Roz-o-Shab Josh Pe Rahmat Ka Hai Dariya Tera Naat Lyrics

Roz-o-Shab Josh Pe Rahmat Ka Hai Dariya Tera Naat Lyrics

 

 

Roz-o-Shab Josh Pe Rahmat Ka Hai Dariya Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha Tera

 

रोज़-ओ-शब जोश पे रहमत का है दरिया तेरा
सदक़े इस शान-ए-सख़ावत पे ये मँगता तेरा
हाथ उट्ठे भी न थे और मिल गया सदक़ा तेरा
वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा
नहीं सुनता ही नहीं माँगने वाला तेरा

वो हक़ीक़त तेरी, जिब्रील जिसे न जानें
किस तरह लोग भला रुत्बा तुम्हारा जानें
तोड़ दे लिख के कलम यूँ ही, जो लिखना जानें
फ़र्श वाले तेरी शौकत का ‘उलू क्या जानें !
ख़ुसरवा ! ‘अर्श पे उड़ता है फरेरा तेरा

चाँदनी रात में जाबिर का नज़ारा देखें
चाँद को वो कभी सरकार का चेहरा देखें
देख कर बोलें, जमाल-ए-शह-ए-वाला देखें
तेरे क़दमों में जो हैं ग़ैर का मुँह क्या देखें
कौन नज़रों पे चढ़े देख के तल्वा तेरा

न कोई तुझ सा सख़ी है, न कोई मुझ सा ग़रीब
चश्म-ए-बेदार ! जगा दे मेरे ख़्वाबीदा-नसीब
है रिज़ा तेरी, रिज़ा रब की, तुम इतने हो क़रीब
मैं तो मालिक ही कहूँगा कि हो मालिक के हबीब
या’नी महबूब-ओ-मुहिब में नहीं मेरा तेरा

तेरी ख़ैरात का इक ज़र्रा करे हम को निहाल
किस तरह जाएँ किसी और के दर बहर-ए-सुवाल
सिलसिला अपनी ‘अताओं का यूँही रखना बहाल
तेरे टुकड़ों से पले ग़ैर की ठोकर पे न डाल
झिड़कियाँ खाएँ कहाँ छोड़ के सदक़ा तेरा

गर गुनाहों के सबब तुम ने दिया दर से निकाल
इस तसव्वुर से ही हो जाएँ तेरे बंदे निढाल
कौन रखेगा तेरी तरह फ़क़ीरों का ख़याल
तेरे टुकड़ों से पले ग़ैर की ठोकर पे न डाल
झिड़कियाँ खाएँ कहाँ छोड़ के सदक़ा तेरा

तुझ को बख़्शी तेरे मा’बूद ने अज़मत कितनी
बख़्शी जाएगी तेरे सदक़े में उम्मत कितनी
वाँ नज़र आएगी कौसर में है कसरत कितनी
एक मैं क्या ! मेरे ‘इस्याँ की हक़ीक़त कितनी
मुझ से सौ लाख को काफ़ी है इशारा तेरा

तू जो सहरा में क़दम रख दे, वहाँ फूल खिलें
और जबल सोने के, चाँदी के तेरे साथ चलें
तू जो चाहे तो सभी ग़म मेरे ख़ुशियों में ढले
तू जो चाहे तो अभी मैल मेरे दिल के धुलें
कि ख़ुदा दिल नहीं करता कभी मैला तेरा

अज़ प-ए-ख़ालिक़-ओ-रहमान-ओ-वली कर दे, कि है
सदक़ा-ए-फ़ातिमा, हसनैन-ओ-‘अली कर दे, कि है
तू है मुख़्तार, प-ए-ग़ौस-ए-जली कर दे, कि है
मेरी तक़्दीर बुरी हो तो भली कर दे, कि है
महव-ओ-इस्बात के दफ़्तर पे कड़ोड़ा तेरा

दौलत-ए-‘इश्क़ से दिल मेरा ग़नी कर दे, कि है
गुम रहूँ तुझ में, मेरी ख़त्म ख़ुदी कर दे, कि है
मुझ गुनहगार पे रहमत की झड़ी कर दे, कि है
मेरी तक़्दीर बुरी हो तो भली कर दे, कि है
महव-ओ-इस्बात के दफ़्तर पे कड़ोड़ा तेरा

हैं जो बे-ज़र, मेरी सरकार ! उन्हें ज़र दे, कि हैं
बेटियाँ जिन की कुँवारी हैं, उन्हें बर दे, कि है
छत नहीं जिन को मयस्सर, उन्हें इक घर दे, कि है
मेरी तक़्दीर बुरी हो तो भली कर दे, कि है
महव-ओ-इस्बात के दफ़्तर पे कड़ोड़ा तेरा

का’बा-ए-जाँ का मिले हश्र में जब मुझ को ग़िलाफ़
साथ माँ-बाप हों,अहबाब भी हों और अख़्लाफ़
इस ‘इनायत पे यही शोर उठे चौ-अतराफ़
चोर हाकिम से छुपा करते हैं याँ इस के ख़िलाफ़
तेरे दामन में छुपे चोर अनोखा तेरा

मेरे ‘ईसा ! तेरे बीमार पे कैसी गुज़रे
बे-नवा ज़ार पे, लाचार पे कैसी गुज़रे
नज़’अ के वक़्त गुनहगार पे कैसी गुज़रे
दूर क्या जानिए बदकार पे कैसी गुज़रे
तेरे ही दर पे मरे बे-कस-ओ-तन्हा तेरा

वाह ! क्या शान बढ़ाई है ख़ुदा ने तेरी
अव्वलीं-आख़रीं सब हम्द करेंगे तेरी
दौड़े सब जाम-ब-कफ़, बटने लगे मय तेरी
तेरे सदक़े मुझे इक बूँद बहुत है तेरी
जिस दिन अच्छों को मिले जाम छलक्ता तेरा

गर तलब है कि बर आएँ तेरी हाजात-ए-जमी’अ
कर, ‘उबैद ! अपने रज़ा की ज़रा तक़्लीद-ए-वकी’अ
पेश कर तू भी यही क़ौल ब-दरगाह-ए-वक़ी’अ
तेरी सरकार में लाता है रज़ा उस को शफ़ी’अ
जो मेरा ग़ौस है और लाडला बेटा तेरा

कलाम:
इमाम अहमद रज़ा ख़ान

तज़मीन:
ओवैस रज़ा क़ादरी (उबैद रज़ा)

नात-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी

 

roz-o-shab josh pe rahmat ka hai dariya tera
sadqe is shaan-e-saKHaawat pe ye mangta tera
haath uTThe bhi na the aur mil gaya sadqa tera
waah ! kya jood-o-karam hai, shah-e-bat.ha ! tera
nahi.n sunta hi nahi.n maangne waala tera

wo haqeeqat teri, jibril jise na jaane.n
kis tarah log bhala rutba tumhaara jaane.n
to.D de likh ke kalam yu.n hi, jo likhna jaane.n
farsh waale teri shaukat ka ‘uloo kya jaane.n
KHusrawa ! ‘arsh pe u.Dta hai pharera tera

chaandni raat me.n jaabir ka nazaara dekhe.n
chaand ko wo kabhi sarkaar ka chehra dekhe.n
dekh kar bole.n, jamaal-e-shah-e-waala dekhe.n
tere qadmo.n me.n jo hai.n Gair ka munh kya dekhe.n
kaun nazro.n pe cha.Dhe dekh ke talwa tera

na koi tujh sa saKHi hai, na koi mujh sa Gareeb
chashm-e-bedaar ! jaga de mere KHwabeeda-naseeb
hai riza teri, riza rab ki, tum itne ho qareeb
mai.n to maalik hi kahunga ki ho maalik ke habeeb
yaa’ni mahboob-o-muhib me.n nahi.n mera tera

teri KHairaat ka ik zarra kare ham ko nihaal
kis tarah jaae.n kisi aur ke dar bahr-e-suwaal
silsila apni ‘ataao.n ka yu.nhi rakhna bahaal
tere Tuk.Do.n se pale Gair ki Thokar pe na Daal
jhi.Dkiyaa.n khaae.n kahaa.n chho.D ke sadqa tera

gar gunaaho.n ke sabab tum ne diya dar se nikaal
is tasawwur se hi ho jaae.n tere bande niDhaal
kaun rakhega teri tarah faqeero.n ka KHayaal
tere Tuk.Do.n se pale Gair ki Thokar pe na Daal
jhi.Dkiyaa.n khaae.n kahaa.n chho.D ke sadqa tera

tujh ko baKHshi tere maa’bood ne azmat kitni
baKHshi jaaegi tere sadqe me.n ummat kitni
waa.n nazar aaegi kausar me.n hai kasrat kitni
ek mai.n kya ! mere ‘isyaa.n ki haqeeqat kitni
mujh se sau laakh ko kaafi hai ishaara tera

tu jo sahra me.n qadam rakh de, wahaa.n phool khile.n
aur jabal sone ke, chaandi ke tere saath chale.n
tu jo chaahe to sabhi Gam mere KHushiyo.n me.n Dhale.n
tu jo chaahe to abhi mail mere dil ke dhule.n
ki KHuda dil nahi.n karta kabhi maila tera

az pa-e-KHaaliq-o-rahmaan-o-wali kar de, ki hai
sadqa-e-faatima, hasnain-o-‘ali kar de, ki hai
tu hai muKHtaar, pa-e-Gaus-e-jali kar de, ki hai
meri taqdeer buri ho to bhali kar de, ki hai
mahw-o-isbaat ke daftar pe ka.Do.Da tera

daulat-e-‘ishq se dil mera Gani kar de, ki hai
gum rahu.n tujh me.n, meri KHatm KHudi kar de, ki hai
mujh gunahgaar pe rahmat ki jha.Di kar de, ki hai
meri taqdeer buri ho to bhali kar de, ki hai
mahw-o-isbaat ke daftar pe ka.Do.Da tera

hai.n jo be-zar, meri sarkaar ! unhe.n zar de, ki hai
beTiyaa.n jin ki kunwaari hai.n, unhe.n bar de, ki hai
chhat nahi.n jin ko mayassar, unhe.n ik ghar de, ki hai
meri taqdeer buri ho to bhali kar de, ki hai
mahw-o-isbaat ke daftar pe ka.Do.Da tera

kaa’ba-e-jaa.n ka mile hashr me.n jab mujh ko Gilaaf
saath maa.n-baap ho.n, ahbaab bhi ho.n aur aKHlaaf
is ‘inaayat pe yahi shor uThe chau-atraaf
chor haakim se chhupa karte hai.n yaa.n is ke KHilaaf
tere daaman me.n chhupe chor anokha tera

mere ‘isa ! tere beemaar pe kaisi guzre
be-nawa zaar pe, laachaar pe kaisi guzre
naz’a ke waqt gunahgaar pe kaisi guzre
door kya jaaniye badkaar pe kaisi guzre
tere hi dar pe mare be-kas-o-tanha tera

waah ! kya shaan ba.Dhaai hai KHuda ne teri
awwalee.n-aaKHaree.n sab hamd karenge teri
dau.De sab jaam-ba-kaf, baTne lage mai teri
tere sadqe mujhe ik boond bahut hai teri
jis din achchho.n ko mile jaam chhalakta tera

gar talab hai ki bar aae.n teri haajaat-e-jamee’a
kar, ‘Ubaid ! apne raza ki zara taqleed-e-wakee’a
pesh kar tu bhi yahi qaul ba-dargaah-e-waqee’a
teri sarkaar me.n laata hai Raza us ko shafee’a
jo mera Gaus hai aur laaDla beTa tera

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *