Main To Naam Japun Ali Ali Ka Lyrics

 

Islam pe ehsaan e Hussain Ibn-e Ali hai
Maula ne jalaayi hai to ye shamma jali hai

Kahne ko to sab kahte haiñ apne ko musalmañ
Jannat mein wahi jaayega jo PanjaTani hai

 

Main To Naam Japun Ali Ali ka
Ali Se Hoon Ba Wasta
Ali Ali Mere Maula, Koi Aur Na..

 

Maula ki Aamad jis dam Marzi e Haq hui
Khud ba khud deewareñ bhi kaabe ki shak huiñ

Ali Maula..
Kaabe ki deewareñ bhi us waqt shak huiñ
Kaabe mein paida hua, koi aur na..

 

Main To Naam Japuñ Ali Ali ka
Ali Se Hoon Ba Wasta
Ali Ali Mere Maula, Koi Aur Na

 

Maula ko dekhna tha Chehra Huzur ka
Yuñ dekha sabse pahle chehra Huzur ka

Ali Maula..
Yuñ dekha sabse pahle chera Huzur ka
Thi yahi khwahish e Maula, koi aur na..

 

Main To Naam Japuñ Ali Ali ka
Ali Se Hoon Ba Wasta
Ali Ali Mere Maula, Koi Aur Na

 

Jisne ummat ki khaatir sab kuchh lutwa diya
Karbal meiñ Sajda karke Sar bhi katwa diya

Ali Maula..
Karbal meiñ Sajda karke Sar bhi katwa diya
Sajdoñ mein aisa Sajda, koi aur na..

 

Hota hai kab kisi ka kunba Hasnain sa
Beti ho Zainab jaisi Beta Hussain sa
Beti ho Zainab jaisi bhaiya Hussain sa

Ali Maula..
Beti ho Zainab jaisi beta Hussain sa
Kunbe mein aisa kunba, koi aur na..

 

Ali Maula.. Ali Maula..
Mere Maula Ali haiñ Pyare Rasool ke
Daamaad e Mustafa hain Shauhar Butool ke

Ali Maula..
Daamaad e Mustafa haiñ Shauhar Butool ke
Duniya mein aisa Rutba, koi aur na ..

 

Mere Maula Ali haiñ darwaza ilm ka
Kar denge khatma Ye duniya se zulm ka

Ali Maula..
Kar denge khatma Ye duniya se zulm ka
Bolo sab Maula Maula, koi aur na..

 

Hoti hai mushkil hal sab Maula ke naam se
Khaibar ki haisiyat kya maula ke saamne

Ali Maula…
Khaibar ki haisiyat kya Maula ke saamne
Duniya mein Sher-e-Khuda sa, koi aur na..

 

Teeze ke shab hua hai aisa bhi mo’jiza
Gumbad e Khwaja sabne dekha aur ye kaha

Ali Maula..
Gumbad e Khwaja sabne dekha aur ye kaha
Ye to haiñ Maula Maula, koi aur na ..

 

Hijr ke waqt Nabi ne apne bistar par
Mere Maula ko sulaaya aur kiya tai safar

Ali Maula..
Mere Maula ko sulaya aur kiya tai safar
Jaañ nisaaroñ mein dooja, koi aur na ..

 

Har dam jis ka wazeefa Maula ka naam hai
Khwaja ka ‘Noor Aalam’ adna ghulaam hai

Ali Maula..
Khwaja ka Noor Aalam adna ghulaam hai
Jaisa hai rahbar mera, koi aur na..

Ali Ali Mere Maula Ali..
Ali Ali Mere Maula Ali..

 

 

मैं तो नाम जपूं अली अली का लिरिक्स

 

मैं तो नाम जपूं अली अली का लिरिक्स |
Main To Naam Japun Ali Ali Ka Lyrics in Hindi | Manqabat e Maula Ali in Hindi

Read Lyrics in English
इस्लाम पे एहसान ए हुसैन इब्ने अली है
मौला ने जलाई है तो यह शम्मा जली है

कहने को तो सब कहते हैं अपने को मुसलमां
जन्नत में वही जाएगा जो पंजतनी है

 

मैं तो नाम जपूं अली अली का
अली से हूं बावस्ता
अली अली मेरे मौला कोई और ना..

 

मौला की आमद जिस दम मर्जी ए हक़ हुई
खुद-बा-खुद दीवारें भी काबे की शक हुईं

अली मौला..
खुद-बा-खुद दीवारें भी काबे की शक हुईं
काबे में पैदा हुआ, कोई और ना

 

मैं तो नाम जपूं अली अली का
अली से हूं बावस्ता
अली अली मेरे मौला कोई और ना..

 

मौला को देखना था चेहरा हुज़ूर का
यूं देखा सबसे पहले चेहरा हुज़ूर का

अली मौला..
यूं देखा सबसे पहले चेहरा हुज़ूर का
थी यही ख़्वाहिश ए मौला, कोई और ना

 

मैं तो नाम जपूं अली अली का
अली से हूं बावस्ता
अली अली मेरे मौला कोई और ना..

 

जिसने उम्मत की ख़ातिर सब कुछ लुटवा दिया
करबल में सजदा करके सर भी कटवा दिया

अली मौला..
करबल में सजदा करके सर भी कटवा दिया
सजदों में ऐसा सजदा, कोई और ना..

 

होता है कब किसी का कुनबा हुसैन सा
बेटी हो ज़ैनब जैसी बेटा हुसैन सा

अली मौला..
बेटी हो ज़ैनब जैसी बेटा हुसैन सा
कुनबे में ऐसा कुनबा, कोई और ना

 

अली मौला.. अली मौला..

मेरे मौला अली हैं प्यारे रसूल के
दामाद ए मुस्तफा हैं शौहर बुतूल के

अली मौला..
दामाद ए मुस्तफा हैं शौहर बतूल के
दुनिया में ऐसा रुतबा, कोई और ना..

 

मेरे मौला अली हैं दरवाज़ा इल्म का
कर देंगे खात्मा ये दुनिया से ज़ुल्म का

अली मौला..
कर देंगे खात्मा ये दुनिया से ज़ुल्म का
बोलो सब मौला मौला, कोई और ना..

 

होती है मुश्किल हल सब मौला के नाम से
ख़ैबर की हैसियत क्या मौला के सामने

अली मौला..
ख़ैबर की हैसियत क्या मौला के सामने
दुनिया में शेर ए खुदा सा, कोई और ना

 

तीज़े के शब हुआ है ऐसा भी मो’जिज़ा
गुंबद ए ख़्वाजा सब ने देखा और ये कहा

अली मौला..
गुंबद ए ख़्वाजा सब ने देखा और ये कहा
यह तो है मौला मौला, कोई और ना

 

हिज्र के वक़्त नबी ने अपने बिस्तर पर
मेरे मौला को सुलाया और किया तै सफ़र

अली मौला..
मेरे मौला को सुलाया और किया तै सफ़र
जांनिसारों में दूजा, कोई और ना..

 

हरदम जिसका वज़ीफ़ा मौला का नाम है
ख़्वाजा का ‘नूर आलम‘ अदना ग़ुलाम है

अली मौला..
ख़्वाजा का ‘नूर आलम’ अदना ग़ुलाम है
जैसा है रहबर मेरा कोई और ना..

 

अली अली मेरे मौला अली..
अली अली मेरे मौला अली..

By sulta