Martaba Rab Ne Kiya Aa’la Shab-e-Me’raaj Ka Naat Lyrics

Martaba Rab Ne Kiya Aa’la Shab-e-Me’raaj Ka Naat Lyrics

 

 

मरहबा मे’राज-ए-नबी ! मरहबा मे’राज-ए-नबी !
वाह वाह ! मे’राज-ए-नबी ! वाह वाह ! मे’राज-ए-नबी !

वो कैसा हसीं मंज़र होगा ! जब दूल्हा बना सरवर होगा
‘उश्शाक़ तसव्वुर कर कर के बस रोते ही रह जाते हैं

मे’राज की शब तो याद रखा, फिर हश्र में कैसे भूलेंगे
‘अत्तार ! इसी उम्मीद पे हम दिन अपने गुज़ारे जाते हैं

मर्तबा रब ने किया आ’ला शब-ए-मे’राज का
‘अर्श से आगे गया दूल्हा शब-ए-मे’राज का

मर्तबा रब ने किया आ’ला शब-ए-मे’राज का

आप थे आराम-फ़रमा उम्म-ए-हानी के यहाँ
जब सुना जिब्रील से मुज़्दा शब-ए-मे’राज का

मर्तबा रब ने किया आ’ला शब-ए-मे’राज का

था जो बरसों का सफ़र, इक आन में वो हो गया
क्या बताऊँ कितना था ‘अर्सा शब-ए-मे’राज का

मर्तबा रब ने किया आ’ला शब-ए-मे’राज का

गर्म बिस्तर भी रहा, ज़ंजीर भी हिलती रही
प्यारे आक़ा को दिया तोहफ़ा शब-ए-मे’राज का

मर्तबा रब ने किया आ’ला शब-ए-मे’राज का

पाँच वक़्तों की नमाज़ें मेरे अल्लाह पाक ने
प्यारे आक़ा को दिया तोहफ़ा शब-ए-मे’राज का

मर्तबा रब ने किया आ’ला शब-ए-मे’राज का

मस्जिद-ए-अक़्सा में आमद सारे नबियों की हुई
सारे नबियों ने पढ़ा ख़ुत्बा शब-ए-मे’राज का

मर्तबा रब ने किया आ’ला शब-ए-मे’राज का

नूरी मरकब, नूरी दूल्हा, नूरियों की है बरात
होता है यूँ शान से जाना शब-ए-मे’राज का

मर्तबा रब ने किया आ’ला शब-ए-मे’राज का

रश्क आता है मुझे लैल-ओ-क़मर पर, ए ज़मीं !
ख़ूबसूरत क्या समाँ देखा शब-ए-मे’राज का

मर्तबा रब ने किया आ’ला शब-ए-मे’राज का

तालिब-ओ-मतलूब के राज़ों का है किस को पता
हश्र में होगा अयाँ पर्दा शब-ए-मे’राज का

मर्तबा रब ने किया आ’ला शब-ए-मे’राज का

इल्तिजा है ये सलीम-ए-क़ादरी की, ए ख़ुदा !
इस को भी हो कुछ ‘अता तोहफ़ा शब-ए-मे’राज का

मर्तबा रब ने किया आ’ला शब-ए-मे’राज का

शायर:
सलीम रज़ा अत्तारी क़ादरी

नात-ख़्वाँ:
असद रज़ा अत्तारी – तय्यब रज़ा अत्तारी

 

marhaba me’raaj-e-nabi !
marhaba me’raaj-e-nabi !

waah waah ! me’raaj-e-nabi !
waah waah ! me’raaj-e-nabi !

wo kaisa hasee.n manzar hoga !
jab dulha bana sarwar hoga
‘ushshaaq tasawwur kar kar ke
bas rote hi rah jaate hai.n

me’raaj ki shab to yaad rakha
phir hashr me.n kaise bhoole.nge
‘Attar ! isi ummeed pe ham
din apne guzaare jaate hai.n

martaba rab ne kiya aa’la shab-e-me’raaj ka
‘arsh se aage gaya dulha shab-e-me’raaj ka

martaba rab ne kiya aa’la shab-e-me’raaj ka

aap the aaraam-farma umm-e-haani ke yahaa.n
jab suna jibreel se muzhda shab-e-me’raaj ka

martaba rab ne kiya aa’la shab-e-me’raaj ka

tha jo barso.n ka safar, ik aan me.n wo ho gaya
kya bataau.n kitna tha ‘arsa shab-e-me’raaj ka

martaba rab ne kiya aa’la shab-e-me’raaj ka

garm bistar bhi raha, zanjeer bhi hilti rahi
pyaare aaqa ko diya tohfa shab-e-me’raaj ka

martaba rab ne kiya aa’la shab-e-me’raaj ka

paanch waqto.n ki namaaze.n mere allah paak ne
pyaare aaqa ko diya tohfa shab-e-me’raaj ka

martaba rab ne kiya aa’la shab-e-me’raaj ka

masjid-e-aqsa me.n aamad saare nabiyo.n ki hui
saare nabiyo.n ne padha KHutba shab-e-me’raaj ka

martaba rab ne kiya aa’la shab-e-me’raaj ka

noori markab, noori dulha, nooriyo.n ki hai baraat
hota hai yu.n shaan se jaana shab-e-me’raaj ka

martaba rab ne kiya aa’la shab-e-me’raaj ka

rashk aata hai mujhe lail-o-qamar par, ai zamee.n !
KHoobsoorat kya samaa.n dekha shab-e-me’raaj ka

martaba rab ne kiya aa’la shab-e-me’raaj ka

taalib-o-matloob ke raazo.n ka hai kis ko pata
hashr me.n hoga ayaa.n parda shab-e-me’raaj ka

martaba rab ne kiya aa’la shab-e-me’raaj ka

iltija hai ye Saleem-e-Qadri ki, ai KHuda !
is ko bhi ho kuchh ‘ata tohfa shab-e-me’raaj ka

martaba rab ne kiya aa’la shab-e-me’raaj ka

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *