Hasnain Ka Dilbar Hai Zahra Ka Dulaara Hai Naat Lyrics

Hasnain Ka Dilbar Hai Zahra Ka Dulaara Hai Naat Lyrics

 

 

मीराँ, मीराँ ! मेरे मीराँ, मीराँ !
मीराँ, मीराँ ! मेरे मीराँ, मीराँ !

या ग़ौस ! अल-मदद, या ग़ौस ! अल-मदद

शाह-ए-जीलाँ ! पीर-ए-पीराँ !
शाह-ए-जीलाँ ! पीर-ए-पीराँ !

हसनैन का दिलबर है, ज़हरा का दुलारा है
बग़दाद का आक़ा है, जो पीर हमारा है

जो चाहे ‘अता कर दो, जब चाहो ‘अता कर दो
ख़ल्क़त भी तुम्हारी है, ख़ालिक़ भी तुम्हारा है

हसनैन का दिलबर है, ज़हरा का दुलारा है
बग़दाद का आक़ा है, जो पीर हमारा है

हर राह मु’अत्तर है, लगता है मदीना है
बग़दाद की गलियों का क्या ख़ूब नज़ारा है

हसनैन का दिलबर है, ज़हरा का दुलारा है
बग़दाद का आक़ा है, जो पीर हमारा है

शैतान लरज़ उठे, दिल काँप उठे जिस से
सौ ना’रों का इक ना’रा, या ग़ौस का ना’रा है

हसनैन का दिलबर है, ज़हरा का दुलारा है
बग़दाद का आक़ा है, जो पीर हमारा है

माँगो तो ‘अता करना, ये तौर है दुनिया का
बिन माँगे ‘अता करना शेवा ही तुम्हारा है

हसनैन का दिलबर है, ज़हरा का दुलारा है
बग़दाद का आक़ा है, जो पीर हमारा है

रुस्वा न हुआ होगा रिज़वाँ कभी दुनिया में
उस को शह-ए-जीलाँ की निस्बत का सहारा है

हसनैन का दिलबर है, ज़हरा का दुलारा है
बग़दाद का आक़ा है, जो पीर हमारा है

नात-ख़्वाँ:
अक़्सा अब्दुल हक़

 

meeraa.n, meeraa.n ! mere meeraa.n, meeraa.n !
meeraa.n, meeraa.n ! mere meeraa.n, meeraa.n !

ya Gaus ! al-madad, ya Gaus ! al-madad

shaah-e-jeelaa.n ! peer-e-peeraa.n !
shaah-e-jeelaa.n ! peer-e-peeraa.n !

hasnain ka dilbar hai, zahra ka dulaara hai
baGdaad ka aaqa hai, jo peer hamaara hai

jo chaahe ‘ata kar do, jab chaaho ‘ata kar do
KHalqat bhi tumhaari hai, KHaaliq bhi tumhaara hai

hasnain ka dilbar hai, zahra ka dulaara hai
baGdaad ka aaqa hai, jo peer hamaara hai

har raah mu’attar hai, lagta hai madina hai
baGdaad ki galiyo.n ka kya KHoob nazaara hai

hasnain ka dilbar hai, zahra ka dulaara hai
baGdaad ka aaqa hai, jo peer hamaara hai

shaitaan laraz uThe, dil kaanp uThe jis se
sau naa’ro.n ka ik naa’ra, ya Gaus ka naa’ra hai

hasnain ka dilbar hai, zahra ka dulaara hai
baGdaad ka aaqa hai, jo peer hamaara hai

maango to ‘ata karna, ye taur hai duniya ka
bin maange ‘ata karna shewa hi tumhaara hai

hasnain ka dilbar hai, zahra ka dulaara hai
baGdaad ka aaqa hai, jo peer hamaara hai

ruswa na huaa hoga Rizwaa.n kabhi duniya me.n
us ko shah-e-jeelaa.n ki nisbat ka sahaara hai

hasnain ka dilbar hai, zahra ka dulaara hai
baGdaad ka aaqa hai, jo peer hamaara hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *