Pukaro Shah-e-Jilan Ko Pukaro Naat Lyrics

Pukaro Shah-e-Jilan Ko Pukaro Naat Lyrics

 

 

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

ये दर महबूब-ए-सुब्हानी का दर है
भिकारी बन के आओ, ताजदारो !

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

मुरीदी ला-तख़फ़ है उन का फ़रमाँ
न घबराओ ज़रा भी, ग़म के मारो !

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

तुम्हारी रीत है बेड़े तिराना
मोरी नैया भी, मीराँ ! पार उतारो

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

तुम्हें मुश्किल नहीं बिगड़ी बनाना
हमारे काज भी, मीराँ ! सँवारो

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

ये ज़र्रे कूचा-ए-बग़दाद के हैं
करो सज्दे यहाँ, ऐ चाँद-तारो !

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

पुकारो हर घड़ी या ग़ौस-ए-आ’ज़म
मिलेगा चैन दिल को, बे-क़रारो !

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

रहे हर-दम ख़याल-ए-ग़ौस-ए-आ’ज़म
गुज़ारो ज़िंदगी बस यूँ गुज़ारो

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

करो तुम नाम-ए-मीराँ का वज़ीफ़ा
क़रार-ए-ज़िंदगी है, बे-क़रारो !

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

शह-ए-बग़दाद देखो आ रहे हैं
मुबारक हो तुम्हें, ऐ बे-सहारो !

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

निछावर कर दो अपने जान-ओ-तन को
जनाब-ए-ग़ौस का सदक़ा उतारो

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

हो सारी रात ज़िक्र-ए-ग़ौस-उल-आ’ज़म
दीवानो ! ग्यारहवीं शब यूँ गुज़ारो

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

दर-ए-बग़दाद से मिलता है सब कुछ
चलो, साजिद ! वहाँ दामन पसारो

पुकारो, शाह-ए-जीलाँ को पुकारो
बदल जाएगी क़िस्मत, बे-सहारो !

ना’त-ख़्वाँ:
शेर अली और मेहर अली
अक़्सा अब्दुल हक़
अफ़ज़ल साबरी
क़ारी रियाज़ुद्दीन
मुहम्मद अफ़ज़ल नोशाही

 

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

ye dar mahboob-e-sub.haani ka dar hai
bhikaari ban ke aao, taajdaaro !

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

mureedi laa-taKHaf hai un ka farmaa.n
na ghabraao zara bhi, Gam ke maaro !

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

tumhaari reet hai be.De tiraana
mori naiya bhi, meera.n ! paar utaaro

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

tumhe.n mushkil nahi.n big.Di banaana
hamaare kaaj bhi, meera.n ! sanwaaro

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

ye zarre koocha-e-baGdaad ke hai.n
karo sajde yahaa.n, ai chaand-taaro !

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

pukaaro har gha.Di ya Gaus-e-aa’zam
guzaaro zindagi bas yu.n guzaaro

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

karo tum naam-e-meera.n ka wazeefa
qaraar-e-zindagi hai, be-qaraaro !

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

shah-e-baGdaad dekho aa rahe hai.n
mubaarak ho tumhe.n, ai be-sahaaro !

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

nichhaawar kar do apne jaan-o-tan ko
janaab-e-Gaus ka sadqa utaaro

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

ho saari raat zikr-e-Gaus-ul-aa’zam
deewaano ! gyaarahwi.n shab yu.n guzaaro

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

dar-e-baGdaad se milta hai sab kuchh
chalo, Saajid ! wahaa.n daaman pasaaro

pukaaro, shaah-e-jeelaa.n ko pukaaro
badal jaaegi qismat, be-sahaaro !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *