Paate Hain Sukoon Dil Ka Insaan Madine Mein Naat Lyrics

Paate Hain Sukoon Dil Ka Insaan Madine Mein Naat Lyrics

 

पाते हैं सुकूँ दिल का इंसान मदीने में
आते हैं गदा बन कर सुलतान मदीने में

पाते हैं सुकूँ दिल का इंसान मदीने में

सरकार के क़दमों में मिट जाते हैं दुख सारे
हो जाती है हर मुश्किल आसान मदीने में

पाते हैं सुकूँ दिल का इंसान मदीने में

भर जाते हैं रहमत से कश्कोल फ़क़ीरों के
हो जाते हैं सब पूरे अरमान मदीने में

पाते हैं सुकूँ दिल का इंसान मदीने में

मुझ को है यक़ीं इक दिन ‘उम्रे पे मैं जाऊँगा
गुज़रेगा मेरा माह-ए-रमज़ान मदीने में

पाते हैं सुकूँ दिल का इंसान मदीने में

दरबार सख़ी का है, जो माँगना है माँगो
करते हैं फ़रिश्ते ये ए’लान मदीने में

पाते हैं सुकूँ दिल का इंसान मदीने में

देखोगे उजाले तुम रातों को भी दिन जैसे
हो जाओगे तुम जा कर हैरान मदीने में

पाते हैं सुकूँ दिल का इंसान मदीने में

वापस न कभी आऊँ सरकार की बस्ती से
फ़ारूक़ी ! निकल जाए मेरी जान मदीने में

शायर:
सुहैल कलीम फ़ारूक़ी

ना’त-ख़्वाँ:
उमैर ज़ुबैर

 

paate hai.n sukoo.n dil ka insaan madine me.n
aate hai.n gada ban kar sultaan madine me.n

paate hai.n sukoo.n dil ka insaan madine me.n

sarkaar ke qadmo.n me.n miT jaate hai.n dukh saare
ho jaati hai har mushkil aasaan madine me.n

paate hai.n sukoo.n dil ka insaan madine me.n

bhar jaate hai.n rahmat se kashkol faqeero.n ke
ho jaate hai.n sab poore armaan madine me.n

paate hai.n sukoo.n dil ka insaan madine me.n

mujh ko hai yaqee.n ik din ‘umre pe mai.n jaaunga
guzrega mera maah-e-ramzaan madine me.n

paate hai.n sukoo.n dil ka insaan madine me.n

darbaar saKHi ka hai, jo maangna hai maango
karte hai.n farishte ye e’laan madine me.n

paate hai.n sukoo.n dil ka insaan madine me.n

dekhoge ujaale tum raato.n ko bhi din jaise
ho jaaoge tum jaa kar hairaan madine me.n

paate hai.n sukoo.n dil ka insaan madine me.n

waapas na kabhi aau.n sarkaar ki basti se
Faarooqi ! nikal jaae meri jaan madine me.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *