Mere Aaqa Mere Maula Di Soorat Kaisi Howe Gi Naat Lyrics

Mere Aaqa Mere Maula Di Soorat Kaisi Howe Gi Naat Lyrics

 

मेरे आक़ा, मेरे मौला दी सूरत कैसी हॉवे गी
जो दुश्मन दा वी दुश्मन नैं मोहब्बत कैसी हॉवे गी

मेरे आक़ा, मेरे मौला दी सूरत कैसी हॉवे गी

हनेरे कालियाँ राताँ ते तन्हाईयाँ ने की केहणा
जिदे विच मुस्तफ़ा आए वो तुर्बत कैसी हॉवे गी

मेरे आक़ा, मेरे मौला दी सूरत कैसी हॉवे गी

जिदे हर इक गदा दे लै इरम विच बाग़ महके ने
जिथे आक़ा ने रेहणा ए ओ जन्नत कैसी हॉवे गी

मेरे आक़ा, मेरे मौला दी सूरत कैसी हॉवे गी

जिदी अज़मत दियां दितियाँ गवाइयाँ आप ख़ालिक़ ने
नबी दी पाक उस बीवी दी सीरत कैसी हॉवे गी

मेरे आक़ा, मेरे मौला दी सूरत कैसी हॉवे गी

हज़ारां सामणे डटया सी इको कर्बला अंदर
नबी दे उस नवासे दी शहादत कैसी हॉवे गी

मेरे आक़ा, मेरे मौला दी सूरत कैसी हॉवे गी

उमर ते मुुर्तज़ा आए जिनु वेखण करण अंदर
जे ए रुतबा ए दूरी दा ते क़ुर्बत कैसी हॉवे गी

मेरे आक़ा, मेरे मौला दी सूरत कैसी हॉवे गी

इबादत बन गई जेदी अदा सारे ग़ुलामां लै
नबी ऐसा ए जे नासिर, नुबुव्वत कैसी हॉवे गी

मेरे आक़ा, मेरे मौला दी सूरत कैसी हॉवे गी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *