Hamari Itni Khataon Par Bhi Naat Lyrics

 

Hamari Itni Khataon Par Bhi Naat Lyrics

 

Hamari Itni Khataon Par Bhi

Nibha Rahe Hain Madina Wale

Gira Rahe Hain Zamane Wale

Utha Rahe Hain Madine Wale

 

Meri Haqiqat Meri Kahani

Bas Itini Hai Meri Zindgani

Khuda Ne Paida Kiya Hai Mujhko

Khila Rahe Hain Madine Wale

 

Jo Nek Hain Unko Apni Janib

Bula Rahi Hai Khida Ki Rahmat

Gunahgaron Ko Apni Janib

Bula Rahe Hain Madine Wale

 

Koi Hai Gora Koi Hai Kala

Isi Me Duniya Fasi Hui Thi

Ye Farq Duniya Ki Zahniyat Se

Mita Rahe Hain Madine Wale

 

Koi Hai Hassan, Koi Hai Saadi

Koi Hai Jaami, Koi Hai Khusro

Mere Raza Ko Bhi Aala Hazrat

Bana Rahe Hain Madine Wale

 

Hussain Wo Jisko Mustafa Ne

Kaha Tha Jannat Ka Phool Hai Ye

Wo Phool Karbo-Bala Ki Khatir

Luta Rahe Hain Madine Wale

 

Ghatane Walon Se Koi Kah De

Ghata Na Paoge Hashr Tak Tum

Hamare Akhtar Raza Ki Shohrat

Badha Rahe Hain Madine Wale

 

Jahan Me Jisko Koi Na Pochhe

Koi Na Dekhe, Koi Na Jaane

Use Bhi Noore Mujassam Apna

Bana Rahe Hain Madine Wale

 

Naat Khwan: Ghulam Noore Mujassam

Hamari Itni Khataon Par Bhi Naat Lyrics Hindi
हमारी इतनी ख़ताओं पर भी

निभा रहे हैं मदीने वाले !!

गिरा रहे हैं ज़माने वाले

उठा रहे हैं मदीने वाले !!

 

मेरी हक़ीक़त, मेरी कहानी

बस इतनी है मेरी ज़िन्दगानी !!

ख़ुदा ने पैदा किया है मुझको

खिला रहे हैं मदीने वाले !!

 

जो नेक हैं उनको अपनी जानिब

बुला रही है ख़ुदा की रह़मत !!

गुनाहगारों को अपनी जानिब

बुला रहे हैं मदीने वाले !!

 

कोई है हस्सां, कोई है सादी

कोई है जामी, कोई है ख़ुसरो !!

मेरे रज़ा को भी आला हज़रत

बना रहे हैं मदीने वाले !!

 

कोई है गोरा कोई है काला

इसी में दुनिया फसी हुई थी

ये फ़र्क़ दुनिया की ज़हनियत से

मिटा रहें हैं मदीने वाले

 

 

हुसैन वो जिसको मुस्तफ़ा ने

कहा था जन्नत का फूल है ये !!

वो फूल कर्बोबला की ख़ातिर

लुटा रहे हैं मदीने वाले !!

 

इस जहां में जिसको कोई न पूछे

कोई न देखे कोई न जाने !!

उसे भी नूर ए मुजस्सम अपना

बना रहे हैं मदीने वाले !!

By sulta