Salle Ala Nabiyyena Salle Ala Muhammdin Naat Lyrics

Salle Ala Nabiyyena Salle Ala Muhammdin Naat Lyrics

 

स़ल्ले अ़ला नबिय्येना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला शफीएना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला ह़बीबेना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला करीमेना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन

यासीनो-ताहा, वद्दोहा, लौलाक आंजी शान में
क़ादिर करम आंते केयो केडो फज़ल फ़ुरक़ान में
सरवर आंजियूं सिफतु करियां एडो जोर नाय ज़बान में
वाजिद आंजियूं वस्फूं वडियूं क़ादिर कयूं क़ुरआन में

स़ल्ले अ़ला नबिय्येना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला शफीएना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन

सूरज, चंधर, तारा, कतियूं आंजे नूर से भरपूर थेया
अर्श, कुर्सी, आसमां आंजे नूर से माअ़मूर थेया
यहूदी, नसारा, पारसी आंजे धीन ते मजबूर थेया
जाड़, डुंगर ने जानवर आंजो मों डिसी कलमु पड़ेया

स़ल्ले अ़ला नबिय्येना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला शफीएना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन

मेअराज लय आंके मुस्तफ़ा क़ादिर जडें कोठाएयो
आंजे अचण लय आसमां सभनी के सिणगारयो
निरमल आंके नालैन सा अर्शे-उला ते चाड़यो
क़ादिर केया आंसे कलाम रूबरू ग़ालायो

स़ल्ले अ़ला नबिय्येना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला शफीएना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन

बरकत से आंजी नूह जो बेड़ो बुडण खा पार थेयो
आड़ा में इब्राहिम लय टांढो ठरी गुलज़ार थेयो
मूसा नबी जी नील मां लश्कर लंगाए पार केयो
आंजी मदद से मुस्तफ़ा अय्यूब जो आजार वेयो

स़ल्ले अ़ला नबिय्येना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला शफीएना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन

चिरजी चंदर कुरबान थेयो आंजे इशारे या नबी
मौला अली जी नमाज़ लय सूरज के वारे या नबी
अंगड़ियन मिंजा पाणी कढी प्यासा पियारे या नबी
मुरदा पुतर जाबिर संधा पल में जियारे या नबी

स़ल्ले अ़ला नबिय्येना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला शफीएना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन

बागे-यमन में शाहे-हुदा आंजा पैर पाणी मिंज पेया
बरकत से आंजे बाग में तरो-ताजा मेवा पेया
खुश्बू, महेक, दमक सां गुलफुल खेली गुलज़ार थेया
कलियुं, चमेलियुं, मोगरा, फलफुल पसी कलमु पड़ेया

स़ल्ले अ़ला नबिय्येना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला शफीएना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन

जंगे-बदर में बासफा मौला मलायक मोकलेया
आंजी मदद लय या नबी अफ़लाक जा लश्कर उतरेया
हुदेबिया में मन्ज़िल मथे असहाब जडे प्यासा थेया
आक़ा आंजी अंगड़ियन मिंजा पाणी जा चश्मा वया

स़ल्ले अ़ला नबिय्येना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला शफीएना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन

दीदार दिलबर जो डेसां तेसिं ऐ ख़ुदा जग में जियां
हुजरो मुहम्मद मुस्तफ़ा तेंजी चांठ के चोमियुं डियां
माणिक मुनारा मीर जा तेंता साह के सदको करियां
रोजो रसूले-पाक जो तेंता जान जिन्धड़ो गोरियां

स़ल्ले अ़ला नबिय्येना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला शफीएना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन

अर्ज अहमद शाह जा सारे सोणो ऐ मुस्तफा
सकरात छल सोखी थिये मिले हुस्ने-खातेमा
इश्क में आक़ा आंजे पलपल खणा मुजा पसा
कलमु पड़ी कायम करियां तडे रूह थिये तन खां जुदा

स़ल्ले अ़ला नबिय्येना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन
स़ल्ले अ़ला शफीएना, स़ल्ले अ़ला मुह़म्मदिन

Leave a Comment