Meri Maa Meri Pyaari Maa Tujh Pe Dil-Jaan Hai Qurbaan Naat Lyrics

Meri Maa Meri Pyaari Maa Tujh Pe Dil-Jaan Hai Qurbaan Naat Lyrics

 

 

मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां
मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां

जो माँ का दिल दुखाएगा, वो दुनिया में पछताएगा
सब दुनिया में रह जाएगा, कुछ हाथ न तेरे आएगा

मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां
मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां

तेरी माँ ने कितने दिन तक तुझ को पेट में पाला
दुनिया में जब आया तुझ को दे दिया मुँह का निवाला
मुँह से कुछ न बोली लफ़्ज़-ए-शुक्र-ए-ख़ुदा का निकाला
रूखी-सूखी खा कर अपने मुँह पर ताला डाला

देख पलट के इस को वर्ना जीते-जी मर जाएगा
जो माँ का दिल दुखाएगा, वो दुनिया में पछताएगा

मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां
मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां

तू जो रोया तो माँ ने गोदी में उठाया तुझ को
रात रात को जाग के माँ ने झूला झुलाया तुझ को
ख़ुद गीले में सोती थी सूखे में तुझ को सुलाया
अब भी वक़्त है सोच ले तू ने क्या खोया, क्या पाया

चूम ले माँ के क़दमों को ये मौका फिर न आएगा
जो माँ का दिल दुखाएगा, वो दुनिया में पछताएगा

मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां
मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां

ममता की आग़ोश में तू ने कितना वक़्त बिताया
तुझ पर तेरे वालिद की हुर्मत का था वो साया
बाप की शफ़क़त से तू ने ता’लीम का ज़ेवर पाया
तू वालिद का प्यार बना, माँ का जाया कहलाया

अब भी कर ले मोहब्बत उन से, तू तारा बन जाएगा
जो माँ का दिल दुखाएगा, वो दुनिया में पछताएगा

मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां
मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां

माँ की दु’आ जन्नत की हवा, सब कहते हैं दीवाने
इस का मतलब, इस की हक़ीक़त कोई नहीं पहचाने
माँ ने ‘इज़्ज़त-ओ-अज़मत पाई, आए जितने ज़माने
दुनिया में हल कर दी मुश्किल प्यारी मॉं की दु’आ ने

लेगा दु’आ ये जो भी ‘इज़्ज़त, दौलत, शोहरत पाएगा
जो माँ का दिल दुखाएगा, वो दुनिया में पछताएगा

मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां
मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां

जो औलाद भी करती है माँ-बाप की नाफ़रमानी
ठोकर दर दर खाएँगे जो करते रहे मनमानी
तौबा कर लो वक़्त है अब भी हो गई जो नादानी
इन की ख़िदमत से होगी हर मुश्किल में आसानी

दिल न दुखा, निकले जो आँसू, आँसू में बह जाएगा
जो माँ का दिल दुखाएगा, वो दुनिया में पछताएगा

मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां
मेरी माँ ! मेरी प्यारी माँ ! तुझ पे दिल-जाँ है क़ुर्बां

नात-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ तय्यब रहीमी

 

meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n
meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n

jo maa.n ka dil dukhaaega
wo duniya me.n pachhtaaega
sab duniya me.n rah jaaega
kuchh haath na tere aaega

meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n
meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n

teri maa.n ne kitne din tak
tujh ko peT me.n paala
duniya me.n jab aaya tujh ko
de diya moonh ka niwaala
moonh se kuchh na boli lafz-e-
shukr-e-KHuda ka nikaala
rookhi-sookhi kha kar apne
moonh par taala daala

dekh palaT ke is ko warna
jeete-jee mar jaaega
jo maa.n ka dil dukhaaega
wo duniya me.n pachhtaaega

meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n
meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n

tu jo roya to maa.n ne
godi me.n uThaaya tujh ko
raat raat ko jaag ke maa.n ne
jhoola jhulaaya tujh ko
KHud geele me.n soti thi
sookhe me.n tujh ko sulaaya
ab bhi waqt hai soch le tu ne
kya khoya, kya paaya

choom le maa.n ke qadmo.n ko
ye mauka phir na aaega
jo maa.n ka dil dukhaaega
wo duniya me.n pachhtaaega

meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n
meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n

mamta ki aaGosh me.n tu ne
kitna waqt bitaaya
tujh par tere waalid ki
hurmat ka tha wo saaya
baap ki shafqat se tu ne
taa’lim ka zewar paaya
tu waalid ka pyaar bana
maa.n ka jaaya kahlaaya

ab bhi kar le mohabbat un se
tu taara ban jaaega
jo maa.n ka dil dukhaaega
wo duniya me.n pachhtaaega

meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n
meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n

maa.n ki du’aa jannat ki hawa
sab kahte hai.n deewaane
is ka matlab, is ki haqeeqat
koi nahi.n pahchaane
maa.n ne ‘izzat-o-azmat paai
aae jitne zamaane
duniya me.n hal kar di mushkil
pyaari maa.n ki du’aa ne

lega du’aa ye jo bhi ‘izzat,
daulat, shohrat paaega
jo maa.n ka dil dukhaaega
wo duniya me.n pachhtaaega

meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n
meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n

jo aulaad bhi karti hai
maa.n-baap ki naafarmaani
Thokar dar dar khaenge jo
karte rahe manmaani
tauba kar lo waqt hai ab bhi
ho gai jo naadaani
in ki KHidmat se hogi
har mushkil me.n aasaani

dil na dukha, nikle jo aansu
aansu me.n bah jaaega
jo maa.n ka dil dukhaaega
wo duniya me.n pachhtaaega

meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n
meri maa.n ! meri pyaari maa.n !
tujh pe dil-jaa.n hai qurbaa.n

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *