Subh-o-Masa Har Aan Aa’la Hazrat Ka Jaari Hai Faizaan Aa’la Hazrat Ka Naat Lyrics

Subh-o-Masa Har Aan Aa’la Hazrat Ka Jaari Hai Faizaan Aa’la Hazrat Ka Naat Lyrics

 

फ़ैज़-ए-रज़ा जारी रहेगा
फ़ैज़-ए-रज़ा जारी रहेगा

रज़ा हमारी जान है, सुन्नियों की शान है
मैं सुन्नी हूँ, मुझ पर आ’ला हज़रत का फ़ैज़ान है

सुब्ह-ओ-मसा हर आन आ’ला हज़रत का
जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

हम को मुयस्सर आई ईमाँ की दौलत
प्यारा है एहसान आ’ला हज़रत का

जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

सुब्ह-ओ-मसा हर आन आ’ला हज़रत का
जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

‘इश्क़-ए-नबी का जाम पिलाया है हम को
भूलें क्यूँ एहसान आ’ला हज़रत का

जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

सुब्ह-ओ-मसा हर आन आ’ला हज़रत का
जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

रज़ा हमारी जान है, सुन्नियों की शान है
मैं सुन्नी हूँ, मुझ पर आ’ला हज़रत का फ़ैज़ान है

रूह-ए-‘इश्क़-ए-नबी को शादाँ रखता है
ना’तिया दीवान आ’ला हज़रत का

जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

सुब्ह-ओ-मसा हर आन आ’ला हज़रत का
जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

फ़ैज़-ए-रज़ा जारी रहेगा
फ़ैज़-ए-रज़ा जारी रहेगा

फ़ज़्ल-ए-नबी से गुन गाता है, गाएगा
सारा हिंदुस्तान आ’ला हज़रत का

जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

सुब्ह-ओ-मसा हर आन आ’ला हज़रत का
जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

नज्दी भलाई दोनों जहाँ की गर चाहे
ले तू कहना मान आ’ला हज़रत का

जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

सुब्ह-ओ-मसा हर आन आ’ला हज़रत का
जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

रज़ा हमारी जान है, सुन्नियों की शान है
मैं सुन्नी हूँ, मुझ पर आ’ला हज़रत का फ़ैज़ान है

मुफ़्ती-ए-आ’ज़म दुनिया कहती है उस को
बेटा है ज़ीशान आ’ला हज़रत का

जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

सुब्ह-ओ-मसा हर आन आ’ला हज़रत का
जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

फ़ैज़-ए-रज़ा जारी रहेगा
फ़ैज़-ए-रज़ा जारी रहेगा

शहर-ए-बरेली ही क्या दुनिया में, अर्फ़क़ !
बटता है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

सुब्ह-ओ-मसा हर आन आ’ला हज़रत का
जारी है फ़ैज़ान आ’ला हज़रत का

रज़ा हमारी जान है, सुन्नियों की शान है
मैं सुन्नी हूँ, मुझ पर आ’ला हज़रत का फ़ैज़ान है

शायर:
डॉ. फ़ेहर अहमद अर्फ़क़

ना’त-ख़्वाँ:
अल्लामा हाफ़िज़ बिलाल क़ादरी

 

faiz-e-raza jaari rahega
faiz-e-raza jaari rahega

raza hamaari jaan hai, sunniyo.n ki shaan hai
mai.n sunni hu.n, mujh pe aa’la hazrat ka faizaan hai

sub.h-o-masa har aan aa’la hazrat ka
jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

ham ko muyassar aai imaa.n ki daulat
pyaara hai ehsaan aa’la hazrat ka

jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

sub.h-o-masa har aan aa’la hazrat ka
jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

‘ishq-e-nabi ka jaam pilaaya hai ham ko
bhoole.n kyu.n ehsaan aa’la hazrat ka

jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

sub.h-o-masa har aan aa’la hazrat ka
jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

raza hamaari jaan hai, sunniyo.n ki shaan hai
mai.n sunni hu.n, mujh pe aa’la hazrat ka faizaan hai

rooh-e-‘ishq-e-nabi ko shaadaa.n rakhta hai
naa’tiya deewaan aa’la hazrat ka

jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

sub.h-o-masa har aan aa’la hazrat ka
jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

faiz-e-raza jaari rahega
faiz-e-raza jaari rahega

fazl-e-nabi se gun gaata hai, gaaega
saara hindustaan aa’la hazrat ka

jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

sub.h-o-masa har aan aa’la hazrat ka
jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

najdi bhalaai dono jahaa.n ki gar chaahe
le tu kahna maan aa’la hazrat ka

jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

sub.h-o-masa har aan aa’la hazrat ka
jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

raza hamaari jaan hai, sunniyo.n ki shaan hai
mai.n sunni hu.n, mujh pe aa’la hazrat ka faizaan hai

mufti-e-aa’zam duniya kahti hai us ko
beTa hai zeeshaan aa’la hazrat ka

jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

sub.h-o-masa har aan aa’la hazrat ka
jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

faiz-e-raza jaari rahega
faiz-e-raza jaari rahega

shahar-e-bareli hi kya duniya me.n, Arfaq !
baT.ta hai faizaan aa’la hazrat ka

jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

sub.h-o-masa har aan aa’la hazrat ka
jaari hai faizaan aa’la hazrat ka

raza hamaari jaan hai, sunniyo.n ki shaan hai
mai.n sunni hu.n, mujh pe aa’la hazrat ka faizaan hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *