Muhammad Hamaare Badi Shaan Waale Naat Lyrics

Muhammad Hamaare Badi Shaan Waale Naat Lyrics

 

 

मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले
मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले

चाँद टुकड़े हुआ, वाह क्या बात है !
डूबा सूरज फिरा, वाह क्या बात है !
है ज़माना फ़िदा, वाह क्या बात है !
आप की, मुस्तफ़ा ! वाह क्या बात है !

मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले
मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले

है भला कोई तुझ सा हसीन-ओ-जमील
देख कर तुझ को हैराँ हैं नूह-ओ-ख़लील
थक गए ढूँढते ढूँढते जिब्रईल
पर न तुझ सा मिला, वाह क्या बात है !

मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले
मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले

जब हबीब-ए-ख़ुदा की विलादत हुई
रब के फ़ज़्ल-ओ-करम की ‘इनायत हुई
का’बे को आप की जब ज़ियारत हुई
का’बा भी झूम उठा, वाह क्या बात है !

मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले
मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले

धूम है अब भी उस क़िस्सा-ए-पाक की
‘अक़्ल हैरान है माह-ओ-अफ़्लाक की
उँगलियों से, मेरे मुस्तफ़ा ! आप की
आब-ए-रहमत बहा, वाह क्या बात है !

मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले
मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले

उन की मिदहत का रब ने दिया वो सिला
‘इज़्ज़तें मिल गईं, ‘अज़मतें पा गया
ना’त लिखने के सदक़े ही, ‘आसिम ! तेरा
दिल भी रौशन हुआ, वाह क्या बात है !

मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले
मुहम्मद हमारे बड़ी शान वाले

शायर:
मुहम्मद आसिम-उल-क़ादरी मुरादाबादी

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी

 

muhammad hamaare ba.Di shaan waale
muhammad hamaare ba.Di shaan waale

chaand tuk.De huaa, waah kya baat hai !
Dooba sooraj phira, waah kya baat hai !
hai zamaana fida, waah kya baat hai !
aap ki, mustafa ! waah kya baat hai !

muhammad hamaare ba.Di shaan waale
muhammad hamaare ba.Di shaan waale

hai bhala koi tujh saa haseen-o-jameel
dekh kar tujh ko hairaa.n hai.n nooh-o-KHaleel
thak gae DhoonDhte DhoonDhte jibraeel
par na tujh saa mila, waah kya baat hai !

muhammad hamaare ba.Di shaan waale
muhammad hamaare ba.Di shaan waale

jab habeeb-e-KHuda ki wilaadat hui
rab ke fazl-o-karam ki ‘inaayat hui
kaa’be ko aap ki jab ziyaarat hui
kaa’ba bhi jhoom uTha, waah kya baat hai !

muhammad hamaare ba.Di shaan waale
muhammad hamaare ba.Di shaan waale

dhoom hai ab bhi us qissa-e-paak ki
‘aql hairaan hai maah-o-aflaak ki
ungliyo.n se, mere mustafa ! aap ki
aab-e-rahmat bahaa, waah kya baat hai !

muhammad hamaare ba.Di shaan waale
muhammad hamaare ba.Di shaan waale

un ki mid.hat ka rab ne diya wo sila
‘izzate.n mil gaee.n, ‘azmate.n paa gaya
naa’t likhne ke sadqe hi, ‘Aasim ! tera
dil bhi raushan huaa, waah kya baat hai !

muhammad hamaare ba.Di shaan waale
muhammad hamaare ba.Di shaan waale

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *