Mujhe Aap Ne Bulaaya Ye Karam Nahin To Kya Hai Naat Lyrics

Mujhe Aap Ne Bulaaya Ye Karam Nahin To Kya Hai Naat Lyrics

 

 

मुझे आप ने बुलाया, ये करम नहीं तो क्या है
मेरा मर्तबा बढ़ाया, ये करम नहीं तो क्या है

मुझे जब भी ग़म ने घेरा, मेरा साथ सब ने छोड़ा
तू मेरी मदद को आया, ये करम नहीं तो क्या है

मैं ग़मों की धूप में जब तेरा नाम ले के निकला
मिला रहमतों का साया, ये करम नहीं तो क्या है

ये शरफ़ बड़ा शरफ़ है, मेरा रुख़ तेरी तरफ़ है
मुझे नात-ख़्वाँ बनाया, ये करम नहीं तो क्या है

दर-ए-मुस्तफ़ा से, अंजुम ! मैं ख़ुद आ गया मगर दिल
कभी लौट कर न आया, ये करम नहीं तो क्या है

नात-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ख़लील सुलतान अशरफ़ी

 

mujhe aap ne bulaaya
ye karam nahi.n to kya hai
mera martaba ba.Dhaya
ye karam nahi.n to kya hai

mujhe jab bhi Gam ne ghera
mera saath sab ne chho.Da
tu meri madad ko aaya
ye karam nahi.n to kya hai

mai.n Gamo.n ki dhoop me.n jab
tera naam le ke nikla
mila rahmato.n ka saaya
ye karam nahi.n to kya hai

ye sharaf ba.Da sharaf hai
mera ruKH teri taraf hai
mujhe naat-KHwaa.n banaya
ye karam nahi.n to kya hai

dar-e-mustafa se, Anjum !
mai.n KHud aa gaya magar dil
kabhi laut kar na aaya
ye karam nahi.n to kya hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *