Koi Jab Dil Dukhaae To Nabi Ko Yaad Kar Lena Naat Lyrics

Koi Jab Dil Dukhaae To Nabi Ko Yaad Kar Lena Naat Lyrics

 

 

सुकून-ए-दिल का, फ़ारूक़ी ! वज़ीफ़ा मैं बताता हूँ
तुम्हें दुखों से बचने का तरीक़ा मैं सिखाता हूँ

कोई जब दिल दुखाए तो नबी को याद कर लेना
कोई भी दुख सताए तो नबी को याद कर लेना

कोई जब दिल दुखाए तो नबी को याद कर लेना

पराया कौन है और कौन अपना है ज़माने में
समझ में कुछ न आए तो नबी को याद कर लेना

कोई जब दिल दुखाए तो नबी को याद कर लेना

वो अपने प्यार की चादर में ले लेंगे तुम्हें, वल्लाह !
ज़माना रूठ जाए तो नबी को याद कर लेना

कोई जब दिल दुखाए तो नबी को याद कर लेना

तसल्ली का कोई भी बोल जब बोले न दुनिया में
न कोई काम आए तो नबी को याद कर लेना

कोई जब दिल दुखाए तो नबी को याद कर लेना

कोई मरहम न रखे जब तेरे ज़ख़्मों पे, फ़ारूक़ी !
कोई न तर्स खाए तो नबी को याद कर लेना

शायर:
सुहैल कलीम फ़ारूक़ी

ना’त-ख़्वाँ:
उमैर ज़ुबैर

 

sukoon-e-dil ka, Faarooqi !
wazeefa mai.n bataata hu.n
tumhe.n dukho.n se bachne ka
tareeqa mai.n sikhaata hu.n

koi jab dil dukhaae to nabi ko yaad kar lena
koi bhi dukh sataae to nabi ko yaad kar lena

koi jab dil dukhaae to nabi ko yaad kar lena

paraaya kaun hai aur kaun apna hai zamaane me.n
samajh me.n kuchh na aae to nabi ko yaad kar lena

koi jab dil dukhaae to nabi ko yaad kar lena

wo apne pyaar ki chaadar me.n le le.nge tumhe.n, wallah !
zamaana rooTh jaae to nabi ko yaad kar lena

koi jab dil dukhaae to nabi ko yaad kar lena

tasalli ka koi bhi bol jab bole na duniya me.n
na koi kaam aae to nabi ko yaad kar lena

koi jab dil dukhaae to nabi ko yaad kar lena

koi marham na rakhe jab tere zaKHmo.n pe, Faarooqi !
koi na tars khaae to nabi ko yaad kar lena

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *