Khaaliq-o-Maalik Allah Hai Bas Allah Hai Naat Lyrics

Khaaliq-o-Maalik Allah Hai Bas Allah Hai Naat Lyrics

 

 

ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है
ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है

अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !
अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !

सारा निज़ाम-ए-हस्ती बोलो किस का है ?
ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है

अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !
अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !

माँ के पेट में बिन माँगे वो देता है
फिर भी, बंदे ! ना-शुक्री क्यूँ करता है

ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है
ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है

अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !
अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !

मछली जाल में आती है जब ग़ाफ़िल हो
ए बंदे ! ये ज़िक्र नजात का ज़रिया’ है

ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है
ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है

अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !
अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !

दरवाज़े बंद कर के गुनाह क्यूँ करता है
तन्हाई में देखने वाला अल्लाह है

ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है
ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है

अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !
अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !

तू ही रुतों को सुब्ह-ओ-शाम बदलता है
तू ही मुर्दा ज़िंदा करने वाला है

ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है
ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है

अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !
अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !

इस दुनिया में सुख और दुख तो मिलते हैं
सब्र-ओ-शुक्र, उजागर ! करते रहना है

ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है
ख़ालिक़-ओ-मालिक अल्लाह है बस अल्लाह है

अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !
अल्लाहु ! अल्लाहु ! अल्लाह अल्लाह हू अल्लाह !

शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

ना’त-ख़्वाँ:
मुहम्मद हस्सान रज़ा क़ादरी

 

KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai
KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai

allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !
allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !

saara nizaam-e-hasti bolo kis ka hai ?
KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai

allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !
allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !

maa.n ke peT me.n bin maange wo deta hai
phir bhi, bande ! naa-shukri kyu.n karta hai

KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai
KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai

allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !
allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !

machhli jaal me.n aati hai jab Gaafil ho
ai bande ! ye zikr najaat ka zariyaa’ hai

KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai
KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai

allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !
allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !

darwaaze band kar ke gunaah kyu.n karta hai
tanhaai me.n dekhne waala allah hai

KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai
KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai

allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !
allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !

tu hi ruto.n ko sub.h-o-shaam badalta hai
tu hi murda zinda karne waala hai

KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai
KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai

allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !
allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !

is duniya me.n sukh aur dukh to milte hai.n
sabr-o-shukr, Ujaagar ! karte rehna hai

KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai
KHaaliq-o-maalik allah hai bas allah hai

allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !
allahu ! allahu ! allah allah hoo allah !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *