Sarkaar Aa Rahe Hain Noor-e-Khuda Ne Kya Kya Jalwe Dikha Diye Hain Naat Lyrics

Sarkaar Aa Rahe Hain Noor-e-Khuda Ne Kya Kya Jalwe Dikha Diye Hain Naat Lyrics

 

 

सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं
सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं

नूर-ए-ख़ुदा ने क्या क्या जल्वे दिखा दिए हैं
सीने किए हैं रौशन, दिल जगमगा दिए हैं
उन की महक ने दिल के गुंचे खिला दिए हैं
जिस राह चल दिए हैं, कूचे बसा दिए हैं

सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं
सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं

आँखें किसी ने माँगी, जल्वा किसी ने माँगा
बढ़ कर के उस से पाया जितना किसी ने माँगा
मेरे करीम से गर क़तरा किसी ने माँगा
दरिया बहा दिए हैं, दुर बे-बहा दिए हैं

सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं
सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं

दोज़ख़ के डर से लर्ज़ा हर एक फ़र्द होगा
मेरे नबी को कितना उम्मत का दर्द होगा
अल्लाह ! क्या जहन्नम अब भी न सर्द होगा
रो रो के मुस्तफ़ा ने दरिया बहा दिए हैं

सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं
सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं

जो जी में आए वो दो, अब तो तुम्हारी जानिब
पा लो हमें या खो दो, अब तो तुम्हारी जानिब
आने दो या डुबो दो, अब तो तुम्हारी जानिब
कश्ती तुम्हीं पे छोड़ी, लंगर उठा दिए हैं

सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं
सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं

अहल-ए-नज़र में तेरा ज़ेहन-ए-रसा मुसल्लम
दुनिया के ‘इल्म-ओ-फ़न में है तेरी जा मुसल्लम
मुल्क-ए-सुख़न की शाही तुझ को, रज़ा ! मुसल्लम
जिस सम्त आ गए हो सिक्के बिठा दिए हैं

सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं
सरकार आ रहे हैं, सरकार आ रहे हैं

तज़मीन:
सैफ़ रज़ा कानपुरी

कलाम:
इमाम अहमद रज़ा ख़ान

ना’त-ख़्वाँ:
सैफ़ रज़ा कानपुरी

 

sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n
sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n

noor-e-KHuda ne kya kya jalwe dikha diye hai.n
seene kiye hai.n raushan, dil jagmaga diye hai.n
un ki mahak ne dil ke gunche khila diye hai.n
jis raah chal diye hai.n, kooche basa diye hai.n

sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n
sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n

aankhe.n kisi ne maangi, jalwa kisi ne maanga
ba.Dh kar ke us se paaya jitna kisi ne maanga
mere kareem se gar qatra kisi ne maanga
dariya baha diye hai.n, dur be-baha diye hai.n

sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n
sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n

dozaKH ke Dar se larza har ek fard hoga
mere nabi ko kitna ummat ka dard hoga
allah ! kya jahannam ab bhi na sard hoga
ro ro ke mustafa ne dariya baha diye hai.n

sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n
sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n

jo jee me.n aae wo do, ab to tumhari jaanib
paa lo hame.n ya kho do, ab to tumhari jaanib
aane do ya Dubo do, ab to tumhari jaanib
kashti tumhi.n pe chho.Di, langar uTha diye hai.n

sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n
sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n

ahl-e-nazar me.n tera zehn-e-rasa musallam
duniya ke ‘ilm-o-fan me.n hai teri jaa musallam
mulk-e-suKHan ki shaahi tujh ko, Raza ! musallam
jis samt aa gae ho sikke biTha diye hai.n

sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n
sarkaar aa rahe hai.n, sarkaar aa rahe hai.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *