to kaam apne sambhal jaae.n
ham ne to kamaai sab khelo.n me.n ga.nwaai hai

ai ‘ishq ! tere sadqe jalne se chhuTe saste
jo aag bujha degi, wo aag lagaai hai

hirs-o-hawas-e-bad se, dil ! tu bhi sitam kar le
tu hi nahi.n begaana, duniya hi paraai hai

ham dil-jale hai.n kis ke haT fitno.n ke parkaale
kyu.n foonk du.n ik uf se kya aag lagaai hai

tayba na sahi afzal, makka hi ba.Da, zaahid !
ham ‘ishq ke bande hai.n, kyu.n baat ba.Dhaai hai

matlaa’ me.n ye shak kya tha, wallah ! Raza ! wallah !
sirf un ki rasaai hai, sirf un ki rasaai hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *