Is Baar Kuchh Aisa Meelaad Manaaen Naat Lyrics

Is Baar Kuchh Aisa Meelaad Manaaen Naat Lyrics

 

इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ
घरों के साथ आज दिल भी सजाएँ

मरहबा ! मरहबा ! मवलिदिन्नबी !
मरहबा ! मरहबा ! मवलिदिन्नबी !

इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ
घरों के साथ आज दिल भी सजाएँ

इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ
नबी की सुन्नतों को घर घर पहुँचाएँ

इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ
नामूस-ए-आक़ा पर हम पहरा लगाएँ

मरहबा ! मरहबा ! मवलिदिन्नबी !
मरहबा ! मरहबा ! मवलिदिन्नबी !

नबी का ज़िक्र आ’ला है, नबी की शान बाला है
यही इज़हार करने को सजावट और उजाला है
हो ज़ाहिर भी अच्छा, बातिन भी चमकाएँ
इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ

इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ
घरों के साथ आज दिल भी सजाएँ

मरहबा ! मरहबा ! मवलिदिन्नबी !
मरहबा ! मरहबा ! मवलिदिन्नबी !

‘अक़ीदा हो नुबुव्वत का या नामूस-ए-रिसालत हो
जो छेड़े कोई इस क़ानून को, समझो क़यामत हो
जो शातिम हो उसे हम उल्टा लटकाएँ
इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ

इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ
नामूस-ए-आक़ा पर हम पहरा लगाएँ

ग़ुलामी अहल-ए-बैत-ए-पाक की ऐसी ज़मानत है
जो हो इन से मोहब्बत तो नतीजा अपना जन्नत है
मुहिब्ब-ए-पंज-तन हम ऐसे बन जाएँ
इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ

इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ
नबी की सुन्नतों को घर घर पहुँचाएँ

मीलाद ! मीलाद ! सरकार का मीलाद !
मीलाद ! मीलाद ! मेरे आक़ा का मीलाद !

सहाबा और अहल-ए-बैत हमारे हैं, हमारे हैं
है अहल-ए-बैत नाओ तो सहाबा भी सितारे हैं
सहाबा की अज़मत के हम तो गुन गाएँ
इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ

इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ
नामूस-ए-आक़ा पर हम पहरा लगाएँ

नबी के दीन के ख़ादिम फ़िदा नामूस-ए-आक़ा पर
हुए मुमताज़ वो दोनों जहाँ में सुर्ख़रू हो कर
उन्ही के इस मिशन को आगे बढ़ाएँ
इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ

इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ
नामूस-ए-आक़ा पर हम पहरा लगाएँ

मरहबा ! मरहबा ! मवलिदिन्नबी !
मरहबा ! मरहबा ! मवलिदिन्नबी !

नबी की सुन्नतों से ये जहाँ सारा महक उठे
उसी ख़ुश्बू से ‘आलम को मेरे ‘अत्तार महकाएँ
ये पहुँचाने को हम भी बाज़ू बन जाएँ
इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ

इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ
नबी की सुन्नतों को घर घर पहुँचाएँ

‘अमल भी लाज़मी करना, सिर्फ़ ना’तें नहीं पढ़ना
बिलाल-ए-क़ादरी ऐसा सफ़र हो फिर दु’आ करना
मदीने हम जाएँ, ना’तें भी सुनाएँ
इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ

इस बार कुछ ऐसा मीलाद मनाएँ
नबी की सुन्नतों को घर घर पहुँचाएँ

मीलाद ! मीलाद ! सरकार का मीलाद !
मीलाद ! मीलाद ! मेरे आक़ा का मीलाद !

मरहबा ! मरहबा ! मवलिदिन्नबी !
मरहबा ! मरहबा ! मवलिदिन्नबी !

शायर:
अल्लामा हाफ़िज़ बिलाल क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
अल्लामा हाफ़िज़ बिलाल क़ादरी

 

is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n
gharo.n ke saath aaj dil bhi sajaae.n

marhaba ! marhaba ! mawlidinnabi !
marhaba ! marhaba ! mawlidinnabi !

is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n
gharo.n ke saath aaj dil bhi sajaae.n

is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n
nabi ki sunnato.n ko ghar ghar pahunchaae.n

is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n
naamoos-e-aaqa par ham pahra lagaae.n

marhaba ! marhaba ! mawlidinnabi !
marhaba ! marhaba ! mawlidinnabi !

nabi zikr aa’la hai, nabi ki shaan baala hai
yahi izhaar karne ko sajaawaT aur ujaala hai
ho zaahir bhi achchha, baatin bhi chamkaae.n
is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n

is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n
gharo.n ke saath aaj dil bhi sajaae.n

marhaba ! marhaba ! mawlidinnabi !
marhaba ! marhaba ! mawlidinnabi !

aqeeda ho nubuwwat ka ya naamoos-e-risaalat ho
jo chhe.De koi is qanoon ko, samjho qayaamat ho
jo shaatim ho use ham ulTa laTkaae.n
is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n

is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n
naamoos-e-aaqa par ham pahra lagaae.n

Gulaami ahl-e-bait-e-paak ki aisi zamaanat hai
jo ho in se mohabbat to nateeja apna jannat hai
muhibb-e-panj-tan ham aise ban jaae.n
is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n

is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n
nabi ki sunnato.n ko ghar ghar pahunchaae.n

meelaad ! meelaad ! sarkaar ka meelaad !
meelaad ! meelaad ! mere aaqa ka meelaad !

sahaaba aur ahl-e-bait hamaare hai.n, hamaare hai.n
hai ahl-e-bait naao to sahaaba bhi sitaare hai.n
sahaaba ki azmat ke ham to gun gaae.n
is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n

is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n
naamoos-e-aaqa par ham pahra lagaae.n

nabi ke deen ke KHaadim fida naamoos-e-aaqa par
hue mumtaaz wo dono.n jahaa.n me.n surKHroo ho kar
unhi ke is mishan ko aage ba.Dhaae.n
is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n

is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n
naamoos-e-aaqa par ham pahra lagaae.n

marhaba ! marhaba ! mawlidinnabi !
marhaba ! marhaba ! mawlidinnabi !

nabi ki sunnato.n se ye jahaa.n saara mahak uThe
usi KHushboo se ‘aalam ko mere ‘attar mahkaae.n
ye pahunchaane ko ham bhi baazoo ban jaae.n
is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n

is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n
nabi ki sunnato.n ko ghar ghar pahunchaae.n

‘amal bhi laazmi karna, sirf naa’te.n nahi.n pa.Dhna
Bilaal-e-qadri aisa safar ho phir du’aa karna
madine ham jaae.n, naa’te.n bhi sunaae.n
is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n

is baar kuchchh aisa meelaad manaae.n
nabi ki sunnato.n ko ghar ghar pahunchaae.n

meelaad ! meelaad ! sarkaar ka meelaad !
meelaad ! meelaad ! mere aaqa ka meelaad !

marhaba ! marhaba ! mawlidinnabi !
marhaba ! marhaba ! mawlidinnabi !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *