Mere Ghaus Piya Jilani Naat Lyrics

Mere Ghaus Piya Jilani Naat Lyrics

 

 

 

Mere Ghaus Piya Jilani | Mere Ghous Piya Jilani | Hain Mahboob-e-Subhani

 

 

मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी
मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी

छूटती है तो छूटे दुनिया
ग़ौस का दामन न छोड़ेंगे
अपने गले में ग़ौस का पट्टा
ग़ौस का दामन न छोड़ेंगे

जीलानी

मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी
मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी

ग़ौस के दर पर उम्र गुज़ारी
ग़ौस के दर के हम हैं भिकारी
इस खूँटे से ख़ुद को बाँधा
ग़ौस का दामन न छोड़ेंगे

जीलानी

मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी
मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी

वलियों ने दी उन को सलामी
अब्दालों ने की है ग़ुलामी
ऊँचा रहेगा उन का झंडा
ग़ौस का दामन न छोड़ेंगे

जीलानी

मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी
मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी

ग़ौस का दामन कैसे छोड़ें ?
जिस्म-ओ-रूह का नाता उन से
उन से ठहरा दीन का रिश्ता
ग़ौस का दामन न छोड़ेंगे

जीलानी

मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी
मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी

उन के हाथ में हाथ दिया है
ख़ुद को, उजागर ! बेच दिया है
अब न कभी छोड़ेंगे, वल्लाह !
ग़ौस का दामन न छोड़ेंगे

जीलानी

मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी
मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी

ग़ौस-ए-पाक के चाहने वालो !
साथ ‘उबैद के मिल के कह दो
मरते दम तक इंशाअल्लाह
ग़ौस का दामन न छोड़ेंगे

जीलानी

मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी
मेरे ग़ौस पिया जीलानी, हैं महबूब-ए-सुब्हानी

शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी

 

mere Gaus piya jeelaani
hai.n mahboob-e-sub.haani

chhooT.ti hai to chhooTe duniya
Gaus ka daaman na chho.Denge
apne gale me.n Gaus ka paTTa
Gaus ka daaman na chho.Denge

jeelaani

mere Gaus piya jeelaani
hai.n mahboob-e-sub.haani

Gaus ke dar par umr guzaari
Gaus ke dar ke ham hai.n bhikaari
is khoonTe se KHud ko baandha
Gaus ka daaman na chho.Denge

jeelaani

mere Gaus piya jeelaani
hai.n mahboob-e-sub.haani

waliyo.n ne di un ko salaami
abdaalo.n ne ki hai Gulaami
uncha rahega un ka jhanda
Gaus ka daaman na chho.Denge

jeelaani

mere Gaus piya jeelaani
hai.n mahboob-e-sub.haani

Gaus ka daaman kaise chho.de.n ?
jism-o-rooh ka naata un se
un se Thahra deen ka rishta
Gaus ka daaman na chho.Denge

jeelaani

mere Gaus piya jeelaani
hai.n mahboob-e-sub.haani

un ke haath me.n haath diya hai
KHud ko, Ujaagar ! bech diya hai
ab na kabhi chho.Denge, wallah !
Gaus ka daaman na chho.Denge

jeelaani

mere Gaus piya jeelaani
hai.n mahboob-e-sub.haani

Gaus-e-paak ke chaahne waalo !
saath ‘Ubaid ke mil ke kah do
marte dam tak insha’Allah
Gaus ka daaman na chho.Denge

jeelaani

mere Gaus piya jeelaani
hai.n mahboob-e-sub.haani

Leave a Comment